रामनाथ कोविंद की उम्मीदवारी पर नीतीश ने जताई खुशी, समर्थन के सवाल पर साधा मौन

ज़ी न्यूज़ डेस्क | अंतिम अपडेट: Jun 19, 2017, 06:17 PM IST
रामनाथ कोविंद की उम्मीदवारी पर नीतीश ने जताई खुशी, समर्थन के सवाल पर साधा मौन
नीतीश ने कहा कि बिहार के राज्यपाल के तौर रामनाथ कोविंद ने शानदार काम किया है. (file)

नई दिल्ली/पटना. रामनाथ कोविंद को एनडीए द्वारा राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने के पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि यह उनके लिए व्यक्तिगत तौर पर एक खुशी का मौका है। हालांकि उन्होंने कोविंद की उम्मीदवारी को समर्थन देने के सवाल पर कुछ भी साफ नहीं कहा. उन्होंने कहा, 'जहां तक समर्थन का सवाल है मैं अभी कुछ नहीं कह सकता.'

आगे पढ़ें : जानें कौन हैं एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद 

नीतीश बोले राज्यपाल की भूमिका शानदार तरीके से निभाई

नीतीश ने कहा कि बिहार के राज्यपाल के तौर पर उन्होंने शानदार काम किया है. उन्होंने पूरी निष्पक्षता के साथ अपनी जिम्मेदारी को निभाया है और राज्य सरकार के साथ एक आदर्श संबंध कायम किए.

और पढ़ें : यूपी से पहले और देश के दूसरे दलित राष्ट्रपति होंगे रामनाथ कोविंद!

कोविंद के नाम का अमित शाह ने किया एलान

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान 71 वर्षीय कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने की घोषणा की. शाह ने कहा कि कोविंद की उम्मीदवारी के बारे में पीएम मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से बात की और एनडीए के फैसले के बारे में उन्हें अवगत कराया. 

और पढ़ें : रामनाथ कोविंद अप्रतिम राष्ट्रपति साबित होंगे, गरीबों और वंचितों के आवाज बने रहेंगे: PM मोदी

23 जून को किया जाएगा नामांकन पत्र दाखिल

अमित शाह ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में भाजपा तथा राजग ने विभिन्न दलों के साथ राष्ट्रपति उम्मीदवार को लेकर विचार-विमर्श किया। इससे सामने आए विचारों के आधार पर आज संसदीय बोर्ड की बैठक में लंबी सूची पर विचार किया गया और अंत में बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद का नाम तय किया गया। उन्होंने कहा कि कोविंद अनुसूचित जाति समुदाय से आते हैं और 12 वर्ष तक राज्यसभा सदस्य रहे हैं। वह भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रमुख भी रहे हैं। इसके अलावा वह उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय में वकालत भी कर चुके हैं। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नामांकन भरने की तिथि श्री कोविंद से बातचीत कर तय की जाएगी लेकिन संभावना है कि 23 जून को नामांकन पत्र दाखिल कर दिया जाएगा।