वसीम रिज़वी का बयान, मौलाना साद पर दर्ज हो क़त्ल का केस

सीम रिजवी ने निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात के सद्र मौलाना साद पर क़त्ल का केस दर्ज करने की मांग की है.उन्होंने कहा कि तब्लीगी जमात ने देश में मस्जिदों से मौत बांटने का काम किया है।

वसीम रिज़वी का बयान, मौलाना साद पर दर्ज हो क़त्ल का केस
फाइल फोटो...

लखनऊ : निज़ामुद्दीन तबलीगी जमात मामले के बाद मौलान साद समेत 7 लोगों पर केस दर्ज हो चुका है,पुलिस मौलाना साद की जांच में जुटी है. निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात मरकज़ में प्रोग्राम कराने के मामले में मौलाना साद पर चारों तरफ से हमला हो रहा है।इसी सिम्त में शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड चेयरमैन वसीम रिजवी ने भी निशाना साधा है.

वसीम रिजवी ने निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात के सद्र मौलाना साद पर क़त्ल का केस दर्ज करने की मांग की है.उन्होंने कहा कि तब्लीगी जमात ने देश में मस्जिदों से मौत बांटने का काम किया है। ऐसे में जमात या फिर इनके चलते किसी दूसरे की हुई मौत पर उसका मुजरिम मौलाना मोहम्मद साद को मानते हुए सज़ाए मौत से कम सजा न दी जाए।

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा कि निजामुद्दीन मरकज के मौलाना साद के खिलाफ क़त्ल का केस दर्ज हो। वसीम रिज़वी ने कहा कि जमातियों के इस बर्ताव को देखकर ऐसा लगता है कि उनका अल्लाह कोई और है, क्योंकि वह कहते हैं कि यह महामारी अल्लाह ने दी है और बंदों को इसके लिए अल्लाह से तौबा करनी चाहिए। बता दें कि मौलाना साद का एक ऑडियो भी सोशल मीडिया में सामने आया था जिसमें मौलाना ने कहा था कि बीमारी कुछ नहीं है इसे मन में बैठाया जा रहा है और अगर मरना है तो मस्जिद से अच्छी जगह नहीं है.

वसीम रिज़वी ने कहा कि अगर जमात में मौजीद लोगों की वजह से कोरोना वायरस तेजी से फैलता है और किसी की भी मौत कोरोना वायरस से होती है तो निजामुद्दीन मरकज के मौलाना मोहम्मद साद के खिलाफ कत्ल का केस दर्ज होना चाहिए। वसीम रिजवी ने कहा कि अल्लाह की इबादत करना और उससे तौबा करना अच्छी बात है, लेकिन अल्लाह कभी अपने बंदों पर जुल्म नहीं करता। यहां पर असल में यह कुछ इंसानों की गलतियां हैं, जिसे दुनिया भर के इंसानों को झेलना पड़ रहा है।

सैयद वसीम रिजवी ने कहा कि तबलीगी जमात मुसलमानों का एक खतरनाक ग्रुप है जो पूरी दुनिया में इस्लाम के प्रचार के नाम पर मुसलमान लड़कों को कट्टरपंथी बनाता है। इनका काम है- चार-चार, पांच-पांच के गुटों में शहरों-शहरों और गांव-गांव जाते हैं और मुसलमान लड़कों को रोककर उनको इस्लाम की बातें बताते हैं। रिजवी ने कहा कि यह जमात पूरी दुनिया में फैली है, हिंदुस्तान में भी इसके लाखों मेंबर हैं। अबु बकर बगदादी और ओसामा बिन लादेन जैसे दहशतगर्द भी तब्लीगी जमात के मददगार थे। 

Watch Zee Salaam Live TV