close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंड में महागठबंधन बनाने की कवायद तेज, हेमंत सोरेन के घर हुई सभी दलों की बैठक

गुरुवार को जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के आवास पर महागठबंधन दलों की बैठक की गई.  

झारखंड में महागठबंधन बनाने की कवायद तेज, हेमंत सोरेन के घर हुई सभी दलों की बैठक
हेमंत सोरेन के आवास पर महागठबंधन की बैठक की गई है. (फाइल फोटो)

रांचीः बिहार के साथ-साथ झारखंड में महागठबंधन की कवायद तेज हो गई है. हालांकि अब तक कोई अंतिम फैसला नहीं हो सका है. वहीं, जेएमएम पार्टी के द्वारा बुधवार को ही कहा गया था कि महागठबंधन पर चर्चा करने के लिए सभी दलों को गुरुवार को बुलाया गया है. जिसके बाद गुरुवार को जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के आवास पर महागठबंधन दलों की बैठक की गई.

हेमंत सोरेन के आवास पर हुई महागठबंधन के बैठक में जेवीए, कांग्रेस समेत आरजेडी नेता शामिल हुए थे. हालांकि बैठक में क्या फैसला हुआ इसके बारे में नेता नहीं बता रहे हैं. लेकिन 31 जनवरी तक सब स्पष्ट हो जाने की बात कही जा रही है.

बताया जा रहा है कि बैठक में महागठबंधन की रणनीति के अलावा लोकसभा चुनाव के साथ-साथ आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर भी चर्चा की गई है. जेवीएम के प्रमुख बाबूलाल मरांडी ने कहा कि यह पहली बैठक हुई है. अभी और बैठकें होंगी. उन्होंने कहा कि बैठक में आगामी दोनों चुनावों के लिए महागठबंधन को तैयार करने की सारी बातें होगी.

झारखंड में आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष अन्नापूर्णा देवी ने कहा कि यह तय हुआ है कि विधानसभा चुनाव हेमंत सोरेन के नेतृत्व में लड़ा जाएगा. लेकिन महागठबंधन को लेकर सारी बातें 31 जनवरी तक स्पष्ट होगी.

वहीं, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर अजय कुमार ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव हेमंत सोरेन के नेतृत्व में लड़ा जाएगा. जबकि लोकसभा का चुनाव कांग्रेस के नेतृत्व में लड़े जाएंगे. अब यहां कोई भी कंफ्यूजन नहीं है. साथ ही सीट शेयरिंग को लेकर उन्होंने कहा कि जब हमारे प्रभारी आएंगे तो हेमंत सोरेन और बाबूलाल मरांडी के साथ बैठक कर सब साफ करेंगे.

जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमन्त सोरेन ने कहा कि आज तमाम विपक्षी पार्टी के नेता इस बैठक में शामिल हुए और महागठबंधन बनाने को लेकर तमाम बिन्दुओ पर चर्चा हुई जल्द फिर बैठकर इसकी घोषणा हम सभी करेंगे.

बहरहाल, महागठबंधन दल के नेताओं के अनुसार तो अब झारखंड में दलों के बीच सब कुछ ठीक ठाक तय हो गया है. लेकिन यह आगे कितना ठीक होगा यह 31 जनवरी तक पता चलेगा.