भारत में कोरोना वैक्सीन की कमी पर बोले पूनावाला, उत्पादन बढ़ाने की पुरजोर कोशिश जारी

भारत में कोरोना वैक्सीन की कमी के बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के मुख्या अदार पूनावाला ने बड़ा बयान दिया है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 16, 2021, 02:29 AM IST
भारत में कोरोना वैक्सीन की कमी पर बोले पूनावाला, उत्पादन बढ़ाने की पुरजोर कोशिश जारी

नई दिल्ली: देश में कोरोना टीके की कमी के बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के प्रमुख अदार पूनावाला ने कहा कि वैक्सीन की मांग को पूरा करने के लिए उत्पादन में तेजी लाने की पूरी कोशिश की जा रही हैं.

एसआईआई के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष अदार पूनावाला ने शनिवार को एक ट्वीट में कहा कि संस्थान भारतीय बाजार में प्राथमिकता से टीका उपलब्ध कराने की पूरी कोशिश कर रहा हैं.

उन्होंने जिंदल साउथ वेस्ट के अध्यक्ष सज्जन जिंदल के ट्वीट का जवाब देते हुए कहा, 'सीरम इंस्टिट्यूट में हम भारत के लिए प्राथमिकता से वैक्सीन उत्पादन बढ़ाने और नयी वैक्सीन उतारने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. हम जिंदल साउथ वेस्ट के देश में चिकित्सीय ऑक्सीजन की आपूर्ति को पूरा करने के प्रयासों के लिए आभारी हैं. हम इस महामारी के खिलाफ इस लड़ाई में एक साथ खड़े हैं.

सज्जन जिंदल ने दरअसल इससे पहले एसआईआई, भारत बायोटेक और उसकी प्रबंध निदेशक कृष्णा एल्ला को ट्वीटर पर टैग कर कहा, 'कोरोना संक्रमण से जीतने का एक मात्र विकल्प देश में सभी को टीका लगाना है. भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा अपनी उत्पादन क्षमताओं को बढ़ाते हुए देखना बेहद अच्छा है.'

गौरतलब है कि भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट देश में दो प्रमुख वैक्सीन निर्माता कंपनी हैं. दोनों ने अबतक कई राज्यों को वैक्सीन की आपूर्ति की है और यह लगातार जारी है. 

इस बीच अपोलो हॉस्पिटल समूह की संयुक्त प्रबंध निदेशक संगीता रेड्डी ने केंद्र सरकार से कोरोना वैक्सीन उत्पादन में तेजी लाने के लिए निर्णायक कदम उठाने का आग्रह किया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'मैं केंद्र सरकार से टीके के उत्पादन को बढ़ाने के लिए बड़ा और निर्णायक कदम उठाने का आग्रह करती हूं. सरकार को टीकाकरण प्रक्रियाओं को उन लोगों के लिए भी कारगर बनाना चाहिए जिनकी पहुंच इंटरनेट तक नहीं हैं.'

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़