कोरोना फ्रंट लाइन वर्कर्स के लिए पीएम मोदी ने शुरू किया क्रैश कोर्स, जानिए खास बातें

कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि महामारी ने साइंस, सरकार, समाज, संस्था और व्यक्ति के रूप में हमें अपनी क्षमताओं का विस्तार करने के लिए सतर्क भी किया है. महामारी जिस तरह से चुनौतियों को सामने रख रही है, हमारे लिए जरूरी है कि हम अपनी क्षमता को रोज बढ़ाते रहें. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jun 18, 2021, 12:27 PM IST
  • देश में करीब एक लाख फ्रंट लाइन कोरोना वॉरियर्स तैयार किए जाएंगे
  • क्रैश कोर्स प्रोग्राम की शुरुआत 26 राज्यों के 111 ट्रेनिंग सेंटरों से की गई

ट्रेंडिंग तस्वीरें

कोरोना फ्रंट लाइन वर्कर्स के लिए पीएम मोदी ने शुरू किया क्रैश कोर्स, जानिए खास बातें

नई दिल्लीः पीएम मोदी (PM Modi)ने कोरोना से लड़ रहे फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए बड़ी सौगात की घोषणा की. उन्होंने शुक्रवार को कोविड-19 हेल्थकेयर फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए विशेष रूप से तैयार प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया. 
प्रोग्राम की शुरुआत 26 राज्यों के 111 ट्रेनिंग सेंटरों से की गई. योजना है कि इसके तहत देशभर के एक लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स को कौशल सिखाया जाएगा.

 

अपनी क्षमताओं का विस्तार करना होगा

कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि महामारी ने साइंस, सरकार, समाज, संस्था और व्यक्ति के रूप में हमें अपनी क्षमताओं का विस्तार करने के लिए सतर्क भी किया है. महामारी जिस तरह से चुनौतियों को सामने रख रही है, हमारे लिए जरूरी है कि हम अपनी क्षमता को रोज बढ़ाते रहें. 

इस दौरान पीएम मोदी ने आने वाली चुनौतियों और तैयारियों का भी जिक्र किया. पीएम ने कहा कि आज यह जो महाअभियान शुरू हो रहा है इसका लक्ष्य है कि देश में करीब एक लाख फ्रंट लाइन कोरोना वॉरियर्स तैयार किए जाएं. पीएम मोदी ने कहा कि ये कोर्स दो से तीन महीने में ही पूरा हो जाएगा, इसलिए ये लोग तुरंत काम के लिए उपलब्ध भी हो जाएंगे.

फ्रंटलाइन वर्कर्स को मिलेंगे लाभ

पीएम मोदी ने यह भी कहा कि फ्रंटलाइन वर्कर्स के विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत, उम्मीदवारों को निःशुल्क ट्रेनिंग, स्किल इंडिया का सर्टिफिकेट, भोजन व आवास सुविधा, काम पर प्रशिक्षण के साथ स्टाइपेंड और प्रमाणित उम्मीदवारों को दो लाख रुपये का दुर्घटना बीमा प्राप्त होगा.

रोजगार का अवसर देगा क्रैश कोर्स

कोरोना का वायरस हमारे बीच अभी भी है और इसके म्यूटेड होने की संभावना भी बनी हुई है. पीएम मोदी ने कहा कि इस अभियान से कोविड से लड़ रही हमारी हेल्थ सेक्टर की फ्रंटलाइन फोर्स को नई ऊर्जा भी मिलेगी और हमारे युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर भी बनेंगे.

आशा-आंगनबाड़ी की सराहना की

पीएम ने अपने संबोधन में आशा, एएनएम, आंगनबाड़ी और गांव की तैनात स्वास्थकर्मियों की भूमिका की सराहना की. जिनके कारण गांवों में संक्रमण के फैलाव को रोकने, दूर सुदूर के क्षेत्रों में, पहाड़ी और जनजाति क्षेत्रों में टीकाकरण अभियान को सफलतापूर्वक चलाया जा सका. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़