झारखंड चुनाव परिणाम: जमशेदपुर पूर्वी के रिजल्ट पर सबकी निगाहें, रघुवर दास-सरयू राय आमने सामने

 झारखंड में सबकी निगाहें रघुवर दास के गढ़ जमशेदपुर पूर्वी पर होगी. जमशेदपुर पूर्वी इस बार जहां रघुवर सरकार में ही मंत्री रहे सरयू राय ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

झारखंड चुनाव परिणाम: जमशेदपुर पूर्वी के रिजल्ट पर सबकी निगाहें, रघुवर दास-सरयू राय आमने सामने
झारखंड में सबकी निगाहें रघुवर दास के गढ़ जमशेदपुर पूर्वी पर होगी.

जमशेदपुर: झारखंड चुनाव में अब मतगणना शुरू में बस कुछ घंटे रह गए हैं. कल नतीजे आ आएंगे जिसके बाद ये साफ हो जाएगा कि, जनता की परीक्षा में कौन पास और कौन फेल हुआ है. किस पर जनता ने भरोसा जताया है, और किसे विधानसभा में बहुमत का जादुई आंकड़ा दिया है.

चुनाव नतीजों के बाद ये साफ होगा कि, रघुवर सरकार की वापसी होगी या हेमंत सोरेन सत्ता पर काबिज होंगे. हालांकि हर पार्टी और प्रत्याशी अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे हैं. अब कल तस्वीर साफ हो जाएगी.

साथ ही झारखंड में सबकी निगाहें रघुवर दास के गढ़ जमशेदपुर पूर्वी पर होगी. जमशेदपुर पूर्वी इस बार जहां रघुवर सरकार में ही मंत्री रहे सरयू राय ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. सरयू राय ने रघुवर दास के खिलाफ निर्दलीय मैदान में ताल ठोंका और उन्हें कड़ी टक्कर दी है. 

वहीं, कांग्रेस ने गौरव वल्लभ को मैदान में उतारा है. जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र में लगभग तीन लाख वोटर्स हैं. इसमें एक लाख 56 हजार 490 पुरुष और एक लाख 43 हजार 981 महिला मतदाता शामिल हैं.

जमशेदपुर एक बेहद पुराना औद्योगिक शहर के रूप में जाना जाता है. यहां रहने वाले हजारों कर्मचारी यहां अलग-अलग फैक्ट्रियों में काम करते हैं. इसलिए ऐसा माना जाता है कि इनका वोट ही फैसला करता है कि कौन बाजी मारेगा. यहां के करीब 40 फीसदी मतदाता कई कंपनियों से जुड़े हैं.  

रघुवर दास 1995 से लगातार जमशेदपुर पूर्वी से चुनाव लड़ रहे हैं और जीतते भी आ रहे हैं. रघुवर दास छठी बार चुनावी मैदान में हैं और सरयू राय भी यहीं से चुनाव लड़कर उन्हें कड़ी टक्कर दे दी है. अब 23 दिसंबर को आखिरकार तस्वीर साफ हो जाएगी कि आखिर कौन यहां से मैदान मार ले जाता है.