कोरोना से बढ़ी मौत तो जागा नगर निगम, 2 और घाटों पर शवदाह कराने की दी अनुमति

Bihar Corona News: पटना नगर निगम ने निर्णय लिया है कि बांस घाट के अलावा दो और घाट गुलबी और खाजेकलां घाट पर कोविड 19 संक्रमित लाश का अंतिम संस्कार किया जाएगा.

कोरोना से बढ़ी मौत तो जागा नगर निगम, 2 और घाटों पर शवदाह कराने की दी अनुमति
नगर निगम ने 2 और घाटों पर शवदाह कराने की दी अनुमति.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

Patna: बिहार में कोरोना संक्रमण ने एक बार फिर से रफ्तार पकड़ ली है. कोरोनो पॉजिटिव की मौत भी तेजी से हो रहीं है. कोरोना के कारण मर रहे मरीजों से पटना के बांस घाट पर लाश जलाने के लिए लोगों को लंबे इंतजार करना पड़ रहा है. सुबह लाई गई लाशें को शाम तक अंतिम संस्कार नहीं किया जा रहा है. लिहाजा, नगर निगम ने अब दो और घाटों पर लाश जलाने की अनुमति दे दी है.

इधर, पटना नगर निगम ने निर्णय लिया है कि बांस घाट के अलावा दो और घाट गुलबी और खाजेकलां घाट पर कोविड 19 संक्रमित लाश का अंतिम संस्कार किया जाएगा. वहीं, बांस घाट इंचार्ज राजकुमार ने बताया कि पिछले दो दिनों से काफी संख्या में कोविड पॉजिटिव मरीजों की लाशें यहां पर आ रही थी. 12 अप्रैल को 24 लाशें और 13 अप्रैल को 32 लाशें का अंतिम संस्कार बांस घाट पर किया गया है. 

ये भी पढ़ें-Bihar: कोरोना ने बढ़ाई लोगों की मुश्किलें, AIIMS में कम पड़े बेड

वहीं, बिजली शवदाह गृह में एक घंटे में एक लाश जलाया जा रहा है. ये आदेश नगर निगम आयुक्त की ओर से है. ऐसे में काफी संख्या में जब लाशे आती है तो उन्हे लंबा इंतजार करना पड़ता है. राजकुमार ने बताया कि जब कोविड पॉजिटिव मरीजों की लाश की संख्या अधिक हुई तो पटना नगर निगम ने निर्णय लिया है कि बांस घाट के अलावा दो और श्मशान पर लाशें जलाई जाए. उन्होंने कहा कि कोरोना पॉजिटिव मरीज की लाश को शवदाह गृह में फ्री में अंतिम संस्कार किया जाता है. इसलिए ज्यादातर लोग बिजली शवदाह गृह में अंतिम संस्कार करते है. जिन्हें इच्छा होती है वे जरुर लकड़ी पर शव जलाते हैं.