बोकारो: शीतलहर का कहर जारी, प्रशासन ने नहीं किया अलाव का इंतजाम

जिला प्रशासन के साथ-साथ सीसीएल प्रबंधन द्वारा दायित्वों के निर्वहन के तहत अलाव की व्यवस्था नहीं करने से स्थानीय लोग सीसीएल प्रबंधन और स्थानीय प्रशासन से भी काफी नाराज दिख रहे हैं.

बोकारो: शीतलहर का कहर जारी, प्रशासन ने नहीं किया अलाव का इंतजाम
लोग अपने स्तर से जगह-जगह अलाव की व्यवस्था करते दिख रहे हैं.

बोकारो: झारखंड के बोकारो में कड़ाके की ठंड के साथ शीतलहरी जारी है. शाम होते ही लोग घरों में कंबल और रजाई में घुस जा रहे है. साथ ही जो लोग बाहर रह रहे हैं वो अलाव का सहारा लेने को मजबूर है. ऐसे में जब विधानसभा चुनाव को लेकर आचार संहिता लगा हुआ है तो, जिला प्रशासन भी मूकदर्शक बना हुआ है. क्योंकि आचार संहिता के चलते मुख्यालय में पड़े कंबल को वो बांट नहीं बांट पा रहे हैं. इसके साथ ही वो अलाव कि भी व्यवस्था नहीं कर पा रहे हैं.

बोकारो जिले के गोमिया सहित इसके आसपास के कई क्षेत्र आइईएल कालोनी, स्वांग, ससबेड़ा, खम्हरा, करमाटांड़, साडम, होसिर, तेनुघाट, कथारा, ललपनिया सहित कोलियरी क्षेत्र में शीतलहरी का प्रकोप जारी है. इससे क्षेत्र का आम जनजीवन काफी अस्त-व्यस्त है.

वहीं, जिला प्रशासन के साथ-साथ सीसीएल प्रबंधन द्वारा दायित्वों के निर्वहन के तहत अलाव की व्यवस्था नहीं करने से स्थानीय लोग सीसीएल प्रबंधन और स्थानीय प्रशासन से भी काफी नाराज दिख रहे हैं. पूरे क्षेत्र में पड़ रही कड़ाके की ठंड में स्थानीय लोग अपने स्तर से जगह-जगह चौक-चैराहों में अलाव की व्यवस्था करते दिख रहे हैं.

लगातार दो दिनों से बोकारो जिला सहित गोमिया, बेरमो और चन्दनकियारी एवं आसपास के क्षेत्रों में तापमान काफी कम हो गया है. क्षेत्र में चल रही शीतलहर की वजह से लोग सुबह में देर से अपने घरों से निकल रहें हैं. साथ ही दिन के अपने जरूरी काम जल्दी निपटाकर शाम ढलते ही कंबल और रजाई में घुस जा रहे हैं.