मांझी का दावा बिहार में हमारी हैसियत कांग्रेस से कम नहीं, सम्मान में चाहिए आधी सीटें

जीतनराम मांझी ने महागठबंधन में कांग्रेस की सीटों से आधी सीटें मांगी हैं.

मांझी का दावा बिहार में हमारी हैसियत कांग्रेस से कम नहीं, सम्मान में चाहिए आधी सीटें
जीतनराम मांझी ने 5 सीटों की मांग पर अड़े हैं.

पटनाः जीतनराम मांझी के स्टैंड ने रविवार को महागठबंधन के सीट शेयरिंग को लेकर होनेवाली घोषणा पर विराम लगा दिया है. मांझी के स्टैंड ने महागठबंधन के घटक दलों को फिर से सोचने पर मजबूर कर दिया है. मांझी ने एकबार फिर साफ कहा है कि बिहार में उनकी हैसियत कांग्रेस से कम नहीं है. हमें कम से कम कांग्रेस से आधी सीटें मिलनी चाहिए.

मांझी अपने और अपने पार्टी के स्म्मान में कांग्रेस से आधी सीटें मांग रहे हैं. वहीं, मांझी ने 18 मार्च को हर हाल में महागठबंधन के सीटों की घोषणा किये जाने की बात कही है. उन्होंने कहा है कि कांग्रेस क्या करेंग यह नहीं पता लेकिन आरजेडी के साथ मिलकर सीटों का ऐलान किया जाएगा.

जीतनराम मांझी अपनी अलग तरह की राजनीति के लिए जाने जाते हैं. महागठबंधन में जब 17 मार्च को सीट शेयरिंग की घोषणा तय हो गयी तो मांझी ने 17 तारीख को ही अपनी पार्लियामेट्री बोर्ड की बैठक बुलाकर 5 सीटों की डिमांड कर दी. मजबूरन महागठबंधन के शीर्ष दलों को सीट शेयरिंग को घोषणा टालनी पर गयी.

इधर जीतनराम मांझी ने फिर कहा है कि उनकी हैसियत बिहार में कांग्रेस से कम नहीं है. मांझी ने कहा है कि कांग्रेस अगर 11 सीटों की मांग कर रही है तो हम कांग्रेस से आधी सीटों की मांग कर रहे हैं. हमारा जनाधार कांग्रेस से कम नहीं है. हमने अगर 5 सीटें मांगी है तो काफी सोच समझकर फैसला लिया है. क्योंकि पांच सीटें हमने सभी जातिय और लैंगीय समानता को ध्यान में रखकर मांगा है. 

कांग्रेस के इतिहास में मैंने कम करके आंकने की कोशिश नहीं की है बल्कि हमने खुद के दल के लिए न्याय मांगा है. वहीं आरएलएसपी को 5 सीट दिये जाने की बात पर मांझी ने कहा है कि आरएलएसपी महागठबंधन का हिस्सा है उन्हें कितनी सीटें मिलती हैं इससे मुझे कोई लेना देना नहीं. लेकिन हमें अपना हक मिलना चाहिए.

सीट शेयरिंग में हो रहे विलंब पर मांझी ने कहा कि कल हर हाल में सीटों की घोषणा हो जाएगी. क्योंकि अब समय कम बचा है. तेजस्वी यादव से हमारी बातचीत हुई है. तेजस्वी ने भी कल सीट बंटवारे को लेकर घोषणा किये जाने की बात कही है.