close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: कैंची नहीं मिलने पर मुरली मनोहर जोशी को आया गुस्सा, उखाड़कर फेंक दी रिबन

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी गुरुवार को कानपुर के डीएम ऑफिस में नाराज हो गए. दरअसल, मुरली मनोहर जोशी कानपुर के जिलाधिकारी ऑफिस (कलेक्ट्रेट) में सोलर लाइट पैनल का उद्धाटन करने पहुंचे थे.

VIDEO: कैंची नहीं मिलने पर मुरली मनोहर जोशी को आया गुस्सा, उखाड़कर फेंक दी रिबन
कानपुर के डीएम ऑफिस में बीजेपी सांसद मुरली मनोहर जोशी को आया गुस्सा.

कानपुर: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी गुरुवार को कानपुर के डीएम ऑफिस में नाराज हो गए. दरअसल, मुरली मनोहर जोशी कानपुर के जिलाधिकारी ऑफिस (कलेक्ट्रेट) में सोलर लाइट पैनल का उद्धाटन करने पहुंचे थे. कानुपर से बीजेपी सांसद मुरली मनोहर जोशी जब उद्घाटन की औपचारिकता पूरी करने के लिए रिबन काटने पहुंचे तो वहां कैंची का इंतजाम नहीं था. उद्धाटन स्थल पर बीजेपी सांसद ने कैंची मांगी तो वहां मौजूद अफसर और कर्मचारी बगल झांकने लगे. कुछ अफसर कैंची ढूंढने लगे, बस इसी बात पर मुरली मनोहर जोशी को गुस्सा आ गया.

इसके बाद मुरली मनोहर जोशी ने अपने हाथों से ही रिबन को उखाड़ दिया. आनन-फानन में जब उनके सामने कैंची पेश की गई तो उन्होंने उसे लेने से मना कर दिया और कहने लगे- 'कैंची की जरूरत नहीं है, निहायत बदतमीज आदमी हैं. क्या ऐसे काम होता है.?'

ये भी पढ़ें: योग करने से कम हो जाएंगी रेप की घटनाएं: मुरली मनोहर जोशी

न्यूज एजेंसी ANI की ओर से जारी वीडियो में दिख रहा है कि मुरली मनोहर जोशी बेहद गुस्से में दिख रहे हैं. वहां मौजूद लोग उन्हें शांत करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन वे सोलर लाइट पैनल का उद्घाटन किए बिना वहां से चले जाते हैं. वीडियो में मुरली मनोहर जोशी की बातें सुनकर लग रहा है कि वे यहां खुद को नजरअंदाज किए जाने से भी नाराज हो गए. वे कह रहे हैं कि मैं यहां उद्घाटन करने आया हूं और आप वहां खड़े हैं.

मालूम हो कि मुरली मनोहर जोशी 84 साल के हैं. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने उन्हें कानपुर से टिकट दिया था और वे फिलहाल यहीं से सांसद हैं. मुरली मनोहर जोशी पहले भी कई मौकों पर पत्रकारों पर गुस्सा होते रहे हैं. पिछले दिनों कानपुर की सड़कों पर कुछ लोगों ने उनके लापता होने के पोस्टर लगाए थे, जिससे जुड़े सवाल पर वे नाराज हो गए थे. बढ़ती उम्र के चलते वे अपने संसदीय क्षेत्र में कम ही जाते हैं.