सरकार ने सोशल मीडिया से 100 से ज्यादा पोस्ट कराईं 'OUT', कोरोना पर झूठ की 'NO ENTRY'

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से 100 से ज्यादा पोस्टों को भ्रामक झूठी करार देते हुए सरकार ने हटवा दिया है. IT मंत्रालय के मुताबिक कोरोना पर इन सभी पोस्ट पर झूठ और भ्रामक चीजें परोसी जा रही थी, जो देश के लिए हानिकारक थी

सरकार ने सोशल मीडिया से 100 से ज्यादा पोस्ट कराईं 'OUT', कोरोना पर झूठ की 'NO ENTRY'

लखनऊ: कोरोना महामारी से पूरा देश त्रस्त है और दहशत में भी है. संकट के इस दौर में सोशल मीडिया को लोग मदद के लिए बड़ा सहारा मान रहे हैं, सोशल मीडिया पर मदद की गुहार से कई अनजाने भी मदद के लिए सामने आ रहे हैं, मगर इसी सोशल मीडिया का दूसरा पहलू खतरनाक रूप में सामने आ रहा है. सोशल मीडिया पर ऐसे-ऐसे पोस्ट भी परोसे जा रहे हैं, जिससे लोगों में दहशत बढ़ रही है. बताया जा रहा है कि पुरानी खबरों और पुरानी तस्वीरों को कोरोना बीमारी से जोड़कर सोशल मीडिया पर प्रसारित किया जा रहा है. इसे देखते हुए गृह मंत्रालय के निर्देश पर इलेक्ट्रॉनिक्स और IT मंत्रालय ने ऐसी 100 से ज्यादा पोस्ट सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से हटवा दी हैं.

'सोशल मीडिया का कर रहे गलत इस्तेमाल'
कई सोशल मीडिया यूजर्स सोशल साइट्स का गलत इस्तेमाल कर रहे थे, कोरोना महामारी को लेकर दुष्प्रचार किया जा रहा था, जिस पर सरकार की नजर पड़ी. बताया जा रहा है कि इसके बाद गृह मंत्रालय ने IT मंत्रालय को निर्देश दिया कि गलत और भ्रामक सूचनाओं पर रोक लगाई जाए. जिसके बाद सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट हटवाए गए. इन पोस्ट को हटवाने का मकसद यही है कि महामारी के खिलाफ जंग में खलल न पड़े और व्यवस्था में कोई बाधा न आए

कोरोना को बताया जा रहा था साजिश
बताया जा रहा है कि सोशल मीडिया के कुछ यूजर्स कोरोना महामारी को सिर्फ एक साजिश बता रहे थे और इसे प्रचारित कर रहे थे. यही नहीं कोरोना की गाइड लाइन जैसे मास्क पहनने और दूरी का पालन न करने की बातें भी फैला रहे थे. 

पुरानी तस्वीरें लगाने वाले अकाउंट ब्लॉक
IT मंत्रालय के निर्देश पर ऐसे अकाउंट ब्लॉक किए गए हैं, जो आज की इस महामारी के दौर में पुरानी घटनाओं को जोड़ रहे थे. कुछ पुरानी घटनाओं के मृतकों के फोटो और वीडियो को इस महामारी का बताते हुए उसे प्रचारित कर रहे थे, उनकी ऐसी भ्रामक पोस्ट को हटाने के साथ ही ऐसे यूजर्स के अकाउंट भी ब्लॉक कर दिए गए है.

WATCH LIVE TV