सुपौल: बिहार में सगी बहनों के साथ यौन शोषण के आरोप में 'बाबा' गिरफ्तार

सुपौल के पुलिस अधीक्षक मृत्युंजय कुमार चौधरी ने बुधवार को बताया कि गिरफ्तार व्यक्ति मनमोहन साहेब खुद को कबीर विचार मंच का अंतर्राष्ट्रीय महंत बताता है. 

सुपौल: बिहार में सगी बहनों के साथ यौन शोषण के आरोप में 'बाबा' गिरफ्तार
मनमोहन साहेब खुद को कबीर विचार मंच का अंतर्राष्ट्रीय महंत बताता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सुपौल: बिहार की सुपौल जिला पुलिस ने दो सगी बहनों के साथ यौन शोषण, दुष्कर्म और उसका वीडियो बनाने के आरोप में एक कथित संत को गिरफ्तार कर लिया है. सुपौल के पुलिस अधीक्षक मृत्युंजय कुमार चौधरी ने बुधवार को बताया कि गिरफ्तार व्यक्ति मनमोहन साहेब खुद को कबीर विचार मंच का अंतर्राष्ट्रीय महंत बताता है. 

उन्होंने बताया कि आरोपी को मंगलवार शाम मधुबनी जिले के फुलपरास स्थित कबीर मंच नाम के संगठन के आश्रम से गिरफ्तार किया गया है.  चौधरी ने बताया कि मधुबनी का रहने वाला परिवार पिछले 25 वर्षो से लुधियाना के करनाल सिंह रोड में रहकर व्यापार करता है.  वह पूरा परिवार कबीर विचार मंच से जुड़ा है. 

इसी बीच मनमोहन ने वर्ष 2010 में एक सुपौल के मरौना थाना के पंचभिंडा गांव में एक धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया था, जहां पीड़िता का पूरा परिवार भी शामिल हुआ.  

आरोप है कि मनमोहन ने इस क्रम में एक लड़की के साथ दुष्कर्म किया और उसका वीडियो भी बना लिया.  इस बीच वह लुधियाना जाता रहा और वीडियो वायरल करने की धमकी देकर उसके साथ यौन शोषण करता रहा.  इसी बीच मनमोहन ने वर्ष 2016 में पीड़िता की बड़ी बहन से भी दुष्कर्म किया और उसका भी यौनशोषण करना शुरू कर दिया.  

पुलिस के मुताबिक, जब राम रहीम को सजा हुई तब पीड़िता की बड़ी बहन ने छोटी बहन को आपबीती सुनाई.  इसी क्रम में छोटी बहन ने भी अपने साथ हो रहे शोषण की कहानी बड़ी बहन को बताई.  

सुपौल के पुलिस अधीक्षक चौधरी ने बताया कि दोनों पीड़ित बहनों ने अपनी आपबीती एक ई-मेल कर राष्ट्रीय महिला आयोग को बताई और महिला आयोग ने इसकी सूचना सुपौल पुलिस को दी.  

उन्होंने बताया कि पुलिस के संज्ञान में मामला आने के बाद दोनों बहनों से संपर्क किया गया और सुपौल बुलाकर उनके बयान पर महिला थाने में यौन शोषण, दुष्कर्म की एक प्राथमिकी दर्ज कर ली गई.  इसके बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है.  (इनपुट IANS से भी)