शिक्षक भर्ती 2021: एकलव्‍य आदर्श आवासीय विद्यालयों में 3479 पदों की भर्ती, इस तारीख से कर सकते हैं अप्लाई

मंत्रालय की प्रेस रिलीज के अनुसार इसके लिए आवेदन प्रक्रिया अगले महीने की पहली तारीख (1st April) से प्रारंभ होगी. इससे ईएमआरएस (EMRS) में गुणवत्ता सम्पन्न मानव संसाधन तैनात किया जा सकेगा.

शिक्षक भर्ती 2021: एकलव्‍य आदर्श आवासीय विद्यालयों में  3479 पदों की भर्ती, इस तारीख से कर सकते हैं अप्लाई

नई दिल्ली: जनजातीय कार्य मंत्रालय (Ministry of Tribal Affairs) अपनी स्‍वायत्त संस्‍था नेशनल एजुकेशन सोसायटी फॉर ट्राइबल स्‍टूडेंट्स (National Education Society for Tribal Students) के जरिए देश के 17 राज्‍यों में एकलव्‍य आदर्श आवासीय विद्यालयों (EMRS) में शिक्षकों के रिक्‍त 3,479 पदों को भरेगा. आवेदन प्रक्रिया (Apply Process) एक अप्रैल से शुरू हो जाएगी.

आयुष्मान कार्ड बनवाने से चूक गए हैं तो फिर मिला मौका, जानिए कितने दिनों का मिला समय?

आवेदन की प्रक्रिया अगले महीने से 
गुरुवार को जारी मंत्रालय की प्रेस रिलीज के अनुसार इसके लिए आवेदन प्रक्रिया अगले महीने की पहली तारीख (1st April) से प्रारंभ होगी. इससे ईएमआरएस (EMRS) में गुणवत्ता सम्पन्न मानव संसाधन तैनात किया जा सकेगा और शैक्षिक मानकों में सुधार होगा.

सिर्फ दो दिन में निपटा लें बैंक के काम, नहीं तो करना पड़ेगा लंबा इंतजार, देखें बैंक हॉलीडे की पूरी लिस्ट

भर्ती प्रक्रिया संबंधित राज्‍यों के साथ संयुक्‍त रूप से प्रारंभ की गई
ये भर्ती प्रक्रिया संबंधित राज्‍यों के साथ संयुक्‍त रूप से प्रारंभ की गई है, ताकि पहले से कार्यरत स्‍कूलों और इस साल से काम करने वाले स्‍कूलों में स्‍पष्‍ट रिक्तियों के लिए शिक्षकों की मांग पूरी की जाए.

आयोजित होगी केंद्रीयकृत कम्प्यूटर आधारित परीक्षा 
प्राचार्य, उप-प्राचार्य ,पीजीटी तथा टीजीटी (PGT And TGT) के चार विभिन्न पदों पर भर्ती के लिए केंद्रीयकृत कम्प्यूटर आधारित परीक्षा आयोजित होगी और उसके बाद संबंधित राज्यों द्वारा साक्षात्कार (टीजीटी को छोड़कर) लिया जाएगा.

ऐसे कर सकते हैं आवेदन
आवेदन प्राप्‍त करने के लिए पोटर्ल 01.04.2021 से 30.04.2021 तक खुला रहेगा. परीक्षा जून के पहले सप्ताह में कराए जाने की संभावना है. पोटर्ल के ब्‍योरे तथा आखिरी तारीख के लिए इस पर विजिट कर सकते हैं. 
लिंक- recruitment.https://nta.ac.in and https://tribal.nic.in 

2018-19 में किए गए कई परिवर्तन 
ये योजना 1998 में शुरू हुई और साल 2018-19 में इसमें कई परिवर्तन किए गए, ताकी 50 फीसद या उससे ज्यादा अनुसूचित जनजाति आबादी के प्रत्‍येक ब्‍लॉक तक भौगोलिक दृष्टि से स्‍कूलों की पहुंच में सुधार किया जा सके.

UPSSSC Big Decision: जांच में गड़बड़ियां मिलने पर 2018 में हुई ग्राम पंचायत अधिकारी परीक्षा निरस्त

WATCH LIVE TV