Bike Bot Scam: 42 हजार करोड़ के बाइक बोट घोटाले में 2 और गिरफ्तार, दिल्ली में ठगे 250 करोड़ रुपये

इस मामले में दो और आरोपियों की गिरफ्तारी के साथ ही पुलिस अब तक इस मामले में 23 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है  

Bike Bot Scam: 42 हजार करोड़ के बाइक बोट घोटाले में 2 और गिरफ्तार, दिल्ली में ठगे 250 करोड़ रुपये
सांकेतिक फोटो

गौतमबुद्ध नगर: दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध निरोधक शाखा ने देश भर में फैले करीब 42 हजार करोड़ के पोंजी स्कीम ‘बाइक बोट’ घोटाले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है. दोनों आरोपी अब तक दिल्ली से करीब 800 लोगों को शिकार बनाकर ढाई सौ करोड़ रुपये की ठगी कर चुके हैं. बाइक बोट मामले में पुलिस अब तक 23 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है.

आरोपियों के खिलाफ कई राज्यों में अरबों रुपये की ठगी के मामले दर्ज 
आरोपियों की पहचान बद्री नारायण तिवारी और विजय शर्मा के रूप में हुई है. गिरफ्तार बदरी नारायण तिवारी राजाजीपुरम् लखनऊ और विजय कुमार शर्मा दिल्ली से सटे नोएडा के सेक्टर-100 में रह रहा था. आरोपियों के खिलाफ यूपी, दिल्ली सहित देश के अन्य कई राज्यों में अरबों रुपये की ठगी के मामले दर्ज हैं. इन दोनो ठगों की गिरफ्तारी की सूचना दिल्ली पुलिस ने अन्य संबंधित राज्य पुलिस को भी दे दी है. आरोपियों की गिरफ्तारी की पुष्टि मंगलवार को दिल्ली पुलिस आर्थिक अपराध निरोधक शाखा के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त आर. के.सिंह ने की.

शिकायतें दिल्ली आर्थिक अपराध शाखा के पास दर्ज
गर्वित इन्नोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड नाम की कंपनी चला रहे संजय भाटी व एक अन्य के नाम पर 42000 करोड रुपए की धोखाधड़ी करने के आरोप में शिकायतें दिल्ली आर्थिक अपराध शाखा के पास दर्ज है. आरोप है कि आरोपी पीड़ितों से एक बाइक पर 62,000 रुपये निवेश करने के लिए कहते थे इसके बदले में उन्हें 9500 रुपये किराया राशि के साथ प्रतिमाह मिलने का आश्वासन दिया जाता था.

गिरफ्तार लोगों का नाम गर्वित इंवोटिव प्रमोटर्स लिमिटेड से जुड़ा
दिल्ली पुलिस ने जिस मामले में बदरी नारायण तिवारी और विजय कुमार शर्मा को गिरफ्तार किया है, वो गर्वित इंवोटिव प्रमोटर्स लिमिटेड से जुड़ा हुआ है. कई पीड़ितों ने संजय भाटी और गारविट इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड (जीआईपीएल) के अन्य लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी, जिनका पंजीकृत कार्यालय गौतमबुद्धनगर में 42,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के लिए था. 

इसका मुख्यालय दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा के दादरी इलाके में स्थित है. दिल्ली पुलिस आर्थिक अपराध निरोधक शाखा अधिकारियों के मुताबिक इस कंपनी की आड़ में ठगों ने अब तक हजारों लोगों से करीब 42 हजार करोड़ की ठगी की है.

संजय भाटी है मुख्य आरोपी!
ठगी के अरबों रुपए के काले कारोबार का असली मास्टरमाइंड खिलाड़ी संजय भाटी ही है. अब तक इस मामले में हाल में गिरफ्तार दोनो ठगों सहित कुल 23 ठग गिरफ्तार किए जा चुके हैं. जबकि सैकड़ों की तादाद में फरार चल रहे ठगों की तलाश में दिल्ली सहित कई राज्यों की पुलिस छापे मार रही है.

क्या है बाइक बोट घोटाला ?
ग्रेटर नोएडा के दनकौर कोतवाली क्षेत्र के चीती गांव के रहने वाले संजय भाटी ने गर्वित इनोवेटिव के नाम से कंपनी खोली जिसको बाइक बोट के नाम से प्रमोट किया गया. कंपनी ने बाइक लगवाने के नाम पर निवेशकों से 62100 रुपये लिए गए और एक साल में दो गुना कर वापस करने का झांसा दिया गया. कुछ लोगों को ये रकम पहली दी भी गई. इसके बाद जब लोगों ने जब कई बाइक्स की रकम इंवेस्ट की तो कंपनी ने उनके पैसे डुबा दिए. 

वाराणसी में तैनात असिस्टेंट कमिश्नर GST ने खुद को गोली से उड़ाया, पुलिस जांच में जुटी

WATCH LIVE TV