close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PF घोटाला: DHFL ने लिखा था UPPCL ट्रस्ट के सचिव को पत्र, श्रीकांत शर्मा ने उठाए सवाल

इस मामले पर ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने लिखा सीएम योगी को पत्र लिखा है. पत्र में यूपीपीसीएल के अधिकारियों की भूमिका पर सवाल उठाए गए हैं. 

PF घोटाला: DHFL ने लिखा था UPPCL ट्रस्ट के सचिव को पत्र, श्रीकांत शर्मा ने उठाए सवाल
DHFL ने 23 मार्च 2018 को UPPCL ट्रस्ट के सचिव को पत्र लिखा था.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन (UPPCL) के बिजली इंजीनियरों और कर्मचारियों के हुए भविष्य निधि घोटाले (Provident fund scam) से जुड़ा सबसे बड़ा खुलासा ज़ी उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड करने जा रहा है. भविष्य निधि घोटाले का सबूत ज़ी उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड के पास मौजूद है. DHFL ने 23 मार्च 2018 को UPPCL ट्रस्ट के सचिव को पत्र लिखा था. एक साल के डिपॉजिट पूरा होने पर DHFL ने यह पत्र लिखा था. सवाल उठ रहा है कि कहीं DHFL में भविष्य निधि का पैसा लगाने की असली वजह भारी भरकम ब्याज की राशि भी कमाना तो नहीं था.

UPPCL PF घोटाला केस: 3 दिन की पुलिस रिमांड पर एपी मिश्रा, EOW ने मांगी थी पुलिस कस्टडी रिमांड

सबसे बड़ा सवाल जब 2018 में लेटर आया तब क्यों नहीं एक्शन लिया गया? सवाल ये कि आखिर क्यों अधिकारियों ने DHFLके घोटाले की कहानी छुपाई. इस मामले पर ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने लिखा सीएम योगी को पत्र लिखा है. पत्र में यूपीपीसीएल के अधिकारियों की भूमिका पर सवाल उठाए गए हैं. 

पत्र में कहा गया है कि आखिर क्यों ट्रस्ट की बैठक को टाला गया जबकि हर तीन महीने में बैठक होनी चाहिए. ऊर्जा मंत्री ने सीएम योगी को पत्र लिख कर कर ये भी कहा कि इस दायित्व से विमुखता के क्या कारण है? उन्होंने सवाल खड़े किए कि अधिकारियों ने ऊर्जा मंत्री को भी गुमराह किया है. 

पहली बार लड़े, 1 लाख से भी अधिक वोटों से जीते श्रीकांत शर्मा

इस मामले में अभी तक राज्य सरकार ने पूरी जांच को सीबीआई के हवाले कर दिया है. इसके अलावा तत्कालीन वित्त निदेशक सुधांशु द्विवेदी, महाप्रबंधक व सचिव ट्रस्ट प्रवीण कुमार गुप्ता और पूर्व एमडी एपी मिश्रा को गिरफ्तार कर चुकी है.

भविष्य निधि घोटाले में तत्कालीन वित्त निदेशक सुधांशु द्विवेदी, ट्रस्ट सचिव पीके गुप्ता और पूर्व एमडी एपी मिश्र की गिरफ्तारी के बाद आर्थिक अपराध अनुसंधान शाखा  ने अपनी जांच तेज कर दी है. ईओडब्ल्यू ने बुधवार (6 नवबंर) को सुधांशु द्विवेदी और पीके गुप्ता को 7 दिनों की पुलिस रिमांड पर लेने के लिए कोर्ट में अर्जी दी, जिस पर सुनवाई के बाद कोर्ट ने दोनों को 3 दिनों की पुलिस रिमांड पर भेज दिया. अब कस्टडी रिमांड पर लेकर ईओडब्ल्यू दोनों से पूछताछ शुरू करेगी.