10 बड़ी बातें: दिल्ली हिंसा, खेती, क्रिकेट और किसान पर क्या बोले पीएम मोदी
X

10 बड़ी बातें: दिल्ली हिंसा, खेती, क्रिकेट और किसान पर क्या बोले पीएम मोदी

भारत, आज दवाओं और वैक्सीन को लेकर सक्षम है,आत्मनिर्भर है. कोरोना के खिलाफ भारत की लड़ाई एक उदाहरण बनी है. उसी तरह अब हमारा वैक्सीनेशन कार्यक्रम भी दुनिया के लिए मिशाल है. 

10 बड़ी बातें: दिल्ली हिंसा, खेती, क्रिकेट और किसान पर क्या बोले पीएम मोदी

नई दिल्ली: नए कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Modi) ने आज रेडियो पर 'मन की बात' की. ये मन की बात (Mann ki baat) कार्यक्रम का 73वां संस्करण था और साल 2021 की पीएम मोदी की पहली मन की बात है.

आत्मनिर्भर UP बनाने के लिए सरकार की अनोखी पहल, स्कूल-कॉलेजों में लगेगी 'हुनर की पाठशाला'

ऐसा लगता है कि मैं आप सबके बीच में हूं
साल 2021 के पहले मन की बात कार्यक्रम की शुरुआत पीएम मोदी ने नए साल की उपलब्धियों से की. पीएम मोदी ने कहा, जब मैं मन की बात करता हूं. ऐसा लगता है कि मैं आप लोगों के बीच,आपके परिवार के साथ हूं. आज जनवरी 2021 का आखिरी दिन है. लगा नहीं एक महीना बीत गया.

तिरंगे का अपमान देख दुख हुआ
पीएम मोदी ने कहा कि कुछ दिन पहले देश के अलग-अलग हिस्सों में त्योहारों की धूम रही. इन सबके बीच दिल्ली में 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देखकर देश बहुत दुखी भी हुआ है. हमें आने वाले समय को नई आशा और नवीनता से भरना है. हमने पिछले साल असाधारण संयम और साहस का परिचय दिया. इस साल भी हमें कड़ी मेहनत करके अपने संकल्पों को सिद्ध करना है.

भारत दवाओं और वैक्सीन को लेकर सक्षम
मन की बात में पीएम मोदी ने कहा, 'संकट के समय में भारत, दुनिया की सेवा इसलिए कर पा रहा है, क्योंकि भारत, आज दवाओं और वैक्सीन को लेकर सक्षम है,आत्मनिर्भर है. पीएम ने कहा हम सबसे बड़े वैक्सीन कार्यक्रम के साथ ही दुनिया में सबसे ज्यादा गति से अपने देश के नागरिकों का टीकाकरण भी कर रहे हैं. महज 15 दिन में भारत अपने 30 लाख से ज्यादा कोरोना वॉरियर्स का टीकाकरण कर चुका है. कोरोना के खिलाफ भारत की लड़ाई एक उदाहरण बनी है. उसी तरह अब हमारा वैक्सीनेशन कार्यक्रम भी दुनिया के लिए मिसाल है. आज भारत में कोविड वैक्सीन कार्यक्रम चल रहा है.

क्रिकेट पिच से मिली बहुत अच्छी खबर
पीएम मोदी ने कहा कि इस महीने, क्रिकेट पिच से भी बहुत अच्छी खबर मिली. हमारी क्रिकेट टीम ने शुरुआती दिक्कतों के बाद, शानदार वापसी करते हुए ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती. हमारे खिलाड़ियों की मेहनत और teamwork प्रेरित करने वाला है.

देश के स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में लिखें
मैं सभी देशवासियों को और खासकर अपने युवा साथियों को आहृान करता हूं कि वो देश के स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में लिखें. अपने इलाके में स्वतंत्रता संग्राम के दौर की वीरता की गाथाओं के बारे में किताबें लिखें. अब जबकि भारत अपनी आजादी का 75वां साल मनाएगा, तो लेखन आजादी के नायकों के प्रति उत्तम श्रद्धांजलि होगी. भारत के हर हिस्से में, हर शहर, कस्बे और गांव में आजादी की लड़ाई पूरी ताकत के साथ लड़ी गई थी. भारत भूमि के हर कोने में ऐसे महान सपूतों और वीरांगनाओं ने जन्म लिया, जिन्होंने राष्ट्र के लिए अपना जीवन न्योछावर कर दिया.'

‘पराक्रम दिवस’और ‘गणतन्त्र दिवस’ मनाया
23 जनवरी को हमने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिन को ‘पराक्रम दिवस’ के तौर पर मनाया और 26 जनवरी को ‘गणतन्त्र दिवस’ की शानदार परेड भी देखी. कुछ दिन पहले की ही तो बात लगती है जब हम एक दूसरे को शुभकमनाएं दे रहे थे, फिर हमने लोहड़ी मनाई, मकर संक्रांति मनाई, पोंगल, बिहु मनाया. देश के अलग-अलग हिस्सों में त्योहारों की धूम रही.:

खेती को आधुनिक बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध
साल की पहली मन की बात में पीएम मोदी ने कहा कि किसानों और युवाओं को अपने घर के पीछे खाली जगह पर बागवानी करने और स्ट्रॉबेरीज उगाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है. खेती को आधुनिक बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है और बहुत से कदम उठा रही है.

स्ट्रॉबेरी और बुंदेलखंड
पीएम मोदी ने कहा कि झांसी में एक महीने तक चलने वाला स्ट्रॉबेरी फेस्टिवल शुरू हुआ. हर किसी को आश्चर्य हुआ कि स्ट्रॉबेरी और बुंदेलखंड में! ये सच्चाई है.नई तकनीक की मदद से ऐसे ही प्रयास देश के बाकी हिस्सों में भी हो रहे हैं. जो स्ट्रॉबेरी कभी पहाड़ों की पहचान थी वो अब कच्छ की रेतीली जमीन पर भी होने लगी हैं. पीएम ने कहा कि बुंदेलखंड में स्ट्रॉबेरी की खेती को लेकर उत्साह बढ़ रहा है, और इसमें बहुत बड़ी भूमिका निभाई है, झांसी की एक बेटी- गुरलीन चावला ने. लॉ की छात्रा गुरलीन ने पहले अपने घर पर और फिर अपने खेत में स्ट्रॉबेरी की खेती का सफल प्रयोग कर ये विश्वास जगाया है कि झांसी में भी ये हो सकता है.

महिलाओं की भागीदारी लगातार बढ़ रही
मन की बात में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कुछ दिन पहले आपने देखा होगा कि अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से बेंगलुरु के लिए एक नॉन-स्टॉप हवाई सेवा की कमान भारत की चार महिला पायलटों ने संभाली थी. दस हजार किलोमीटर से भी ज्यादा लंबा सफ़र तय करके ये फ्लाइट सवा दो-सौ से अधिक यात्रियों को भारत लेकर आई. हर क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी लगातार बढ़ रही है.

बेहतरीन काम के लिए किया गया सम्मानित 
मन की बात कार्यक्रम देशवासियों से जुड़ने का एक बेहतर मौका है जिसमें देश के प्रति लोगों का जज्बा और जूनून है, जो मुझे ऊर्जा से भर देता है. राष्ट्र ने असाधारण काम कर रहे लोगों को उनकी उपलब्धियों और मानवता के प्रति उनके योगदान के लिए सम्मानित किया. इस साल भी पुरस्कार पाने वालों में वो लोग शामिल हैं जिन्होंने अलग-अलग क्षेत्र में बेहतरीन काम किया.

WATCH LIVE TV

Trending news