कानपुर में ओवैसी ने बताई अपनी आखिरी ख्वाहिश, मरने से पहले देखना चाहते हैं 100 मुस्लिम नेता

ओवैसी ने कहा कि आज भारत में मुसलमान की हैसियत बैंड बाजा वाले से ज्यादा नहीं है. चुनावों में सेक्युलरिज्म की बात कह कर हमें कहा जाता है बैंड बजाओ. मुसलमानों की हैसियत यही रह गई है. आज फैसला कर लें कि दूल्हे के लिए बैंड बजाएंगे क्या?

कानपुर में ओवैसी ने बताई अपनी आखिरी ख्वाहिश, मरने से पहले देखना चाहते हैं 100 मुस्लिम नेता
ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी. (PIC: AIMIM Twitter Handle)

कानपुर: कानपुर में AIMIM (ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने विपक्षी पार्टियों पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि सीएए आंदोलन में कानपुर के 3 लोगों को शहीद किया गया, कुछ जलील लोगों ने उन्हें शहीद किया. आने वाले चुनाव में हमारी पार्टी को जिताएं. पोलिंग के दिन लाखों की तादाद में हमें वोट करें. यूपी की सियासत में अबकि मुसलमान बड़ी भूमिका अदा करेगा. बड़ी तादाद में आपका होना, सियासी पार्टियों को संदेश देगा. जिसके पास ताकत है, विधायक है, उसी की सुनी जाती है.

मुसलमान की हैसियत बैंड बाजा वाले से ज्यादा नहीं है
ओवैसी ने कहा कि आज भारत में मुसलमान की हैसियत बैंड बाजा वाले से ज्यादा नहीं है. चुनावों में सेक्युलरिज्म की बात कह कर हमें कहा जाता है बैंड बजाओ. मुसलमानों की हैसियत यही रह गई है. आज फैसला कर लें कि दूल्हे के लिए बैंड बजाएंगे क्या? अबकि हम जम्हूरियत का बाजा बजाएंगे. यूपी की सियासत में जिस किसी समाज का नेता है, उसी का सम्मान है. यूपी में मुसलमानों का नेता कोई नहीं है, 19 फीसदी मुसलमान का नेता कोई नहीं है. मरने से पहले मेरी ख्वाहिश है कि आपके यहां 100 मुस्लिम नेता हों.

क्या आप सपा, बसपा, कांग्रेस या भाजपा को वोट देंगे?
हैदराबाद सांसद ने कहा, ''मुझे शिकायत गैरों से नहीं अपनों से है. मेरी आज की रैली के बाद सेक्युलर लोग कहेंगे कि ओवैसी मुसलमानों को तोड़ने आया है. क्या आप सपा, बसपा, कांग्रेस या बीजेपी को वोट देंगे? इस बार आप खुद को वोट देंगे. आज शाम से टीवी पर हमारा निकाह शुरू कर देंगे. कहेंगे कि ओवैसी ने एक और भड़काऊ भाषण दिया. जब पहले के चुनावों में मुसलमानों ने बीजेपी को वोट नहीं दिया तो ये कैसे जीते? ये 'दल्ले' मेरे सामने नहीं टिक सकते.''

यूपी में 2017 में गाना बना 'दो लड़के पसंद हैं', हार गए
ओवैसी ने कहा कि 2014 और 19 में मोदी को महज 6 फीसदी मुसलमानों ने वोट दिया, तो वह कैसे जीते. अखिलेश यादव के घर के तीन सदस्य हारे, राहुल गांधी हार गये और ये कहते हैं कि हम विजिटर हैं. 71 फीसदी हिंदूओं ने 2019 में मोदी को वोट दिया. राहुल गांधी वायनाड से इसलिए जीते क्योंकि उनको मुस्लिमों ने वोट दिया, लेकिन हिंदूओं ने वोट नहीं दिया. हर समाज के पास लीडर हैं. सपा-कांग्रेस 2017 में एक हो गये, तो गाना बना कि यूपी को ये दो लड़के पसंद हैं, लेकिन हार गये. 

पटाखे बजते हैं, मां सोचती है बेटे को गोली तो नहीं मार दी
असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि हैदराबाद में मेरे खिलाफ मोदी, योगी, राहुल ने प्रचार किया. लेकिन मेरे सामने हार गये. मैं आपसे अपील कर रहा हूं कि अपने लिए वोट करो, अतीक साहब की पत्नी बच्चों ने 5 साल से उन्हें नहीं देखा. आज़म खान जेल में हैं, उन्हें फंसाया गया. घर गिरा दिया गया. सूरज निकलेगा और धूप निकलेगी, तो आज तुम अपने हक को पहचानोगे नहीं तो नुकसान हमारा ही होगा. आज पटाखे बजते हैं, तो मां सोचती है कि कहीं मेरे बेटे को गोली तो नहीं मार दी गयी? 

मौलाना कलीम गिरफ्तार हुए, सपा-कांग्रेस ने कुछ नहीं बोला
AIMIM प्रमुख ने कहा कि मेरठ के मौलाना कलीम सिद्दिकी को ATS ने गिरफ्तार किया. सपा, कांग्रेस ने कुछ नहीं बोला, क्यों? उन्होंने सोचा कि बोलेंगे तो हिंदुओं का वोट नहीं मिलने का डर था. मौलाना कलीम के वकील ने मुझसे कहा कि केस में दम नहीं है, योगी सरकार उन्हें सता रही है. बाबरी मस्जिद का फैसला आया, मैंने कहा कि यह गलत फैसला है, लेकिन कांग्रेस, सपा ने क्यों खिलाफत नहीं की? CAA में कानपुर में रईस को गोली मार दी. आफताब आलम के सीने में गोली लगी, मोहम्मद सैफ को गोली मार दी गयी. आप अपने वोटों का सौदा मत होने दीजिए.

टीवी वाले कुछ भी बोलें, मैं अतीक अहमद को टिकट दूंगा
ओवैसी ने कहा कि टीवी वाले कुछ भी बोलें, लेकिन मैं अतीक अहमद को टिकट दूंगा. कांग्रेस ने महाराष्ट्र में हमारे नाम पर लोगों को डराकर शिवसेना का सीएम बना दिया. अबकि यूपी में योगी, मोदी को हराएंगे. कोविड की दूसरी लहर में ऑक्सीजन नहीं मिली, अबकि बीजेपी को ऑक्सीजन नहीं देंगे. कानपुर में 75 टन ऑक्सीजन की जगह 18 टन मिली, चमड़े के कारोबार को खत्म कर दिया गया. कुंभ मेले के लिए चमड़ा फैक्ट्रियों को बंद कर दिया गया. दलित, मुस्लिमों को रोजगार से वंचित कर दिया. बीजेपी जातीय जनगणना नहीं करवाना चाहती.ओबीसी भी इस बार वोट की अहमियत समझें.

WATCH LIVE TV