'एक निशान एक विधान' का सपना आज हुआ पूरी तरह साकार

जम्मू कश्मीर के इतिहास में आज का दिन ऐतिहासिक माना जाएगा. राज्य प्रशासन के सबसे मजबूत स्तंभ पुलिस बल के जवानों ने भारतीय संविधान के तहत शपथ ली. उन्हें आईन-ए-हिंद(भारत के संविधान) के तहत शपथ दिलाई गई. 

'एक निशान एक विधान' का सपना आज हुआ पूरी तरह साकार
जम्मू कश्मीर के लिए आज ऐतिहासिक दिन

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर पुलिस के इतिहास में पहली बार पुलिस में शामिल होने वाले जवानों ने “आईन-ए-हिंद” के तहत शपथ ग्रहण की है. जवानों के पहले जत्थे शामिल हुवे जवानों ने कहा हमें गर्व हैं कि हम उस पहले बैच का हिसा बने जिसने आईन-ए-हिंद के तहत शपथ ली. 

अनुच्छेद 370 हटने के बाद पहली बार परेड
सोमवार का दिन इसलिए भी बेहद खास रहा क्योंकि अनुच्छेद 370 हटने के बाद कश्मीर घाटी में हुई पहली पासिंग आउट परेड हुई. इसमें राज्य पुलिस के जवान शामिल हुए. इन्हीं जवानों ने पहली बार “आईन-ए-हिंद” के तहत शपथ ली.  रंगरूट से जवान बने इन युवाओं ने इसे अपने लिए एक गर्व समय बताया. सोमवार को मनीगाम पुलिस ट्रेनिंग सेंटर (पीटीसी) में 1145 रंगरूट जम्मू कश्मीर पुलिस में कड़ी ट्रेनिंग के बाद शामिल हुए. 

हजारों जवानों के बीच 32 थे खास
आज जिन जवानों ने भारतीय संविधान के तहत शपथ ली उनमें 32 कमांडो भी थे जिन्हें विशेष ट्रेनिंग दी गई ताकि वह किसी भी स्थिति का मुस्तैदी से सामना कर सकें.  अमन और क़ानून की बहाली से लेकर आतंकवाद से लड़ने के लिए इन रंगरूटों को विशेष प्रशिक्षण दिया गया हैं, इतना ही नहीं इन्हें नवीनतम उपकरणों और हथियारों की ट्रेनिंग और जानकारी भी दी गई. 

जवानों ने किया नई पहल का स्वागत 
ताबीर अहमद नाम के एक कमांडो ने कहा कि आज हमारे लिए बहुत ही खुशी का दिन हैं और हम बहुत कुछ नया देख रहे हैं. उन्होंने कहा कि आज हमारा यह पहला जम्मू कश्मीर पुलिस का बैच है जो आईन-ए-हिंद के तहत शपथ ले रहा है. ताबीर ने कहा कि इससे पूर्व आईन-ए-जम्मू कश्मीर के तहत शपथ ली जाती थी. 
जम्मू कश्मीर पुलिस के कमांडो हबीबुल्ला खान ने कहा कि हम आईन-ए-हिंद के तहत अपना कर्तव्य निभाएंगे और उसका पालन करने की पूरी कोशिश करेंगे. जब तक जान है तब तक हम अपने देश की रक्षा करेंगे. 
मन्नू शर्मा नाम के एक और कमांडो ने कहा कि आज काफी गर्व महसूस हो रहा है कि हमने देश की रक्षा करने की शपथ ली है. हमारे लिए सबसे पहले देश आता है बाकी सब बाद में है, हम किसी भी हद तक जा सकते हैं. 

जवानों को दिया गया है हर तरह का प्रशिक्षण
जम्मू कश्मीर पुलिस के कमांडो प्रशिक्षक शब्बीर अहमद ने बताया कि इन जवानों को हर किस्म के हथियार के साथ साथ हर स्थिति से निपटने का प्रशिक्षण दिया गया है. इन्हें हमने ऑल राउंडर बनाया है. इतना ही नहीं हथियारों के अलावा इन्हें बिना हथियार के लड़ने की भी एक विशेष ट्रेनिंग दी गई है ताकि वह कभी भी भीड़ में फंसने पर लोगों पर बिना गोली चलाए अपना बचाव कर सके और उन्हें दूर रख सकें.  

इस मौके पर मुख्य अतिथि राज्यपाल जीसी मुर्मू  ने जम्मू कश्मीर पुलिस की तारीफ़ करते कहा कि इस पुलिस से हमेशा देश का नाम ऊंचा किया हैं और देश पर आने वाली आपत्ति से लड़ने के लिए आगे आगे रहे हैं.