close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चंद्रशेखर से प्रियंका गांधी वाड्रा की मुलाकात के बाद मायावती से मिले अखिलेश

प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद से मेरठ के एक अस्पताल में मुलाकात की .

चंद्रशेखर से प्रियंका गांधी वाड्रा की मुलाकात के बाद मायावती से मिले अखिलेश
बीएसपी चीफ मायावती और एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) मुखिया अखिलेश यादव ने बुधवार को बीएसपी सुप्रीमो मायावती से मुलाकात की. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की मेरठ में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर से मुलाकात के कुछ ही घंटे बाद अखिलेश ने मायावती से भेंट की.

एसपी प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बताया कि यह मुलाकात आगामी लोकसभा चुनाव के लिए होने वाली रैलियों, सभाओं और बैठकों के सिलसिले में थी. उन्होंने बताया कि चुनाव करीब आ रहे हैं. होली के बाद चुनाव प्रचार की पूर्णतया शुरूआत कर दी जाएगी. चौधरी ने बताया कि गठबंधन ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के लिए दो सीटें छोड़ी हैं और ईमानदारी से पूरा समर्थन किया जाएगा.

उधर सपा के एक अन्य वरिष्ठ नेता ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका की भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर के साथ मुलाकात बसपा सुप्रीमो मायावती के फैसले की प्रतिक्रिया है. उल्लेखनीय है कि मायावती ने कांग्रेस के साथ गठबंधन की किसी संभावना से इनकार कर दिया है. उन्होंने कहा, 'लेकिन मायावती किसी दबाव में नहीं आने वाली हैं ... यह गठबंधन दबाव में नहीं आएगा ... इसने (गठबंधन) पहले ही कांग्रेस को दो सीटें दे दी हैं.'

बता दें कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को मेरठ में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद से अस्पताल में मुलाकात की .एक दिन पहले ही आजाद को इस अस्पताल में भर्ती कराया गया था और प्रियंका उनका हालचाल जानने आईं थीं .

प्रियंका बुधवार शाम अचानक मेरठ के एक निजी अस्पताल में भर्ती भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर से मिलने पहुंची थीं. उनके साथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और पश्चिम उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद थे.

इस दौरान मीडिया से बातचीत में प्रियंका गांधी ने इतना ही कहा,‘चंद्रशेखर से मिलने के लिए अस्पताल आने में कोई राजनीति नहीं है .मैं इस लड़के से मिलने आई हूं, क्योंकि चन्द्रशेखर का संघर्ष मुझे पसंद आया. उसने अपने लोगों के लिए संघर्ष किया है.’