जेएन मेडिकल कॉलेज मे भर्ती थी दिव्यांग युवती, मेडिकल शॉप कर्मचारी ने मदद के नाम पर किया रेप

पूछताछ में उसने अपना नाम क्वार्सी के महेशपुर फाटक निवासी वारिस बताया और कहा कि वह बाहर मेडिकल स्टोर पर नौकरी करता है. इस पर तत्काल मेडिकल कॉलेज अधिकारियों को पूरा वाकया बताया गया...

जेएन मेडिकल कॉलेज मे भर्ती थी दिव्यांग युवती, मेडिकल शॉप कर्मचारी ने मदद के नाम पर किया रेप

अलीगढ़: उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज एंड ट्रामा सेंटर के रिकवरी वॉर्ड में भरती मानसिक रूप से दिव्यांग युवती संग आधी रात दुष्कर्म की वारदात सामने आ रही है. इस घिनौनी हरकत का आरोप मेडिकल कॉलेज के बाहर संचालित एक मेडिकल स्टोर के कर्मचारी पर लगा है. कहा जा रहा है कि उसने बेसहारा युवती से मदद के नाम पर ऐसी वारदात को अंजाम दिया है.

Gandhi Jayanti: क्या आप जानते हैं स्टीव जॉब्स थे महात्मा गांधी के फैन? उनके चश्मे से लगता था पता

मेडिकल शॉप कर्मचारी पर लगा रेप का आरोप
जानकारी के मुताबिक, मेडिकल कॉलेज एंड ट्रामा सेंटर के प्रथम तल रिकवरी वॉर्ड ईएसटी में मानसिक रूप से दिव्यांग करीब 22 वर्षीय युवती 18 जुलाई से भर्ती है. उसे आरपीएफ द्वारा एक्सीडेंट में जख्मी होने पर यहां लाया गया था. बीती आधी रात को हुई वारदात की खबर उस समय लगी, जब युवती अपने बेड से गायब थी. सुरक्षाकर्मी ने जब उसे खोजना शुरू किया, तो वह बाथरूम से हड़बड़ाती हुई निकली और अंदर मौजूद युवक पर गंदी हरकत का आरोप लगाया. आरोपी को पुलिस के हवाले कर दिया गया है. सिविल लाइंस पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है.

पीड़िता के घरवालों का नहीं चला पता
क्योंकि पीड़िता के घर परिवार की कोई जानकारी नहीं है. इसलिए मेडिकल कॉलेज स्टाफ ही उसकी देख रेख भी कर रहा था. रात करीब 12:30 बजे इमरजेंसी सीएमओ इंचार्ज ने सुरक्षाकर्मी को कहा कि काफी देर से युवती अपने बेड पर नहीं है. देखो कहीं चली तो नहीं गई. इस पर गार्ड सरताज अली और सुपरवाइजर मो. नदीम ने युवती को इधर-उधर तलाशना शुरू किया. इसी बीच मुख्य गैलरी के बाथरूम से युवती हड़बड़ाती हुई निकली और पीछे से बाहर निकल रहे एक युवक पर गलत काम करने का आरोप लगाया. सुरक्षाकर्मी ने आरोपी युवक को तुरंत पकड़ लिया.

त्योहारों के मद्देनजर सतर्क हुई नोएडा पुलिस, इन तीन तरीकों से चला रही सुरक्षा अभियान

सिविल लाइंस पुलिस मौके पर पहुंची
पूछताछ में उसने अपना नाम क्वार्सी के महेशपुर फाटक निवासी वारिस बताया और कहा कि वह बाहर मेडिकल स्टोर पर नौकरी करता है. इस पर तत्काल मेडिकल कॉलेज अधिकारियों को पूरा वाकया बताया गया. खबर पर सिविल लाइंस पुलिस पहुंच गई. आरोपी को पुलिस के हवाले कर दिया गया. 

डॉक्टर्स ने भी की दिव्यांग होने की पुष्टि
श्वेताभ पांडेय, सीओ तृतीय ने बताया कि मामले में सिक्योरिटी गार्ड सरताज की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज किया गया है. युवती के मेडिकल परीक्षण और बयान आदि की प्रक्रिया की जा रही है. युवती मानसिक रूप से दिव्यांग है. यह बात डॉक्टरों ने भी बताई है. वह अपने विषय में ज्यादा कुछ नहीं बता पा रही. उससे जानकारी निकालने की कोशिश की जा रही है.

WATCH LIVE TV