शाहजहांपुर: पहले आंबेडकर, अब राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर चढ़ाया भगवा रंग

इससे पहले बदायूं में बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर की मूर्ति पर भी भगवा रंग चढ़ाया गया था.

शाहजहांपुर: पहले आंबेडकर, अब राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर चढ़ाया भगवा रंग
डीएम ने मामले के जांच के आदेश दिए हैं.

नई दिल्ली/शाहजहांपुर: उत्तर प्रदेश में बीजेपी में सरकार आने के बाद भगवा प्रेम बढ़ गया. रोडवेज बसों, मुख्‍यमंत्री कार्यालय, शौचालय, थाने, टोल प्‍लाजा और हज हाउस समेत कई इमारतों को भगवा रंग में रंगने के बाद अब प्रतिमाओं को भगवामय किया जा रहा है. ताजा मामला शाहजहांपुर का है, जहां, अब राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा को ही भगवा रंग में रंग दिया गया. आपको बता दें इससे पहले बदायूं में बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर की मूर्ति पर भी भगवा रंग चढ़ाया गया था. लेकिन, मामले को तूल पकड़ता देख इसे वापस नीले रंग में रंग दिया गया था. 

 

मामला थाना बंडा के ढाका घनश्यामपुर गांव का है. जानकारी के मुताबिक, करीब 20 साल पहले ग्रामसभा की जमीन पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा स्थापित की गई थी. जिसकी रातो-रात रंगाई कराई गई और उसे भगवा मय कर दिया गया. लोगों ने सुबह देखा तो वो हैरत में पढ़ गए. मामला संज्ञान में आने के बाद डीएम ने मामले की जांच एडीएम को सौंप दी है.

ये भी पढ़ें: लखनऊ : कांग्रेस ने अपने मुख्‍यालय की दीवार पर चढ़वाया भगवा रंग, अब रंगवा रहे सफेद 

अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट बच्चू सिंह का कहना है कि रंग किसने करवाया इसकी मामले की जांच की जा रही है. जो भी आरोपी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. मामले में बीजेपी जिलाध्यक्ष राकेश अनावा का कहना है कि हमें इस बारे मे कोई जानकारी नहीं है. बीजेपी नेता और कार्यकर्ता इस मानसिकता के नहीं है कि वो प्रतिमाओं को रंगे. उन्होंने कहा कि प्रतिमा को रंगने का काम गांव वालों ने ही किया होगा और आरोप बीजेपी कार्यकर्ताओं पर लगा रहे हैं.

वहीं, कांग्रेस जिलाध्यक्ष कौशल मिश्रा का कहना है कि मेरे संज्ञान मे मामला आया है. हमने पहली बार महात्मा गांधी की प्रतिमा को भगवा रंग में देखा है. उन्होंने आरोप लगाया कि किसान आत्महत्या के मुद्दा भटकाने के लिए इस मुद्दे को जन्म दिया गया है.