बिना टेंशन कुंभ में आएं बुजुर्ग-दिव्यांग, होमगार्ड कराएंगे आपको स्नान; भोजन कराकर करेंगे विदा

कुंभ (Kumbh 2019) में बुजुर्गों और दिव्यांगों को भी मौनी अमावस्या (Mauni amavasya) के दिन संगम में स्नान करने का मौका मिले इसके लिए प्रशासन ने विशेष इंतजाम किए हैं. 

बिना टेंशन कुंभ में आएं बुजुर्ग-दिव्यांग, होमगार्ड कराएंगे आपको स्नान; भोजन कराकर करेंगे विदा
मौनी अमावस्या (Mauni amavasya) के मौके कुंभ (Kumbh 2019) में शाही स्नान होगा.
Play

प्रयागराज: मौनी अमावस्या (Mauni amavasya) पर होने वाले शाही स्नान को देखते हुए कुंभ (Kumbh 2019) में कई नए किस्म के इंतजाम किए हैं. प्रशासन और सरकारी अमला इस कोशिश में जुटा है कि कुंभ में आने वाले लोगों को किसी भी प्रकार की दिक्कत ना हो. शाही स्नान में उमड़ने वाली भीड़ को देखते हुए बुजुर्ग और दिव्यांग यहां आने से हिचकते हैं. बुजुर्गों और दिव्यांगों को भी मौनी अमावस्या के दिन संगम में स्नान करने का मौका मिले इसके लिए प्रशासन ने विशेष इंतजाम किए हैं. 

यूपी पुलिस के होमगार्ड विभाग ने कुंभ में नई पहल की है. कुंभ में आने वाले बुजुर्ग और दिव्यांगों को होमगार्ड के जवान गंगा में डुबकी लगवाएंगे. इस सुविधा का लाभ पहुंचाने के लिए कुंभ मेले की होमगार्ड पुलिस ने एक कंट्रोल रूम नंबर जारी किया है, जिसपर कोई भी संपर्क कर सकता है. इस सेवा का लाभ लेने के लिए इन नंबरों कंट्रोल रूम नंबर- 0532- 2566277, 09415190109 पर कॉल करना होगा. इसके बाद होमगार्ड के जवान बुजुर्ग या दिव्यांग को रेलवे स्टेशन और बस स्टेशन से अपनी गाड़ी में पिक करेगी और स्नान कराने के बाद भोजन कराकर वापस विदा करेंगे.

कुंभ मेले की एसडीएम शिवांगी सिंह ने बताया कि कुंभ मेला प्रशासन ने शाही स्नान को लेकर रेलवे स्टेशन से लेकर कुंभ मेले तक स्नान को लेकर व्यापक इंतज़ाम किए हैं. कुम्भ मेले से ही रेलवे का टिकट मिल पाएगा. रेलवे स्टेशन और बस स्टेशन पर भारी संख्या में अधिकारियों की तैनाती की गई है. करोड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं के आने की संभावना है.

हर्षवर्धन बोले-'कुंभ में आइए, आपका स्वागत है'
कुंभ नगरी आए केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री डाक्टर हर्षवर्धन ने इस मेले की व्यवस्था की सराहना करते हुए शनिवार को कहा कि वह देशभर से लोगों को कुम्भ मेले में आने की अपील करते हैं. कुम्भ मेला क्षेत्र के सेक्टर एक में वन एवं पर्यावरण मंत्रालय की प्रदर्शनी का अवलोकन करने के बाद डाक्टर हर्षवर्धन ने पत्रकारों से कहा, 'लाखों करोड़ों लोग इस मेले में आ रहे हैं. कल मैं भी स्नान करूंगा. मैं देशभर से लोगों को यह अपील करना चाहूंगा कि वे यहां जरूर आएं.'

उन्होंने कहा, 'इस मेले में अत्याधुनिक व्यवस्थाएं की गई हैं. यहां आने वाला हर कोई एक ही बात कर रहा है कि इससे पहले मैंने कभी ऐसी व्यवस्थाएं नहीं देखीं.' वन एवं पर्यावरण मंत्रालय में ग्रीन गुड डीड के बारे में मंत्री ने कहा, 'ग्रीन गुड डीड के आंदोलन को हम भारत में सामाजिक आंदोलन के रूप में विकसित करने का प्रयास कर रहे हैं. ऐसे 700 से ज्यादा अच्छे काम हर व्यक्ति के लिए करना सुलभ है. एक दिन में अगर एक ग्रीन गुड डीड हर भारतवासी करता है तो 1.32 अरब ग्रीन गुड डीज रोज हो जाते हैं.' 

मंत्री ने कहा, 'पर्यावरण की रक्षा होगी तो हमारी गंगा की रक्षा होगी. संगम की रक्षा होगी, नदियों का जल पवित्र रहेगा तो सब कुछ अच्छा रहेगा. इसके लिए लोगों को अपना व्यवहार पर्यावरण अनुकूल करना होगा. यह लोगों की हरित सामाजिक जिम्मेदारी भी है.' 

ग्रीन गुड डीड वन एवं पर्यावरण मंत्रालय द्वारा पर्यावरण संरक्षण एवं बेहतर रहन सहन के लिए देश में शुरू किया गया एक सामाजिक आंदोलन है जिसे वैश्विक समुदाय की स्वीकार्यता मिली है. उल्लेखनीय है कि केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय ने पहली बार कुम्भ मेले में अपना स्टाल लगाया है और इस मंत्रालय की 38 इकाइयों में से आठ इकाइयां यहां अपने कार्यों को प्रदर्शित कर रही हैं.