चमगादड़ से नहीं, Omicron चूहों से जन्मा है, इसीलिए वायरस बना खतरनाक

वैज्ञानिकों ने नई थ्यूरी में कहा है कि दुनिया भर में दहशत पैदा करने वाले कोविड के सुपर-म्यूटेंट ओमाइक्रोन स्ट्रेन कृन्तकों (कुतरने वाले जीवों जैसे चूहों) में विकसित हो सकते हैं.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 4, 2021, 01:35 PM IST
  • ओमिक्रॉन से पहले का इस जैसा वेरिएंट 2020 में सामने आया था
  • फिर यह गायब हो गया, जब लौटा तो काफी खतरनाक हो चुका था

ट्रेंडिंग तस्वीरें

चमगादड़ से नहीं, Omicron चूहों से जन्मा है, इसीलिए वायरस बना खतरनाक

लंदन: कोरना वायरस के लिए चमगादड़ को जिम्मेदार ठहराया जाता है, लेकिन अब वैज्ञानिकों ने कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है. वैज्ञानिकों ने नई थ्यूरी में कहा है कि दुनिया भर में दहशत पैदा करने वाले कोविड के सुपर-म्यूटेंट ओमिक्रॉन स्ट्रेन कृन्तकों (कुतरने वाले जीवों जैसे चूहों) में विकसित हो सकते हैं.

32 म्यूटेंट में छिपा राज
ओमाइक्रोन के अकेले अपने स्पाइक प्रोटीन 32 म्यूटेंट होते हैं. यह डेल्टा से लगभग पांच गुना अधिक संक्रामक हो जाता है. अब तक वैज्ञानिक कह रहे थे कि ओमिक्रॉन किसी एड्स रोगी के शरीर में विकसित हुआ है. लेकिन कैलिफोर्निया में स्क्रिप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट के एक इम्यूनोलॉजिस्ट प्रोफेसर क्रिस्टियन एंडरसन ने यह सिद्धांत दिया है कि ओमिक्रॉन बनने वाला वायरस कृन्तकों में विकसित हो सकता है.

उनका कहना है कि किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने कुतरने वाले किसी जीव को संक्रमित कर दिया. फिर इस वायरस ने चूहों जैसे जीवों के शरीर में ज्यादा विकसीत और खतरनाक रूप ले लिया. फिर यह वायरस दोबारा इंसानों को संक्रमित कर रहा है. इस प्रक्रिया को 'रिवर्स ज़ूनोसिस' कहते हैं. 

ये भी पढ़ें- इजराइल ने बनाया ईरान के 10 वैज्ञानिकों को जासूस, उड़ाया अपना ही न्यूक्लियर प्लांट

वैज्ञानिकों के मुताबिक ओमिक्रॉन से पहले का इस जैसा वेरिएंट 2020 में सामने आया था लेकिन फिर यह गायब हो गया और जब लौटा तो काफी खतरनाक हो चुका था. 

यह है थ्योरी का आधार
वैज्ञानिकों का कहना है कि ओमिक्रॉन स्ट्रेन में कई ऐसे म्यूटेंट हैं जो कृन्तकों को संक्रमित करते हैं. 

प्रोफेसर एंडरसन ने इस सिद्धांत को इस तथ्य पर आधारित किया कि ओमिक्रॉन पिछले साल के मध्य में अन्य कोविड वेरिएंट से अलग हो गया था, जीनोमिक नमूने ने सुझाव दिया कि यह केवल इस साल अक्टूबर में कुछ समय के लिए लोगों में प्रसारित होना शुरू हुआ.  फिर अब यह दोबारा आया है.इन दो अवधियों के बीच जो हुआ वह रहस्य है जिसने ओमिक्रान को इतना अलग बना दिया है. 

कोविड के भारी उत्परिवर्तित स्ट्रेन ओमिक्रॉन की रहस्यमय उत्पत्ति ने विशेषज्ञों को हैरान कर दिया है. पिछले हफ्ते सामने आए इस दक्षिण अफ्रीकी वेरिएंट से पूरी दुनिया परेशान हैं. 

ये भी पढ़ें- Omicron ने बढ़ाई चिंता, पांच साल से कम उम्र के बच्चे भी आ रहे इसकी चपेट में

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप. 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़