सुनिए आखिरी कॅाल पर देश के वीर शहीदों ने अपने माता-पिता और परिवार से क्या कहा था

आज हम आपको जांबाज़ शहीदों की वो कहानियां बताएंगे, जिनसे हमारे शूरवीरों के फौलादी जिगर का पता चलता है. शहीद रामवकील घर में जब भी फोन करते थे हमेशा कहते थे मैं ठीक हूं. कितने भी मुश्किल हालात क्यों ना हों, कभी अपनी तकलीफ बयां नहीं करते. श्रीनगर रवाना होने से ठीक पहले जब आखिरी बार घर में फोन किया था तो कहा था- आप सब ठीक से रहना मेरी चिंता मत करना.

Feb 17, 2019, 10:49 PM IST

ट्रेंडिंग न्यूज़