समीर वानखेड़े और किरण गोसावी के बीच डील? क्या साजिश के तहत फंसे आर्यन खान
X

समीर वानखेड़े और किरण गोसावी के बीच डील? क्या साजिश के तहत फंसे आर्यन खान

Aryan Khan Drugs Case: समीर वानखेड़े पर मुस्लिम होने के आरोप लग रहे हैं. एनसीपी का आरोप है कि समीर वानखेड़े ने फर्जी तरीके से दलित कोटे से नौकरी हासिल की है. एनसीपी ने उनका जन्म प्रमाणपत्र भी जारी किया है.

समीर वानखेड़े और किरण गोसावी के बीच डील? क्या साजिश के तहत फंसे आर्यन खान

PODCAST

मुंबई: आर्यन खान को गिरफ्तार कराने वाले Private Detective किरण गोसावी के बॉडीगार्ड ने ये दावा किया है कि किरण गोसावी शाहरुख खान से 25 करोड़ रुपये की डील कर रहे थे. जिसमें से 8 करोड़ रुपये समीर वानखेड़े को जाने थे. किरण गोसावी के इसी बॉडीगार्ड को NCB ने इस पूरे मामले में गवाह भी बनाया था. ऐसे में केस के ही एक गवाह का ये बयान पूरे मामले को पलट सकता है. किरण गोसावी वही है जिसकी NCB के दफ्तर में आर्यन खान के साथ तस्वीर वायरल हुई थी. इस तस्वीर को आप इस पूरी कहानी का पोस्टर भी कह सकते हैं.

समीर वानखेड़े पर लगे उगाही के आरोप

ये पूरा विवाद प्रभाकर सैल के उस बयान के बाद शुरू हुआ, जिसमें उन्होंने समीर वानखेड़े पर उगाही के आरोप लगाए हैं. वो इस मामले में NCB की तरफ से बनाए गए दो गवाहों में से एक हैं और खुद को किरण गोसावी का बॉडीगार्ड भी बताते हैं. यानी उनका बयान इस पूरे केस को पलट भी सकता है. मुंबई पुलिस को दिए एक हलफनामे में उन्होंने बताया है कि उन्होंने किरण गोसावी को 25 करोड़ रुपये के बारे में बात करते हुए सुना था और आरोप है कि गोसावी इन 25 करोड़ में से 8 करोड़ रुपये समीर वानखेड़े को देने वाले थे.

किरण गोसावी और पूजा ददलानी की मुलाकात

3 अक्टूबर को आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद हुई एक मीटिंग का जिक्र करते हुए उन्होंने ये भी कहा कि गोसावी और शाहरुख खान की मैनेजर पूजा ददलानी के बीच उस दिन एक मुलाकात हुई थी और सबसे बड़ी बात ये है कि प्रभाकर सैल जो कि इस मामले में खुद गवाह भी हैं, उन्होंने ये कहा है कि समीर वानखेड़े द्वारा उनसे Blank Papers पर हस्ताक्षर करवाए गए थे यानी आरोप है कि उन्हें एक साजिश के तहत इस मामले में गवाह बनाया गया जबकि उन्हें इसकी जानकारी ही नहीं थी.

ये भी पढ़ें- महंगा कप्तान, शानदार कोच के बाद भी क्यों हुई भारत की हार? 3 प्वाइंट्स से समझिए

 

समीर वानखेड़े के खिलाफ पुलिस को सौंपे गए सबूत

प्रभाकर सैल मुंबई पुलिस कमिश्नर के दफ्तर भी पहुंचे, जहां उन्होंने समीर वानखेड़े के खिलाफ कुछ सबूत पुलिस को सौंपे हैं. और हो सकता है कि आने वाले दिनों में इस मामले की जांच उनसे वापस ले ली जाए क्योंकि एक तरफ जहां खुद NCB ने उनके खिलाफ जांच शुरू कर दी है तो दूसरी तरफ मुंबई पुलिस भी उनके खिलाफ Extortion के आरोपों के तहत जांच शुरू कर सकती है.

हालांकि समीर वानखेड़े ने मुंबई पुलिस को पत्र लिखकर कहा है कि वो इस बारे में जल्दबाजी में कोई कानूनी कार्रवाई न करें और वो दिल्ली आ गए हैं, जहां उनकी मुलाकात NCB के डीजी से हो सकती है.

इस पूरे खेल को समझें तो जो प्रभाकर सैल अब तक NCB की तरफ से बैटिंग कर रहे थे, लेकिन अब वो NCB के खिलाफ मैदान में उतर आए हैं और ऐसा लगता है कि उनके आरोपों वाले बाउंसर पर समीर वानखेड़े अपनी विकेट गंवा सकते हैं.

NCB के छापे और बाद में हुई गिरफ्तारियों से ही ये पूरा मामला विवादों में घिर गया था. खासकर दो लोगों को लेकर और ये दो लोग थे किरण गोसावी और मनीश भानुशाली. गोसावी को पहली बार आर्यन खान के साथ ही देखा गया था, जब NCB दफ्तर में खींची गई उनकी एक सेल्फी वायरल हुई थी. इसके अलावा एक वीडियो में वो मोबाइल फोन पर आर्यन खान की किसी से बात कराते हुए दिखे थे. किरण गोसावी को लेकर शुरुआत से ही सवाल उठ रहे हैं क्योंकि गिरफ्तारी वाले दिन वो आर्यन खान को पकड़ कर NCB दफ्तर में ले जाते हुए दिखे थे, जिस पर NCP का आरोप है कि एक गवाह इस मामले में आरोपी को पकड़ कर कैसे ले जा सकता है?

हालांकि हमने किरण गोसावी से आज इस पर बात की है, जिनका ये कहना है कि जांच को प्रभावित करने के लिए उन पर और NCB पर मनगढ़ंत आरोप लगाए जा रहे हैं. उन्होंने हमें ये भी बताया कि गिरफ्तारी के बाद उन्होंने आर्यन खान की मोबाइल फोन पर किससे बात करवाई थी.

इस मामले में आज धर्म की एंट्री भी हो गई. NCP ने आरोप लगाया कि समीर वानखेड़े दलित नहीं बल्कि मुसलमान हैं और उन्होंने आरक्षण कोटे में फर्जीवाड़ा करके नौकरी पाई है. सबूत के तौर पर NCP ने उनका एक जन्म प्रमाण पत्र भी जारी किया है, जिसमें समीर वानखेड़े के पिता का नाम दाऊद कचरूजी वानखेड़े और मां का नाम ज़ाहिदा बानो लिखा हुआ है. इन आरोपों पर समीर वानखेड़े ने भी सफाई दी और कहा कि उनके पिता हिन्दू और मां मुस्लिम थीं लेकिन वो सच्ची भारतीय परंपरा और एक सेक्यूलर परिवार से ताल्लुक रखते हैं.

उन्होंने बताया कि वर्ष 2006 में उनकी पहली शादी डॉ. शबाना कुरैशी से हुई थी, जो एक मुसलमान थी. लेकिन 2016 में तलाक होने के बाद उन्होंने दूसरी शादी की और उनकी दूसरी पत्नी क्रान्ति दीनानाथ रेडकर हिन्दू हैं. सोचिए इस मामले में अब नौबत ये आ गई है कि हिन्दू मुसलमान की लड़ाई हो रही है.

एक ताजा अपडेट ये है कि समीर वानखेड़े ने आज NDPS कोर्ट में Affidavit दायर किया है, जिसमें उन्होंने कोर्ट से ये मांग की थी कि वो प्रभाकर सैल के उस हलफनामे पर रोक लगा दे, जिसमें उन पर उगाही के आरोप लगे हैं. लेकिन कोर्ट ने इससे इनकार कर दिया, जिसके बाद समीर वानखेड़े अब दिल्ली आ गए हैं.

इसके अलावा सोमवार को अनन्या पांडे को तीसरी बार पूछताछ के लिए NCB दफ्तर आना था, लेकिन वो निजी कारणों से नहीं आई और उन्होंने पूछताछ के लिए अगली तारीख मांगी है. NCB अनन्या पांडे से अब तक दो बार में कुल 6 घंटे पूछताछ कर चुकी है.

ये भी देखे

Trending news