close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार : 600 करोड़ की लागत से विकसित होगा राज्य में टूरिज्म

अब बिहार सरकार राज्य में टूरिज्म पर विशेष ध्यान दे रही है. बिहार के विभिन्न पर्यटक स्थलों के विकास के लिए 600 करोड़ की योजनाएं क्रियान्वित की जा रही हैं

बिहार : 600 करोड़ की लागत से विकसित होगा राज्य में टूरिज्म
2017 में विदेशी पर्यटकों के मामले में बिहार देश में आठवें स्थान पर रहा है. (फोटो साभार: http://bstdc.bih.nic.in)

पटना: अब बिहार सरकार राज्य में टूरिज्म पर विशेष ध्यान दे रही है. बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने यहां बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री विशेष पैकेज के तहत बिहार के विभिन्न पर्यटक स्थलों के विकास के लिए 600 करोड़ की योजनाएं क्रियान्वित की जा रही हैं, उन्होंने कहा कि इस वर्ष सावन महीने में कांवड़िया पथ पर कांवड़ियों की परेशानी कम हो, इसके लिए सभी कार्य जल्द पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं.

सुशील मोदी ने अपने कार्यालय कक्ष में उच्चस्तरीय बैठक की तथा पर्यटन विभाग की विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की, उन्होंने कहा कि 27 जुलाई से प्रारंभ हो रहे विश्व प्रसिद्घ श्रावणी मेले के पूर्व कांवड़िया परिपथ की विभिन्न योजनाओं को पूरा करने का निर्देश अधिकारियों को दिया गया है.

सुशील मोदी ने बताया कि प्रधानमंत्री विशेष पैकेज के तहत कांवड़िया पथ के लिए क्रियान्वित हो रही 52.35 करोड़ रुपये की योजनाओं के तहत सुल्तानगंज में अजगैबीनाथ मंदिर परिसर के विकास, मोजमा (मुंगेर) में रेन शेल्टर, बांका के जिलेबिया, सुईया में मार्गीय सुविधाओं के विकास, तानकेश्वर में कैफेटेरिया का निर्माण और कांवड़िया पथ में साईनेज, 3366 बेंच, 1037 कांवड़ स्टैंड बनाने व 180 सोलर लाइट लगाने का काम किया जाएगा. 

वर्ष 2007 में राजग की सरकार ने श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए कांवड़िया पथ में पक्की सड़क के समानांतर कच्ची सड़क का निर्माण कराया था. प्रधानमंत्री विशेष पैकेज के तहत जैन, महात्मा गांधी, बौद्घ, रामायण परी पथ के अलावा प्रसाद योजना के अंतर्गत पटना साहिब का विकास व बोधगया में भारतीय पर्यटन संस्थान की स्थापना की जा रही है, 

उन्होंने कहा कि राजगीर और मंदार पर्वत में रोप-वे का काम इस साल अक्टूबर में पूरा हो जाएगा, गौरतलब है कि 2017 में विदेशी पर्यटकों के मामले में बिहार देश में आठवें स्थान पर रहा है.