close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ढाई साल में यूपी में कोई सांप्रदायिक दंगा नहीं हुआ, अपराध के सभी मामलों में कमी आईः CM योगी

AIIMS गोरखपुर में ओपीडी शुरू हो गयी है.  14 मेडिकल कॉलेज के कार्य की शुरुवात हुई है.'

ढाई साल में यूपी में कोई सांप्रदायिक दंगा नहीं हुआ, अपराध के सभी मामलों में कमी आईः CM योगी

लखनऊः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार (19 सितंबर) को अपनी सरकार के ढाई साल पूरे होने पर लखनऊ में प्रेस वार्ता की. इस दौरान मुख्यमंत्री के साथ राज्य के दोनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा भी मौजूद रहे. सीएम योगी ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि पिछले ढाई सालों के दौरान यूपी में एक भी दंगा नहीं और राज्य में अपराध के सभी मामलों में कमी देखने को मिली है. उन्होंने कहा कि यूपी में अपराधियों को उनकी सही जगह पहुंचाने का काम उनकी सरकार ने किया है. 

सीएम योगी ने कहा, '14 वर्ष के वनवास के बाद प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनी थी. जिस तरह केंद्र ने गरीब और वंचित को केंद्र में रखकर कार्य किया, उसी तरह यूपी ने भी कार्य किया.मेरे सभी सहयोगियों ने अपने अपने विभाग में बेहतर कार्य करने का प्रयास किया है.'

उन्होंने कहा 'प्रदेश के अंदर स्वतः सुविधा में सबसे बड़े सुधार का संकेत है कि इन्सेफेलाइटिस जैसी बीमारियों को 65 प्रतिशत कम करने में सफलता प्राप्त हुई है. AIIMS गोरखपुर में ओपीडी शुरू हो गयी है.  14 मेडिकल कॉलेज के कार्य की शुरुवात हुई है.'

किसानों की समस्या का निकाला समाधान
सीएम योगी ने कहा, 17 वर्षों से हमार अन्नदाता किसान बहुत मजबूर था. दशकों पुराने सिंचाई की परियोजना लंबित पड़ी थी. कर्ज तले दबा किसान आत्महत्या करने को मजबूर हो रहा था तब हमने ऋण मोचन योजना लाई.सॉइल हेल्थ कार्ड भी सफलता पूर्वक लागू किया. सिंचाई परियोजना का लाभ दिलाया किसानों को मिला है.

2.67 लाख हेक्टेयर से अधिक लैंड को सिंचित किया है. 2020 तक 14 लाख हेक्टेयर करने की योजना है. किसानों की आय को दुगना करना और उनकी लागत कम करने के तहत 20 कृषि विज्ञान केंद्र खोले गए है. विगत ढाई वर्षों में 73,000 करोड़ रुपये का गन्ना भुगतान किया गया है. 

तकनीकी शिक्षा में भी सुधार हुआ 
सीएम योगी ने बताय कि की राज्य में प्राथमिक विद्यालय में कायाकल्प योजना के तहत 90 हज़ार से ऊपर के विद्यालयों में सुधार आया है. तकनीकी शिक्षा में भी सुधार हुआ है. नियुक्तियां होने लगी हैं और सरकार ने दो नए विश्वविधालय बनाने की कार्यवाही आगे बढ़ाई है.