उत्तराखंडः चमोली में बादल फटने के बाद हर तरफ तबाही का माहौल, 6 लोगों की मौत
topStories0hindi562544

उत्तराखंडः चमोली में बादल फटने के बाद हर तरफ तबाही का माहौल, 6 लोगों की मौत

चमोली गढ़वाल में घाट क्षेत्र में बादल फटने से 6 लोगों की मौत हो गई.बाँजबगड़ में अब्बल सिंह नेगी की पत्नी रुपा देवी और 9 महीने की छोटी बेटी जिंदा दफ़्न हो गई.

उत्तराखंडः चमोली में बादल फटने के बाद हर तरफ तबाही का माहौल, 6 लोगों की मौत

चमोली: चमोली गढ़वाल में घाट क्षेत्र में बादल फटने से 6 लोगों की मौत हो गई. बाँजबगड़ में अब्बल सिंह नेगी की पत्नी रुपा देवी और 9 महीने की छोटी बेटी जिंदा दफ़्न हो गई. बाँसबगड़ गाँव में मातम पसरा है.अब्बल सिंह की 40 बकरियां 1 गाय और 4 बैल भी जिंदा दफ़्न हो गए. 12 अगस्त को बाँसबगड़,लाखी और आली गाँव में 6 लोगों की मौत बादल फटने से हुईं.बाँसबगड़ में कई खेत और मकानों को भी खतरा बना हुआ है.स्थानीय लोगों ने बताया कि 11 अगस्त को रात 8 बजे से बारिश शुरू हुई और सुबह 4 बजे बादल फटने के बाद चारों तरफ तबाही का मंजर था.

बादल फटने से घाट में 4 दुकानें ध्वस्त
11 अगस्त को शायद घाट क्षेत्र के लोगों को क्या मालूम रहा होगा कि आसमान से तबाही आने वाली है.11 अगस्त को रात आठ बजे से बारिश शुरू हुई और लगातार रात भर होती रही लेकिन सुबह 4 बजे बादल फटने के बाद बांजबगड़ में एक ही परिवार की 9 महीने की मासूम बेटी और उसकी माँ जिंदा दफ़्न हो गई.

घाट में एक दुकान भरभरा कर चुफलागाड़ में समा गई.चुफला गाड़ हर साल घाट क्षेत्र में तबाही मचाती है.इस इलाके में 2001 से पहले चुफलागाड़ नदी कोई भी नुकसान नही करती थी लेकिन अब ये नदी हर साल तबाही और मौत बरसा रही है.

नंदाकिनी घाटी में बारिश और बादल फटने के बाद काफी नुकसान पहुँचा दिया है.नंदाकिनी और  चुफलागाड़ ने काफी इस घाटी में तबाही मचाई है.इस घाटी में 2003 में इंटर कॉलेज बांजबगड़ की एक बिल्डिंग इसमें समा गई.अभी भी पूरे इलाके में बारिश हो रही है.कई गांवों में तबाही हुई है.लाखी,बांजबगड़ आली गाँव में काफी नुकसान हुआ है.

लाखी गाँव में 6 और 8 साल की दो छोटी बेटियों की मौत हो गई.लाखी गाँव में एक 21 साल के युवक अपनी दोनों छोटी बहनों से राखी बांधने के लिए आये थे.

Trending news