• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 5,95,501 और अबतक कुल केस- 19,64,537: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 13,28,337 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 40,699 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 67.15% से बेहतर होकर 67.62% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 51,706 मरीज ठीक हुए
  • गोवा MyGov के जनभागीदारी मंच में शामिल हुआ. सरकार के साथ अपनी राय, विचार और सुझाव साझा करने के लिए नागरिक रजिस्टर करें
  • कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में दिल्ली पुलिस की मदद करने के लिए 'कोरोना क्लीनर' का विकास
  • IIT दिल्ली के स्नातकों ने यूवी विकिरण का उपयोग करके 'कोरोना क्लीनर' का विकास किया
  • 74वें स्वंतत्रता दिवस का जश्न सेना, नौसेना और भारतीय वायु सेना के बैंड की संगीतमय प्रस्तुति के साथ मनाया जा रहा है
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना चरण-1 : अप्रैल 2020 से जून 2020
  • राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों ने एनएफएसए लाभार्थियों के बीच अप्रैल-जून 2020 की अवधि के लिए आवंटित खाद्यान्न का 93.5% वितरित किय
  • भारतीय रेलवे द्वारा अयोध्या स्टेशन को राम मंदिर के मॉडल के तर्ज विकसित किया जाएगा

सुप्रीम कोर्ट का सरकार से सवाल, 'जब देश खुल रहा है तो धार्मिक स्थल बन्द क्यों?'

देश की सर्वोच्च अदालत ने सरकार से बड़ा सवाल किया है. सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि पूरे देश में अनलॉक किया जा रहा है और सभी गतिविधियां शुरू हो चुकी हैं तो मन्दिर समेत सभी धर्मस्थल बंद रखने का क्या अभिप्राय है.  

सुप्रीम कोर्ट का सरकार से सवाल, 'जब देश खुल रहा है तो धार्मिक स्थल बन्द क्यों?'

नई दिल्ली: झारखंड के देवघर में बाबा वैद्यनाथ मन्दिर में भक्तों के लिए केवल ई दर्शन की व्यवस्था की गई है. इससे कई श्रद्धालुओं को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है और उन्हें सावन जैसे पवित्र महीने में भगवान शिव के इस महान स्थान पर दर्शन करने का मौका नहीं मिल पा रहा है. इसी विषय पर देश की शीर्ष अदालत में सुनवाई हुई है.

ई दर्शन को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड सरकार से पूछे सवाल

श्रद्धालुओं की मांग पर विचार करते हुए देश की सर्वोच्च अदालत ने झारखंड सरकार से कई तीखे और अहम सवाल किए. सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि मंदिर में ई-दर्शन, दर्शन करना नहीं होता है. कोरोना संकट काल में सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार से कहा कि कोरोना संकट काल में भीड़ न लगे, इसके लिए भक्तों को मंदिर में सीमित संख्या में दर्शन करने की व्यवस्था क्‍यों नहीं करते? श्रद्धालुओं का भगवान के दर्शन करने का अधिकार नहीं छीना जा सकता.

क्लिक करें- शराब नहीं मिलने पर पी लिया सेनिटाइजर, 9 लोगों की तड़पकर मौत

भाजपा सांसद ने खटखटाया था शीर्ष अदालत का दरवाजा

उल्लेखनीय है कि मामले में भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने हाई कोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है जिसमें हाई कोर्ट ने इस मंदिर में लोगों को ई-दर्शन की ही इजाज़त दी है. याचिका पर कोरोना संकट में सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड के देवघर में बाबा बैद्यनाथ मंदिर में भक्तों को दर्शन के लिए केवल ई-दर्शन की इजाजत होने पर की है.

महत्वपूर्ण अक्सरों पर खोले जा सकते हैं धर्मस्थल- सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर संपूर्ण लॉकडाउन हो तो यह अलग बात है, लेकिन अब जब अन्य चीजें खोली जा रही हैं  तो फिर मंदिरों, मस्जिदों और चर्चों को भी कम से कम महत्वपूर्ण अवसरों पर तो खोला जाना चाहिए. जब पूरे देश में कामकाज पहले की तरह शुरू हो रहा है तो धार्मिक स्थल बन्द रखने से क्या होगा.