जम्मू-कश्मीर के ग्रेंड मुफ्ती का फैसला: किसी भी मस्जिद में नहीं होगी जुमे की नमाज़

जम्मू कश्मीर (Jammu & Kashmir) में ग्रेंड मुफ्ती नसीरुल इस्लाम (Nasirul Islam) ने बताया कि कल यानी 27 मार्च को जुमे की नमाज़ अदा नहीं की जाएगी. उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि जुमे को अपने घर पर ही नमाज़ अदा करें.

जम्मू-कश्मीर के ग्रेंड मुफ्ती का फैसला: किसी भी मस्जिद में नहीं होगी जुमे की नमाज़
फाइल फोटो...

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर (Jammu & Kashmir) में ग्रेंड मुफ्ती नसीरुल इस्लाम (Nasirul Islam) ने बताया कि कल यानी 27 मार्च को जुमे की नमाज़ अदा नहीं की जाएगी. उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि जुमे को अपने घर पर ही नमाज़ अदा करें. उन्होंने कहा कि ये हमारे तहफ्फुज़ के लिए ही है और इस्लाम भी इसकी इजाज़त देता है. 

उन्होंने जुमेरात को लोगों इस पर अमल करने की अपील की है. साथ ही कहा है कि कश्मीर एक सेहती तबाही की जानिब बढ़ रहा है. इसलिए कल कश्मीर में किसी भी मस्जिद में जुमें की नमाज़ अदा नहीं होनी चाहिए. हमें ये समझाना होगा कि हम एक बेहद मुश्किल दौर से गुज़र रहे हैं और इसे हमें रोकना है.

इसी कड़ी में उन्होंने आगे कहा कि हुकूमत की जानिब से जारी अहकामात की कोई खिलाफवर्ज़ी नहीं होनी चाहिए. जहां तक ​बाकी दिनों की पांच वक्त की नमाज़ अदा करना का है तो उसपर मुफ्ती ने कहा कि मस्जिद के सिर्फ तीन लोग शामिल होंगे और वो मस्जिदों में पांच वक्त की नमाज़ अदा करेंगे, बाकी लोगों को घर पर ही नमाज़ अदा करनी चाहिए. इससे कश्मीर और मुल्क भर में जो महामारी फैल रही है उसे बचने में मदद मिलेगी.

इससे पहले दिल्ली फतेहपुरी मस्जिद के इमाम मुफ़्ती मुकर्रम ने भी लोगों से अपील की है कि सभी मस्जिदों में जुमे की अज़ान होगी और खुतबा भी, लेकिन जुमे की नमाज़ सिर्फ इमाम, मोअज़्ज़िन और ख़ादिम ही पढ़ेंगे बाहर से मस्जिद में कोई ना आए क्योंकि इस वक़्त हालात ठीक नहीं है, और इस्लाम इस बात की इजाज़त देता है कि जब कोई वबा फैलने का ख़तरा हो तो घरों में ही नमाज़ अदा करें.