आज आएगा चक्रवाती तूफान 'निवार', आपदा से निपटने के लिए देश तैयार

चक्रवात 'निवार' तूफान में बदल चुका है. यह तमिलनाडु और पुद्दुचेरी में भारी तबाही मचा सकता है. जिससे निपटने के लिए युद्धस्तर पर तैयारी की जा रही है.   

आज आएगा चक्रवाती तूफान 'निवार', आपदा से निपटने के लिए देश तैयार

नई दिल्ली: चक्रवाती तूफान 'निवार' से निपटने के लिए युद्ध स्तर पर तैयारी चल रही है. आज इसके तमिलनाडु और पुदुचेरी के तटों से टकराने की आशंका है. 

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन टीम तैयार 
तूफान की तबाही से निपटने के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) ने जबरदस्त तैयरी शुरु कर दी है.  तीन राज्यों में एनडीआरएफ की 30 टीमें तैनात की गई हैं. तत्काल तैनाती के लिए 20 और टीमों को स्टैंडबाय पर रखा गया है. एनडीआरएफ की एक टीम में 40 कर्मी होते हैं.

तीन राज्यों के लगभग 15 जिलों में चक्रवात की चपेट में आने की आशंका है. जिसकी वजह से समुद्र तट के आस पास रहने वाले कई हजार लोगों को आश्रय गृहों में स्थानांतरित कर दिया गया है. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ), तटरक्षक बल, दमकल विभाग सहित विभिन्न राज्य और केंद्रीय एजेंसियों के कर्मचारियों की तैनाती किसी भी स्थिति से निपटने के लिए की गई है.

ये है आशंका 
मौसम विभाग ने मंगलवार को जानकारी दी है कि चक्रवाती तूफान ‘निवार’ बुधवार को चेन्नई से 50 किलोमीटर दूर राज्य के मामल्लपुरम और पुदुचेरी के कराइकल तट से टकरा सकता है. इस दौरान 100 से 110 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से आंधी चल सकती है. हवाओं की गति 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार तक बढ़ सकती है. 


मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक तूफान प्रभावित तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल के ज्यादातर हिस्सों में भारी बारिश होने की आशंका है. तूफान के मद्देनजर तमिलनाडु और पुडुचेरी में बुधवार को सार्वजनिक छुट्टी घोषित की गई है और सार्वजनिक परिवहन को स्थगित कर दिया गया है.

कुछ ऐसी है राज्य सरकार की तैयारी 
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने तूफान 'निवार' से बचाव के लिए उठाए गए कदमों के तहत बताया कि बुधवार को राज्य में आम छुट्टी की घोषणा की गई है. सिर्फ आवश्यक सेवाओं से जुड़े कर्मचारी काम पर आएँगे. 
राज्य सरकार ने बताया है कि कि  दवा, दूध जैसी आवश्यक सामग्रियों के अतिरिक्त बाजार मंगलवार से लेकर बृहस्पतिवार सुबह छह बजे तक बंद रखे जा रहे हैं. 
राज्य में 4,133 असुरक्षित स्थानों की पहचान की गई है और जिलाधिकारियों को उन इलाकों में लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा गया है. तूफान के बाद लोगों को राहत देने के लिए 3,146 तूफान शरण शिविर बनाए गए हैं. 

तटरक्षक बल ने चार गश्ती पोत और दो हेलीकॉप्टरों को किसी भी हालत से निपटने के लिए तैयार रखा है. विशाखापत्तनम में भी 15 टीमें और तीन डोनियर विमान तैयार रखे गए हैं. दक्षिण रेलवे ने 12 रेलगाड़ियों को स्थगित कर दिया है. मामल्लापुर से करीब 20 किलोमीटर दूर मद्रास परमाणु ऊर्जा संयंत्र में तूफान सुरक्षा प्रणाली को सक्रिय कर दिया गया है.

ये भी पढ़ें- निवार तूफान से बेहद गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है. 

देश और दुनिया की हर एक खबर अलग नजरिए के साथ और लाइव टीवी होगा आपकी मुट्ठी में. डाउनलोड करिए ज़ी हिंदुस्तान ऐप. जो आपको हर हलचल से खबरदार रखेगा...

नीचे के लिंक्स पर क्लिक करके डाउनलोड करें-
Android Link -