सुंदर लड़की से शादी और नौकरी का लालच देकर नितिन पंत को बनाया अली हसन, 10 साल बाद हुई घर वापसी

नितिन पंत ने 10 साल तक मुस्लिम धर्म में रहने के बाद दोबारा हिंदू धर्म में वापसी कर ली है. नितिन पंत का कहना है कि हिंदू धर्म में वापसी करने के बाद उनकी जान को खतरा बढ़ गया है. इसीलिए उन्होंने उत्तर प्रदेश पुलिस से सुरक्षा की मांग की है. मामला सहारपुर जिले का है.

सुंदर लड़की से शादी और नौकरी का लालच देकर नितिन पंत को बनाया अली हसन, 10 साल बाद हुई घर वापसी
नितिन पंत ने 10 साल बाद हिंदू धर्म में वापसी कर ली.

नीना जैन/सहारनपुर: नितिन पंत ने 10 साल तक मुस्लिम धर्म में रहने के बाद दोबारा हिंदू धर्म में वापसी कर ली है. नितिन पंत का कहना है कि हिंदू धर्म में वापसी करने के बाद उनकी जान को खतरा बढ़ गया है. इसीलिए उन्होंने उत्तर प्रदेश पुलिस से सुरक्षा की मांग की है. मामला सहारपुर जिले का है. नितिन पंत ने बताया कि उन्हें नौकरी, घर, पैसों और सुंदर लड़की से शादी का लालच देकर इस्लाम कबूल कराया गया था.

लुटेरी दुल्हन ने देवरानी-जेठानी को भी बनाया शिकार, लाखों के जेवर-नकदी लेकर प्रेमी संग फरार

नितिन पंत गुरुवार को सहारनपुर रिजर्व पुलिस लाइन स्थित एसपी सिटी कार्यालय पहुंचकर शहर पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार को अपने धर्मान्तरण से संबंधित जानकारी दी और अपने मूल धर्म में वापसी की इच्छा जाहिर की थी. उन्होंने इस मसले में कानूनी कार्रवाई हेतु लिखित प्रार्थना पत्र भी दिया था. एसपी सिटी राजेश कुमार ने नितिन पंत को मामले में जांच के उपरांत उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया था. अब नितिन की हिंदू धर्म में वापसी हो गई है.

घोड़ी चढ़ने जा रहा था दूल्हा, तभी आ पहुंची उसकी लिव-इन-पार्टनर, घसीटकर साथ ले गई दिल्ली

एसपी सिटी को दी गई तहरीर में नितिन ने बताया कि वह 2010 में रोजगार की तलाश में राजस्थान के अलवर गए थे. वहीं पर कुछ मुस्लिम लड़कों के संपर्क में आए, जिसके बाद उन्हें सरकारी नौकरी दिलाने, घर देने और सुंदर लड़की से शादी करवाने जैसे लालच देकर हरियाणा के मेवात ले जाया गया. यहां उन्हें जबरन इस्लाम कबूल करवाया गया. विरोध करने पर नितिन के साथ मारपीट भी की गई. परिवार को जान से मारने की धमकी मिली, जिसके बाद नितिन धर्म परिवर्तन करने के लिए मजबूर हो गए. 

यूपी के कौशांबी में भी धनबाद जैसी घटना का प्रयास, हत्या की नीयत से जज की गाड़ी में मारी टक्कर

नितिन ने बताया कि जबरदस्ती इस्लाम कबूल करवाने के बाद उनका नाम अली हसन रखा गया. धर्मांतरण गिरोह ने उन्हें सहारनपुर के उमाही गांव के एक मदरसे में रखा था. मौका मिलते ही वह मदरसे से भागने में कामयाब हो गए और सहारनपुर पहुंचकर हिंदू संगठन के लोगों से मिलकर उन्हें पूरी घटना बताई. जिसके बाद हिंदू संगठन के लोग उन्हें लेकर एसपी सिटी दफ्तर पहुंचे और लिखित में तहरीर दी. उन्होंने धर्मांतरण गिरोह पर सख्त कार्रवाई की मांग की है. वहीं नितिन पंत का शुद्धीकरण कराकर हिंदू धर्म में वापसी करा दी गई है.

WATCH LIVE TV