नहीं रहे शिया मज़हबी रहनुमा मौलाना कल्बे सादिक, लखनऊ में ली आखिरी सांस

बता दें कि मौलाना कल्बे सादिक देश के सबसे बड़े शिया मज़हबी रहनुमा थे और उनकी शिया सुन्नियों को एक करने की कोशिशों को हमेशा याद किया जाएगा.

नहीं रहे शिया मज़हबी रहनुमा मौलाना कल्बे सादिक, लखनऊ में ली आखिरी सांस
फाइल फोटो

लखनऊ: शिया धर्म गुरु और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष मौलाना डॉ. कल्बे सादिक का मंगलवार की रात 10 बजे निधन हो गया. उन्होंने लखनऊ के एरा मेडिकल कॉलेज में अंतिम सांसें लीं. उनके बेटे कल्बे सिब्तैन नूरी ने उनके निधन की पुष्टि करते हुए बताया कि बीते 17 नवंबर को उनकी तबीयत बिगड़ गई थी. उसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. तब से लगातार उनकी तबीयत खराब रही.

मौलाना सादिक लंबे समय से आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष थे. देश-विदेश में ख्यातिप्राप्त डॉ. सादिक लड़कियों व निर्धन बच्चों की शिक्षा के लिए हमेशा सक्रिय रहे. वह यूनिटी कॉलेज और एरा मेडिकल कॉलेज के संरक्षक भी थे. डॉ. कल्बे सादिक को पूरी दुनिया आपसी भाईचारे और मोहब्बत का पैगाम देते शिया धर्म गुरु के रूप में जानती थी. वह विदेशों में मजलिस पढ़ने जाते थे और मोहब्बत का पैगाम देते थे.

सीएम योगी ने कल्बे सादिक को दी श्रद्धांजलि
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धर्म गुरु मौलाना कल्बे सादिक के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है. उन्होंने दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है.

सपा ने कल्बे सादिक के निधन पर दुख जताया
समाजवादी पार्टी ने भी ट्वीट कर मौलाना कल्बे सादिक के निधन पर दु:ख प्रकट किया है. सपा के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, ''शिया धर्मगुरु और इस्लामिक स्कॉलर मौलाना डॉ. कल्बे सादिक साहब का लखनऊ में इंतक़ाल अत्यंत दुखद! शोकाकुल परिवार एवं उनके सभी चाहने वालों के प्रति गहन संवेदना!भावभीनी श्रद्धांजलि!''

Zee Salaam LIVE TV