बुलंदशहर हिंसा : इंस्‍पेक्‍टर सुबोध पर गोली चलाने वालों में शामिल था हत्‍यारोपी प्रशांत नट, पूछताछ में कुबूला

बुलंदशहर के एसपी सिटी अतुल कुमार श्रीवास्‍तव ने बताया कि प्रशांत नट ने पूछताछ के दौरान यह बात कुबूली है कि जिन लोगों ने हिंसा के दौरान इंस्‍पेक्‍टर सुबोध पर गोली चलाई थी, उनमें वह भी शामिल था.

बुलंदशहर हिंसा : इंस्‍पेक्‍टर सुबोध पर गोली चलाने वालों में शामिल था हत्‍यारोपी प्रशांत नट, पूछताछ में कुबूला
पुलिस पूछताछ में प्रशांत ने बात कुबूली. फोटो ANI

नई दिल्‍ली/मेरठ : उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में कथित तौर से गोकशी की बात सामने आने पर भड़की हिंसा (Bulandshahr Violence) में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हुई हत्या के मामले में मुख्य आरोपी प्रशांत नट को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) बुलंदशहर प्रभाकर चौधरी ने गुरुवार को नट की गिरफ्तारी की पुष्टि की. उन्होंने यह भी बताया कि नट ने ही सिंह की हत्या की थी.

वहीं बुलंदशहर के एसपी सिटी अतुल कुमार श्रीवास्‍तव ने बताया कि प्रशांत नट ने पूछताछ के दौरान यह बात कुबूली है कि जिन लोगों ने हिंसा के दौरान इंस्‍पेक्‍टर सुबोध पर गोली चलाई थी, उनमें वह भी शामिल था. हालांकि, हत्या में इस्तेमाल किया गया रिवाल्वर अभी बरामद नहीं हो पाया है.


फाइल फोटो

आत्मरक्षा में चली गोली से हुई थी सुमित की मौत
बुलंदशशहर के एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि इंस्पेक्टर ने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी, जिसमें सुमित नाम के युवक की मौत हो गई थी. उसकी उम्र 20 साल के करीब थी. पुलिस सूत्रों के अनुसार 'वीडियो फुटेज’ और कुछ लोगों की गवाही के आधार पर इंस्पेक्टर की हत्या में नट को संदिग्ध पाया गया. गत तीन दिसंबर को हुई इस घटना के सिलसिले में बुलन्दशहर पुलिस ने अब तक 22 लोगों को गिरफ्तार किया है और छह से अधिक लोगों ने अदालत में आत्मसमर्पण किया है. गौरतलब है कि बुलंदशहर में भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध के अलावा एक अन्य युवक की मौत हो गई थी. 

सरेंडर के लिए डाल चुका था याचिका
इंस्पेक्टर की हत्या करने का पुलिस को चिंगरावठी के प्रशांत नट पर शक था. हिंसा के बाद से प्रशांत और उसका पूरा परिवार गांव से फरार था. आपको बता दें कि चिंगरावठी का प्रशांत नट न्यायालय में सरेंडर के लिए याचिका भी डाल चुका था.


मामले में गिरफ्तार किया गया सेना का जवान जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू. फाइल फोटो

जीतू भी हुआ है गिरफ्तार
वहीं बुलंदशहर हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर की मौत से जुड़े मामले में गिरफ्तार किए गए सेना के जवान जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था. जीतू को को एक स्थानीय अदालत में पेश करने के बाद यह आदेश दिए गए थे. बता दें कि जीतू को अदालत में पेश करने से पहले यूपी एसटीएफ ने उससे पूछताछ की थी. जीतू से स्‍याना पुलिस स्‍टेशन में पूछताछ की की थी. यूपी एसटीएफ के एसएसपी का कहना है कि आरोपी जवान जीतू ने बुलंदशहर हिंसा के दौरान उपद्रवियों की भीड़ में शामिल होने की बात कुबूली है.