close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अयोध्या दीपोत्सव 2019 में फिर से बना विश्व रिकॉर्ड, 6 लाख से ज्यादा दीये जले

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने भगवान राम, सीता एवं लक्ष्मण के स्वरूप का माल्यार्पण कर स्वागत किया.

अयोध्या दीपोत्सव 2019 में फिर से बना विश्व रिकॉर्ड, 6 लाख से ज्यादा दीये जले
रामकथा पार्क में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भगवान राम के स्वरूप का राज्याभिषेक किया.

अयोध्या: तीर्थ नगरी अयोध्या (Ayodhya) में शनिवार को दीपोत्सव का कार्यक्रम हो रहा है. गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम ने दीपोत्सव को लेकर फाइनल सर्वे शुरु किया. इसके बाद टीम ने बताया कि 6 लाख ज्यादा दीये इस दौरान प्रज्जवलित किए गए. यह एक नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बन गया है. जल्द ही टीम द्वारा दीयों की ड्रोन से ली गई तस्वीर जारी की जाएगी.

रिकॉर्ड का सर्टिफिकेट देते समय घोषणा की गई है कि 4 लाख 10 हजार दीये सरयू के तट पर और दो लाख दीये पूरी अयोध्या में अन्य जगहों पर जलाए गए. इस दौरान सरयू तट पर लेजर शो के माध्यम से रामायण का चित्रण शुरू भी किया गया.

इससे पहले भगवान राम व माता जानकी पुष्पक विमान के प्रतीक रूपी हेलीकॉप्टर से रामकथा पार्क में पहुंचे. पुष्पक विमान के प्रतीक रूपी हेलीकॉप्टर के सरयू तट पर उतरने के बाद राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath), केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने भगवान राम, सीता एवं लक्ष्मण के स्वरूप का माल्यार्पण कर स्वागत किया. इसके बाद रामकथा पार्क में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भगवान राम के स्वरूप का राज्याभिषेक किया. 

रामकथा पार्क में सीएम योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 226 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास बटन दबाकर किया. इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि भगवान राम के राजतिलक में आये सभी लोगों का धन्यवाद. उन्होंने कहा कि आज का दिन बेहद खास है. जहां एक तरफ राजतिलक हुआ है, तो वहीं अवधपुरी को मर्यादा पुरुषोत्तम राम की अवधपुरी की तरह विकसित करने के लिए 226 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया गया है. उन्होंने कहा कि आम जनमानस को जगाने में करीब 68 साल लग गए. उन्होंने कहा कि दीपोत्सव के इस कार्यक्रम से लोगों की आस्था बढ़ी है. 

सीएम योगी ने कहा कि भारत की सांस्कृतिक परम्परा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश दुनिया मे फैलाया है. उन्होंने कहा कि रामराज्य शासन की व्यवस्था है, जिसमें किसी के साथ किसी आधार पर कोई भेदभाव ना हो. विगत पांच सालों में इसे पीएम मोदी ने इसे स्थापित किया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे लिये दुनिया कटुम्ब के समान है. भारत आज दुनिया में विश्वशक्ति के रूप में स्थापित हो रहा है. उन्होंने कहा कि पहले की सरकारें अयोध्या के नाम डरती थीं. लेकिन, पिछले ढाई साल में मैं डेढ़ दर्जन बार अयोध्या आ चुका हूं.

सीएम ने कहा कि अब हर की पैड़ी की तरह राम की पैड़ी में भी लोग नहा सकते हैं. योगी ने कहा कि अयोध्या की पहचान वापस दिलानी है. अयोध्या को अवधपुरी का सम्मान दिलाएंगे. उन्होंने कहा कि आज की अयोध्या त्रेता की अयोध्या की तरह लग रही है. यह कार्यक्रम 5 दिनों तक चलेगा. इसी के साथ चीफ पोस्टमास्टर जनरल उत्तरप्रदेश और यूपी की राज्यपाल ने दीपोत्सव को समर्पित डाक टिकट जारी किया. अयोध्या के दीपोत्सव की स्मृति में यह डाक टिकट जारी किया गया है. इस दौरान यूपी सरकार के करीब एक दर्जन मंत्री भी मौजूद हैं. 

बता दें कि रामनगरी में 7 देशों की रामलीला लोगों के आकर्षण का केंद्र होगा. अयोध्या में थ्री-डी तकनीक से रामकथा के मंथन की तैयारी की गई है. साथ ही शाम सात बजे से साढ़े सात बजे तक सरयू के सभी घाटों और अयोध्या में पांच लाख 51 हजार दीयों को प्रज्जवलित किया जाएगा. 

राम नगरी अयोध्या (Ayodhya) में आयोजित दीपोत्सव (Deepotsav) में एक बार फिर यूपी सरकार (UP Government) विश्व रिकॉर्ड (World record) बनाने की तैयारी में जुट गई है. आज (26 अक्टूबर) पूरी रामनगरी में 5 लाख 51 हजार दीप जलाए जा रहे हैं. इनमें से 3 लाख 21 हजार दीप राम की पैड़ी पर जलाए जा रहे हैं. दीपोत्सव के दीयों को जलाने के लिए 21000 लीटर सरसों के तेल का इस्तेमाल होगा. हर दीये में 40 बार तेल डाला जाएगा.

इस तेल को फैजाबाद व आस-पास के जिलों से जुटाया गया है. वहीं, दीयों को जलाने के काम में आने वाली पांच लाख रुई की बत्ती लखनऊ से मंगवाई गई हैं. इस दौरान फिजी की डिप्टी स्पीकर बीना भटनागर, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत राज्य सरकार के कई मंत्री अयोध्या में उपस्थित हैं.

दीपावाली के मौके पर सरयू नदी स्थित राम की पैड़ी पर 3 लाख 21 हजार दीप जलाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया जा रहा है. गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के कंसलटेंट निश्चल ने बताया कि सभी दियो को एक खास पैटर्न में रखा गया है, ताकि गिनती के समय परेशानी का सामना न करना पड़े. उन्होंने बताया कि वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के लिए सभी दियों को 5 मिनट तक जलना जरूरी है. उन्होंने कहा कि सभी दियों के जलने के बाद ही वर्ल्ड रिकॉर्ड बनना संभव हो पाएगा. 

अयोध्या में राम की पैड़ी को सजाने संवारने के बाद अवध विश्वविद्यालय के 6,000 वॉलिंटियर्स राम की पैड़ी पर दीप बिछाने का काम किया. आज 5,51,000 दीपों में तेल और बाती अवध विश्वविद्यालय के वॉलिंटियर्स भरने का काम किया. अवध विश्वविद्यालय के छात्र-छात्रा अपने ही कीर्तिमान को दोबारा से तोड़ने की कोशिश में लगे हैं. पिछले साल 3 लाख 1 हजार 152 दीप जलाकर के अवध विश्वविद्यालय ने कीर्तिमान स्थापित किया था. 

इसी कड़ी में अवध विश्वविद्यालय का दृश्य एवं कला विभाग भी अब भगवान राम के पूरे परिवार के संग जमीनों की आकृति बनाकर कीर्तिमान स्थापित करने का काम किया. राम दरबार पर दीप को सजाकर एक अलग सा प्रकाश देंगी जो अभी तक सबसे अनूठा रहेगा. इससे पहले किसी ने इस तरीके की कवायद नहीं की थी.