Pilibhit: हैवानियत भरी शहजादे और उसके बेटों की करतूत, घर की बिटिया को मौत के घाट उतारा
topStories0hindi1471680

Pilibhit: हैवानियत भरी शहजादे और उसके बेटों की करतूत, घर की बिटिया को मौत के घाट उतारा

Pilibhit: एक शख्स से बदला लेने के लिए दादा ने अपने बेटों के साथ अपनी ही नातिन का बेरहमी से कत्ल कर दिया. हत्या के समय पिता और चाचा के हाथ भी नहीं कापें. पढ़िए रोंगटे खड़े कर देने वाली वारदात

Pilibhit: हैवानियत भरी शहजादे और उसके बेटों की करतूत, घर की बिटिया को मौत के घाट उतारा

मोहम्मद तारिक़/पीलीभीत: बदले की आग में झुलसे पीलीभीत के एक परिवार ने दुश्मन को फंसाने के लिए अपने ही घर की 9 साल की मासूम को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया. बच्ची के सिर पर ईट व पेट में चाकू से वार कर मौत के घाट उतारा गया है. दो दिन पहले हुई घटना का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. पुलिस ने बच्ची के चाचा,पिता, व बच्ची के दादा को गिरफ्तार कर लिया है. इन सभी ने अपने दुश्मन से बदला लेने व उसे फंसाने के लिए अपनी ही 9 वर्षीय बेटी को मौत के घाट उतार दिया. घटना 3 अक्टूबर को पीलीभीत के थाना अमरिया क्षेत्र के माधौपुर गांव में घटी थी जहां 9 वर्षीय बच्ची का शव खेत में मिला था.

पुलिस ने हत्या की इस वारदात में शामिल बच्ची के दादा शहजादे, बच्ची के पिता अनीस, चाचा शादाब ,नसीम व सलीम को गिरफ्तार किया है. दरअसल 3 अक्टूबर को बच्ची अपने चाचा शादाब के साथ पड़ोस के गांव पट्टी में लगे मेले में गई थी वहां बच्चे के दादा शहजादे की चाय की दुकान भी लगी थी. वहीं से बच्ची गायब हो गई और सुबह उसका शव गांव में ही एक खेत में मिला. पुलिस ने परिवार की तहरीर पर गांव के ही रहने वाले शकील के खिलाफ 302 का मुकदमा दर्ज किया और मामले में तफ्तीश शुरू की. शुरुआती तफ्तीश में शकील बेकसूर नजर आया जिसके बाद शक की सुई परिवार पर गई. एसपी दिनेश कुमार पी के मुताबिक परिवार के लोगों ने ही बच्ची को मौत के घाट उतारा. 
ऐसे रची साजिश
गांव के रहने वाले शहजादे के 10 बेटे हैं. शहजादे का झगड़ा 3 साल से गांव के रहने वाले शकील से चल रहा है. शकील ने कुछ समय पहले शहजादे के पुत्र शादाब पर बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवाया था. शकील को फंसाने के लिए शहजादे ने एक घिनौनी साजिश रची. शहजादे ने अपने चार पुत्र शादाब, अनीस, नसीम व सलीम को बुलाया और उनसे कहा कि अनीश के एक बेटा और एक बेटी है. इसलिए अनीस की बेटी को मारकर शकील को फंसा देते हैं. सभी राजी हो गए मामले में परिवार की महिलाओं को इस साजिश से दूर रखा.

पिता और चारा ने किया वार

घटना वाले दिन शादाब अपनी भतीजी 9 वर्षीय अनम को लेकर मेले में गया और वहां शहजादे दुकान लगाए हुए था वहीं पर शहजादे ने अपनी पोती को नशे की गोलियां दे दी, जिससे वह बेहोश हो गई. मेले में ही उसको छुपा दिया. सुबह 4 बजे शहजादे उसके चारों बेटे शादाब, अनीस, नसीम और सलीम बच्ची को लेकर खेत पर गए. तभी अनम के पिता अनीस ने अनम के सर पर ईट से वार किया और चाचा शादाब ने चाकू से बच्ची का पेट चीर दिया और बच्ची को मरा समझकर गांव के कुछ ग्रामीणों को लेकर बच्ची की तलाश करने लगे. 

यह भी पढ़ें: दस महीने से लापता भिखारी लाल, परिजन डीएम कार्यालय के सामने धरने पर बैठे
किसी ने नहीं पहुंचाया हॉस्पिटल
थोड़ी देर बाद शादाब घटनास्थल पर ग्रामीणों को लेकर पहुंचा, जहां बच्ची को मार कर फेंका गया था. बच्ची जिंदा थी इस दौरान सभी लोग वीडियो बनाने लगे और बच्ची को अस्पताल पहुंचाना मुनासिब नहीं समझा. बुरी तरह जख्मी बच्ची ने कुछ ही देर में दम तोड़ दिया. पुलिस ने अनम की हत्या के जुर्म में उसके दादा शहजादे उसके पिता अनीस चाचा शादाब, नसीम व सलीम को गिरफ्तार कर लिया है. 

Trending news