आम जनता को झटका! त्योहारी सीजन में खाद्य तेल हुए महंगे, जानिए किसका कितना बढ़ा भाव?
X

आम जनता को झटका! त्योहारी सीजन में खाद्य तेल हुए महंगे, जानिए किसका कितना बढ़ा भाव?

सरसों तेल समेत सभी प्रमुख खाद्य तेलों के दाम सप्‍ताह के आखिर में बढ़ गए. सरसों तेल समेत सभी प्रमुख खाद्य तेलों के दाम सप्‍ताह के आखिर में बढ़ गए. त्योहारी मांग (Festive Demand) लगातार बढ़ रही है. 

आम जनता को झटका! त्योहारी सीजन में खाद्य तेल हुए महंगे, जानिए किसका कितना बढ़ा भाव?

नई दिल्ली: त्योहारी सीजन के बीच आम जनता को एक बार फिर तगड़ा झटका लगा है. खाद्य तेलों की कीमत (Edible Oil Price Hike) में फिर आग लगी है. त्योहार में तेल की मांग बढ़ने और तिलहन की कमी के कारण बाजार में सरसों (Mustard Seeds/Oil), मूंगफली, सोयाबीन और कच्‍चा पाम ऑयल (CPO) समेत लगभग सभी तेल-तिलहन के भाव बढ़ गए हैं. एक्सपर्ट के अनुसार, हाल में हुये बरसात से तिलहन फसलों को हुए नुकसान के कारण भी खाद्य तेलों की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है.

दीवाली के बाद और होगी बढ़ोतरी

रिपोर्ट के अनुसार, देश में अभी सरसों का 10-12 लाख टन का स्टॉक रह गया है, जो ज्यादातर किसानों के ही पास है. दूसरी तरफ, त्योहारी मांग लगातार बढ़ रही है और दीवाली के बाद सरसों की मांग में तेज बढ़ोतरी होगी. ऐसे में सलोनी शम्साबाद में सरसों का भाव पिछले हफ्ते के अंत में 8,900 रुपये से बढ़ाकर 9,200 रुपये क्विंटल कर दिया गया.

ये भी पढ़ें- दिवाली से पहले किसानों को मिलेगा बड़ा तोहफा! डबल हो सकता है पीएम किसान का पैसा, जानिए सरकार का प्लान

वैश्विक कीमतों में वृद्धि से हुई तेजी 

केंद्रीय खाद्य सचिव सुधांशु पांडेय ने बताया कि फरवरी 2022 में अगली फसल आने के बाद ही सरसों की कीमतों में नरमी की संभावना बताई जा रही है. उन्होंने कहा कि खाद्य तेलों की वैश्विक कीमतों में बढ़ोतरी के चलते सरसों के तेल की कीमतों पर असर पड़ा है. दरअसल, नई फसल के आने के समय आमतौर पर भाव गिरा दिया जाता है. ऐसे में किसानों को कम दाम पर अपनी फसल बेचने पर मजबूर होना पड़ता है. यानी किसानों को घाटे का सौदा करना पड़ता है. 

ये भी पढ़ें- पेंशनर्स के लिए खुशखबरी! NPS के तहत अब मिलेगा 'गारंटीड रिटर्न', जानिए सरकार की तैयारी

सरसों कच्‍ची घानी के दाम

इसी क्रम में, सरसों दाने का भाव बीते सप्ताह 145 रुपये बढ़कर 8,870-8,900 रुपये प्रति क्विंटल हो गया. सरसों दादरी तेल का भाव पिछले सप्ताह के मुकाबले 450 रुपये बढ़कर समीक्षाधीन हफ्ते के आखिर में 18,000 रुपये क्विंटल हो गया. सरसों पक्की घानी तेल की कीमतें 40 रुपये बढ़कर 2,705-2,745 रुपये और कच्ची घानी के दाम भी 40 रुपये बढ़कर 2,780-2,890 रुपये प्रति टिन हो गए. यानी कच्ची घनी में भी जम कर बढ़ोतरी हुई है. 

ये भी पढ़ें- दिवाली-छठ पर यात्रियों को मिली राहत! अब इन रूट्स पर बिना रिजर्वेशन भी कर सकेंगे सफर

सोयाबीन के दाम में बंपर उछाल

त्योहार के सीजन में मांग के कारण समीक्षाधीन सप्ताह के अंत में सोयाबीन दाने का भाव 50 रुपये बढ़कर 5,300-5,500 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ. सोयाबीन इंदौर 420 रुपये उछलकर 13,670 रुपये और सोयाबीन डीगम के दाम 380 रुपये की बढ़ोतरी के साथ 12,580 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुए.

मूंगफली रिफाइंड में भी तेजी 

समीक्षाधीन सप्ताह के आखिर में बिनौला तेल में आई तेजी से मूंगफली की मांग बढ़ गई. इससे मूंगफली का भाव 15 रुपये सुधरकर 6,300-6,385 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ. वहीं, मूंगफली सॉल्वेंट रिफाइंड का भाव 10 रुपये बढ़कर 2,090-2,220 रुपये प्रति टिन पर बंद हुआ.

पाम ऑयल के भाव में तेजी

वहीं, कच्चे पाम तेल (CPO) का भाव 300 रुपये बढ़कर 11,450 रुपये क्विंटल पर पहुंच गया. पामोलीन दिल्ली के दाम 160 रुपये बढ़कर 13,060 रुपये और पामोलीन कांडला तेल के भाव 60 रुपये बढ़ोतरी के साथ 11,860 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुए. बिनौला तेल का भाव 450 रुपये बढ़कर 13,950 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ.

बिजनेस से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Trending news