लोहरदगा का चिल्ड्रन पार्क बदहाल, दुर्गंध से लोगों का जीना मुहाल
X

लोहरदगा का चिल्ड्रन पार्क बदहाल, दुर्गंध से लोगों का जीना मुहाल

पार्क का निर्माण होने से आसपास के लोगों को लगा कि शायद ठकुराइन तालाब की हालत अब सुधरने वाली है, लेकिन तालाब की हालत बद से बदतर होती जा रही है. पार्क के नाम पर लाखों रुपए तो खर्च तो हो गए पर इसकी उपयोगिता शून्य ही रह गई. पार्क ना तो कभी खोला गया, ना इसकी साफ-सफाई की गई और ना ही यहां पर कभी बच्चों का शोर गूंजा.

 

लोहरदगा का चिल्ड्रन पार्क बदहाल, दुर्गंध से लोगों का जीना मुहाल

Lohardaga: लोहरदगा नगर परिषद क्षेत्र में ऐसे स्थान पर चिल्ड्रन पार्क का निर्माण किया गया है जहां पर इसकी उपयोगिता शून्य है. वर्तमान समय में पार्क झाड़ियों और कचरे में तब्दील हो चुका है. ना तो इसकी पर्याप्त साफ-सफाई की जा रही है और ना ही यह इस योग्य है कि यहां पर बैठकर कुछ समय बिताया जा सके. कुल मिलाकर लाखों रुपए की बर्बादी साफ तौर पर नजर आती है. निर्माण के बाद से ही इस पार्क को लेकर सवाल उठते रहे हैं. नगर परिषद तालाब की सौंदर्यीकरण की योजना बनाती तो है, जो फाइलों में दबी है.

दुर्गंध से लोगों का जीना मुहाल
लोहरदगा शहरी क्षेत्र के गुदरी बाजार ठकुराइन तालाब के किनारे बनाए गए चिल्ड्रन पार्क की स्तिथि बदहाल हो गई है. तीन साल पहले लाखों रुपए खर्च कर बनाया गया पार्क यहां से गुजरने वाले लोगों को डराने लगा है. तालाब और पार्क से उठ रही दुर्गंध से लोगों का जीना मुहाल हो गया है. नगर परिषद ने सब्जी बाजार को हटाकर यहां बच्चों के लिए पार्क बना दिया लेकिन रखरखाव के अभाव में इस पार्क की स्तिथि बदहाल हो गई है. 

ये भी पढ़ें- हॉकी का गढ़ बनेगा रांची, CM Hemant ने किया अंतरराष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम का शिलान्यास

बद से बदतर होती जा रही है तालाब की हालत
पार्क का निर्माण होने से आसपास के लोगों को लगा कि शायद ठकुराइन तालाब की हालत अब सुधरने वाली है, लेकिन तालाब की हालत बद से बदतर होती जा रही है. पार्क के नाम पर लाखों रुपए तो खर्च तो हो गए पर इसकी उपयोगिता शून्य ही रह गई. पार्क ना तो कभी खोला गया, ना इसकी साफ-सफाई की गई और ना ही यहां पर कभी बच्चों का शोर गूंजा.

शीघ्र शुरू किया जाएगा तालाब के सौंदर्यीकरण पर काम
दरअसल, शहर के गुदरी बाजार में एक तालाब है, जिसका नाम ठकुराइन तालाब है. इस तालाब का संबंध वीर कुंवर सिंह के साथ जुड़ा हुआ है. हालांकि, इस तालाब को अब तक पहचान नहीं मिल पाई है और न ही धरोहर के रूप में विकसित किया गया है. हालांकि, नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी ने जल्द ही साफ-सफाई की योजना बनाई है. इसके साथ ही तालाब के चारों ओर से अतिक्रमण हटाने को लेकर लोगों को नोटिस दिया गया है. उन्होंने कहा कि शीघ्र तालाब के सौंदर्यीकरण पर काम शुरू किया जाएगा. 

(इनपुट- पारस)

Trending news