close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

साध्वी प्रज्ञा के समर्थन में उतरे बाबा रामदेव, बोले- वह आतंकी नहीं राष्ट्रवादी महिला हैं

"प्रधानमंत्री का एजेंडा केवल देश है. प्रधानमंत्री का एजेंडा भारत को महाशक्ति बनाने का है, जिसके लिए वह रोजाना 16-20 घंटे काम कर रहे हैं."

साध्वी प्रज्ञा के समर्थन में उतरे बाबा रामदेव, बोले- वह आतंकी नहीं राष्ट्रवादी महिला हैं
फाइल फोटो

पटनाः योगगुरु बाबा रामदेव ने यहां साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को राष्ट्रवादी बताते हुए कहा कि महज संदेह के आधार पर साध्वी प्रज्ञा को नौ सालों तक गिरफ्तार कर जेल के अंदर रखा गया और उन्हें प्रताड़ित किया गया, उनके साथ ऐसा व्यवहार किया गया, जैसे वह कोई आतंकवादी हैं. पटना में शुक्रवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए रामदेव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि, "प्रधानमंत्री का एजेंडा केवल देश है. प्रधानमंत्री का एजेंडा भारत को महाशक्ति बनाने का है, जिसके लिए वह रोजाना 16-20 घंटे काम कर रहे हैं."

योग गुरु ने कहा, "यह लोकसभा चुनाव भारत का भविष्य तय करेगा. अगले 20-25 वषों में भारत कैसा हो, इस चुनाव से तय होगा. देश में सामाजिक, आर्थिक बदलाव यह चुनाव तय करेगा." चौकीदार को लेकर विपक्षियों द्वारा की गई टिप्पणी पर रामदेव ने कहा कि चौकीदार 'प्योर' है और उसका प्रधानमंत्री बनना 'श्योर' है. उन्होंने कहा कि 2014 में नरेंद्र मोदी के नाम की आंधी थी, इस चुनाव में सुनामी चल रही है.

साध्वी प्रज्ञा ने दिग्विजय सिंह को बताया आतंकी, चुनाव आयोग ने नोटिस जारी कर मांगा जवाब

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद द्वारा नामांकन का पर्चा दाखिल कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे रामदेव ने साध्वी प्रज्ञा के संबंध में पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में कहा, "यह गुनाह की पराकाष्ठा थी. आपने सिर्फ संदेह के आधार पर एक शख्स को गिरफ्तार कर लिया और नौ सालों तक उसे शारीरिक व मानसिक प्रताड़ना दी. वह संन्यासिनी कैंसर से प्रभावित हो गईं. वह आतंकवादी नहीं, बल्कि राष्ट्रवादी महिला हैं."

चांदी की ईंट के साथ गिलास-कटोरी रखती हैं साध्वी प्रज्ञा, भिक्षाटन पर हैं निर्भर

बेगूसराय से वामपंथी दलों के साझा उम्मीदवार कन्हैया कुमार के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "मैं भी कन्हैया के वंशज से आता हूं, परंतु वह वृंदावन वाले हैं. अब यहां कहां का कन्हैया आया है, नहीं मालूम." साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मैं रजनीतिक कर्यक्रम में नहीं जाता हूं. यहां व्यक्तिगत संबंध के कारण आया हूं. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मोदी जी से मेरा अच्छे सम्बंध हैं. सभी पार्टी से अच्छे सम्बंध है, लेकिन वैचारिक मतभेद हो सकते हैं. (इनपुटः आईएएनएस)