close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बीएचयू हिंसा मामले में कांग्रेस के निशाने पर राष्ट्रीय महिला आयोग

सुष्मिता ने इस बारे में पूछे जाने पर कहा, ‘‘एनसीडब्ल्यू एक संवैधानिक संस्था है. आखिर उसका कार्यक्षेत्र क्या है? यदि वह इस मामले में काम नहीं करेगा तो कहां करेगा.’’

बीएचयू हिंसा मामले में कांग्रेस के निशाने पर राष्ट्रीय महिला आयोग
छेड़छाड़ के खिलाफ प्रदर्शन करती महिलाओं पर लाठीचार्ज के बाद बीएचयू कैम्पस में तैनात पुलिसकर्मी. (IANS/26 Sep, 2017)

नई दिल्ली: महिला कांग्रेस की नवनियुक्त अध्यक्ष एवं लोकसभा सदस्य सुष्मिता देव ने बीएचयू में छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज को लेकर राष्ट्रीय महिला आयोग पर बरसते हुए गुरुवार (28 सितंबर) को कहा कि इस मामले में ‘‘उसकी निष्क्रियता शर्मनाक है’’. साथ ही उन्होंने कहा कि वह इसके विरोध में आयोग को एक पत्र लिखकर पूरे मामले की जांच कराने की मांग करेंगी. सुष्मिता ने गुरुवार को इस बारे में पूछे जाने पर कहा, ‘‘एनसीडब्ल्यू एक संवैधानिक संस्था है. आखिर उसका कार्यक्षेत्र क्या है? यदि वह इस मामले में काम नहीं करेगा तो कहां करेगा.’’  उन्होंने कहा, ‘‘उसकी (एनसीडब्ल्यू की) निष्क्रियता बहुत शर्मनाक है.’’ सुष्मिता ने कहा कि वह कल ही इसके विरोध में एनसीडब्ल्यू को पत्र लिखकर पूरे मामले की जांच कराने के लिए कहेंगी.

इस बीच, राष्ट्रीय महिला आयोग की वरिष्ठ सदस्य रेखा शर्मा ने बताया कि आयोग (एनसीडब्ल्यू) बनारस हिन्दू विश्विविद्यालय में पिछले सप्ताह लड़कियों पर हुए कथित लाठीचार्ज के मामले में सारे तथ्यों का पता लगाने के लिए वहां जांच दल भेजने के बारे में शुक्रवार (29 सितंबर) को फैसला कर सकता है. उन्होंने बताया कि आयोग के एक जांच दल को वहां भेजा जा सकता है जिसके बारे में शुक्रवार को निर्णय किया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘‘अभी तो वहां छात्र छुट्टी पर गये हुए हैं. हम पता करवायेंगे कि छात्र कब छुट्टी से वापस लौट रहे हैं. इस बारे में कल (शुक्रवार, 29 सितंबर) ही कुछ बता पाऊंगी. अभी वहां प्रोफेसर और अन्य अधिकारी भी दशहरे की छुट्टी पर होंगे.’’

एक प्रश्न के उत्तर रेखा ने बताया कि इस बारे में शुक्रवार (29 सितंबर) को जब आयोग फैसला ले लेगा तो उसके बाद इस पूरे घटनाक्रम के बारे में स्थानीय प्रशासन से स्पष्टीकरण मांगा जाएगा. बीएचयू में सुरक्षा की मांग कर रही छात्राओं पर 23 सितंबर की रात पुलिस द्वारा कथित रूप से लाठीचार्ज किया गया था.

बीएचयू तनाव: लाठीचार्ज मामले में बैकफुट पर प्रशासन, प्रो. रोयाना सिंह नई चीफ प्रॉक्टर

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में गत शनिवार (23 सितंबर) रात छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज के मामले को लेकर बैकफुट पर आए विश्वविद्यालय प्रशासन ने अपने प्रॉक्टोरियल बोर्ड का मुखिया बदल दिया है. बीएचयू की नई चीफ प्रॉक्टर प्रोफेसर रोयाना सिंह को बनाया गया है. बीएचयू के जनसंपर्क अधिकारी राजेश सिंह ने बताया कि प्रो. रोयाना सिंह को नया चीफ प्रॉक्टर बनाया गया है. इससे पूर्व बीएचयू के चीफ प्रॉक्टर ओ. एन. सिंह ने बीएचयू में हुई हिंसा की जिम्मेदारी लेते हुए मंगलवार (26 सितंबर) देर रात इस्तीफा दे दिया था. उनके इस्तीफे को कुलपति ने मंजूर कर लिया था.

शनिवार देर रात छेड़खानी के विरोध में धरने पर बैठी छात्राओं को हटाने के लिए वाराणसी पुलिस ने बल प्रयोग किया था. इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री ने वाराणसी के कमिश्नर से रिपोर्ट मांगी थी. कमिश्नर ने अपनी रिपोर्ट मुख्य सचिव राजीव कुमार को भेज दी जिसमें उन्होंने इस घटना के लिए बीएचयू प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया था.