अब 'ताजनगरी' की भी बढ़ेगी रफ्तार, शहर में जल्द दौड़ेगी मेट्रो

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश मेट्रो तय समय से पहले ही लखनऊ मेट्रो बनाकर एक मिसाल कायम कर चुकी है. कानपुर में भी अच्छी रफ्तार के साथ सिविल निर्माण का काम लगभग पूरा होने को है. 8 मार्च 2019 को प्रधानमंत्री द्वारा कानपुर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आगरा मेट्रो रेल परियोजना का शिलान्यास किया गया था. 

अब 'ताजनगरी' की भी बढ़ेगी रफ्तार, शहर में जल्द दौड़ेगी मेट्रो
सांकेतिक तस्वीर.

आगरा: उत्तर प्रदेश की ताजनगरी आगरा को जल्द ही मेट्रो ट्रेन की सौगात मिलने वाली है. योगी सरकार ने आगरा में मेट्रो चलाने का फैसला कर लिया है. इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 7 दिसंबर को आगरा मेट्रो रेल परियोजना के निर्माण कार्य का शुभारंभ करेंगे. सीएम योगी आदित्‍यनाथ की मौजूदगी में पीएम मोदी योजना का वर्चुअल शुभारंभ करेंगे. बता दें, सरकार की योजना के मुताबिक 2 साल बाद आगरा के लोग मेट्रो की सवारी का आनंद उठा पाएंगे. इसके लिए UPMRC (उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ) को आदेश जारी कर दिए गए हैं कि योजना का पहला चरण दिसंबर 2022  तक पूरा हो जाना चाहिए. 

ये भी पढ़ें: यह है आपके 2021 का Holiday Calendar, प्लान कर लें अपनी छुट्टियां और ट्रिप्स

सबसे कम समय में मेट्रो बनाने का लक्ष्य 
प्रदेश की जनता को सुगम यातायात उपलब्‍ध कराने के लिए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने मेट्रो रेल परियोजना की रफ्तार बढ़ा दी है. लखनऊ में मेट्रो संचालन तो शुरू हो ही गया है. साथ ही कानपुर में भी बहुत जल्द मेट्रो रेल दौड़ने वाली है. दोनों शहरों के बाद अब योगी सरकार का प्लान है आगरा के लोगों को मेट्रो का सफर कराना. वह भी अब तक के सबसे कम समय का रिकॉर्ड बनाने के लक्ष्‍य के साथ. सीएम योगी मेट्रो के इस प्रोजेक्ट पर खुद नजर रख रहे हैं. 

8 हजार करोड़ से ज्यादा का है प्रोजेक्ट 
तय योजना के तहत पहले चरण में दिसम्‍बर 2022 तक सिकन्दरा से ताज ईस्ट गेट तक मेट्रो का परिचालन शुरू कर दिया जाएगा. आगरा मेट्रो की कुल लागत (सेंट्रल टैक्स सहित) 8379.62 करोड़ रुपये होगी. इसमें प‍हले चरण में सिकंदरा से ताज ईस्‍ट गेट कॉरिडोर तैयार किया जाएगा. इसके लिए सबसे पहले ताज ईस्‍ट से जामा मस्जिद तक 6 किलोमीटर तक प्राथमिक सेक्‍शन तैयार किया जाएगा. इस सेक्‍शन में कुल 6 मेट्रो स्‍टेशन बनाए जाएंगे. 

ये भी पढ़ें: कोरोना को हराने के लिए योगी सरकार का एक और कदम, कोविड सेंटर ढूंढ कर देगा यह 'लोकेटर' ऐप

यह होगा पहला रूट 
पहले रूट में ताज ईस्ट गेट, बसई, फतेहाबाद रोड 3 ओवर दि ग्राउंड मेट्रो स्‍टेशन बनेंगे. ताज महल, आगरा फोर्ट और जामा मस्जिद अंडरग्राउंड मेट्रो स्टेशन होंगे. दूसरा कॉरिडोर, आगरा कैंट से कालिंदी विहार के बीच बनाया जाएगा. इस कॉरिडोर की लंबाई 15.4 किलो मीटर होगी और इसके अंतर्गत कुल 14 स्टेशन होंगे. दूसरे कॉरिडोर में शहर के आगरा कैंट, सदर बाज़ार, कलेक्ट्रेट, सुभाष पार्क, आगरा कॉलेज, हरिपर्वत चौराहा, संजय प्लेस, एमजी रोड, सुल्तानगंज क्रासिंग, कमला नगर, रामबाग़, फाउंड्री नगर, आगरा मंडी और कालिंदी विहार पर मेट्रो स्टेशनों का निर्माण किया जाएगा. आगरा मेट्रो रेल परियोजना के प्राथमिक सेक्शन के एलिवेटेड सेक्शन के सिविल निर्माण का कॉन्ट्रैक्ट मेसर्स सैम (इंडिया) बिल्टवेल प्राइवेट लि. को दिया गया है. 

पीएसी और मंडलायुक्‍त की जमीन पर बनेगा डिपो 
आगरा मेट्रो रेल परियोजना में कॉरिडोर-1 का डिपो तैयार करने के लिए  9.37 हेक्टेयर जमीन चयनित की गई है. इसमें से 8.09 हेक्टेयर जमीन पीएसी 15वीं वाहिनी और 1.28 हेक्टेयर जमीन मण्डलायुक्त कार्यालय की है. आगरा मेट्रो रेल परियोजना के डिपो के निर्माण कार्य का जिम्‍मा मेसर्स लीशा इंजीनियर्स प्राइवेट लि. को दिया गया है. 

ये भी पढ़ें: फर्जी टीचर्स पर योगी सरकार का चला चाबुक, नौकरी के साथ देनी होगी पूरी कमाई

ये होगा कारीडोर
आगरा मेट्रो रेल परियोजना के तहत 29.4 किलोमीटर लंबे 2 कॉरिडोर्स बनाने का प्लान है. इसमें सिकंदरा से ताज ईस्‍ट गेट कुल 14 किलोमीटर एक कॉरिडोर तैयार किया जाएगा, जिसमें 6 ओवर दि ग्राउंड और 7 अंडरग्राउंड स्‍टेशन होंगे. जबकि 15.4 किलोमीटर लम्‍बे आगरा कैंट से कालिंदी विहार कॉरिडोर में 14 उपरिगामी स्‍टेशन होंगे. 

लाखों को सफर कराएगी मेट्रो 
मेट्रो रेल परियोजना से आगरा की 26 लाख से अधिक आबादी को फायदा मिलेगा. हर साल आगरा आने वाले लगभग 60 लाख टूरिस्ट के लिए मेट्रो एक शानदार सेवा होगी. मेट्रो के रूप में आगरा शहर को एक अत्याधुनिक और वैश्विक स्तर का मास रैपिड ट्रांज़िट सिस्टम (एमआरटीएस) मिल रहा है. आगरा मेट्रो के कॉरिडोर्स इस तरह से प्‍लान किए गए हैं कि शहर के 4 मेन रेलवे स्टेशनों, बस डिपो, कॉलेजों, प्रमुख बाज़ारों और टूरिस्ट स्पॉट्स को आपस में जोड़ा जा सके. 

ये भी पढ़ें: प्रयागराज कुंभ में प्रदेश सरकार से 109 करोड़ की ठगी कर रहे थे 'लल्लू जी एंड संस', अब धरे गए

पर्यावरण का ख्याल रखेगी मेट्रो 
यूपी मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव का कहना है कि आगरा मेट्रो पर्यावरण के अनुकूल, आरामदायक और बाधारहित पब्लिक ट्रांसपोर्ट बनेगी. ताजमहल और आगरा फोर्ट जैसे टूरिस्ट स्पॉट्स तक जाना आसान हो जाएगा. इसका सबसे बड़ा फायदा टूरिज्म डेवलपमेंट में होगा. टीम के लिए निर्धारित समय-सीमा के अंदर, शहर के बीच में मेट्रो कॉरिडोर का निर्माण करना एक बड़ी चुनौती है. लेकिन इसे तय समय में ही पूरा किया जाएगा. 

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश मेट्रो तय समय से पहले ही लखनऊ मेट्रो बनाकर एक मिसाल कायम कर चुकी है. कानपुर में भी अच्छी रफ्तार के साथ सिविल निर्माण का काम लगभग पूरा होने को है. 8 मार्च 2019 को प्रधानमंत्री द्वारा कानपुर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आगरा मेट्रो रेल परियोजना का शिलान्यास किया गया था. 

WATCH LIVE TV