बड़ी लापरवाही! वैक्सीनेशन के बाद युवक के हाथ में निकले फोड़े, 8 दिन बाद ऑपरेशन में निकली टूटी हुई नीडल

मामला बानपुर थाना क्षेत्र के बानोनी गांव का है. यहां रहने वाले 22 वर्षीय इंद्रेश अहिरवार ने 9 सितंबर को गांव के ही स्कूल में चल रहे वैक्सीनेशन कार्यक्रम में कोविड से बचाव की वैक्सीन लगवाई थी.

बड़ी लापरवाही! वैक्सीनेशन के बाद युवक के हाथ में निकले फोड़े, 8 दिन बाद ऑपरेशन में निकली टूटी हुई नीडल
युवक ने 9 सितंबर को गांव के स्कूल कैंप में लगवाई थी वैक्सीन

अमित सोनी/ललितपुर: उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले में स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों की बड़ी लापरवाही सामने आई है. यहां जिले में चल रहे वैक्सीनेशन कार्यक्रम के दौरान एक युवक ने कोविड वैक्सीन लगवाई थी. इस दौरान उसके हाथ के अंदर टूटी हुई नीडल गई. युवक की हालत लगातार खराब होती गई. उसके हाथ में फोड़े निकल आए. फिलहाल युवक का झांसी मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है. वहीं, सीएमओ ने पूरी घटना की जांच कराए जाने के निर्देश दिए हैं. 

क्या है पूरा मामला?
मामला बानपुर थाना क्षेत्र के बानोनी गांव का है. यहां रहने वाले 22 वर्षीय इंद्रेश अहिरवार ने 9 सितंबर को गांव के ही स्कूल में चल रहे वैक्सीनेशन कार्यक्रम में कोविड से बचाव की वैक्सीन लगवाई थी. एक दिन बाद इंद्रेश की हालत बिगड़ने लगी और उसके हाथ मे वैक्सीन वाली जगह पर फोले पड़ने लगे. धीरे-धीरे उसके हाथ-पैर भी सुन्न पड़ने लगे. यह देखकर इंद्रेश के परिजनों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया. 

ये भी पढ़ें- अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, फंदे से लटकता मिला शव

निडिल निकालने के बावजूद नहीं हुई हालत में सुधार 
जिला अस्पताल में इलाज के दौरान वैक्सीन लगनी वाली जगह पर सड़न और गलन होने लगी. यह देखते हुये जिला अस्पताल के सर्जन ने 18 सितंबर को हाथ के उस हिस्से का ऑपरेशन किया. ऑपरेशन के वक्त बेहद चौंकाने वाली बात सामने आई. दरअसल, हाथ के अंदर से टूटी हुई नीडल मिली. हालांकि, डॉक्टर्स ने नीडल को निकाल दिया लेकिन युवक की हालत में सुधार नहीं हुआ. जिसके बाद युवक को इलाज के लिये झांसी मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया है. 

ये भी देखें- VIDEO: करोड़ों की लागत से बनने वाले राम मंदिर के मुख्य पुजारी रहते हैं महज दो कमरों के घर में, जीते हैं सादगी भरा जीवन 

सीएमओ ने क्या कहा?
वहीं, इतनी बड़ी लापरवाही के बावजूद CMO ललितपुर डॉ जीपी शुक्ला ने कैमरे के सामने कुछ भी कहने से मना करते हुए बताया कि मामले में जांच करवाई जा रही है, जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी. वहीं इंद्रेश के परिजन भी आरोपी नर्स और स्टाफ के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किये जाने की मांग कर रहे हैं. 

WATCH LIVE TV