मुंगरे: इलाज के दौरान मरीज की मौत, परिजनों ने अस्पताल में जमकर मचाया हंगामा

मौत के बाद मृतक के परिजनों ने अस्पताल परिसर में जमकर तोड़फोड़ की और कई घंटों हंगामा किया. परिजनों ने कहा कि डॉक्टर की लापरवाही और ऑक्सीजन के आभाव में मरीज की मौत हुई है. 

मुंगरे: इलाज के दौरान मरीज की मौत, परिजनों ने अस्पताल में जमकर मचाया हंगामा
इलाज के दौरान मरीज की मौत हो गई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुंगेर: बिहार में ठंड का प्रकोप जारी है. राज्य के मुंगरे में दो लोगों को ठंड लग गई. इसके बाद एक व्यक्ति की सदर अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई. मौत के बाद मृतक के परिजनों ने अस्पताल परिसर में जमकर तोड़फोड़ की और कई घंटों हंगामा किया.

परिजनों ने कहा कि डॉक्टर की लापरवाही और ऑक्सीजन के आभाव में मरीज की मौत हुई है. वहीं, मामले की सूचना पाकर सदर एएसपी और अनुमंडल पदाधिकारी अस्पताल पहुंचे और परिजनों को समझाने की कोशिश की. परिजनों ने कहा कि लापरवाही करने वाले डॉक्टरों पर कार्यवाही की जाए.

दरअसल, जिले में तीन दिनों से ठंड का प्रक्रोप बढ़ गया है. ठंड के कारण लोगों के जनजीवन में असर पड़ा है. वहीं, शुक्रवार को सदर अस्पताल मुंगेर में ठंड से पीड़ित दो मरीज भर्ती हुए, जंहा एक की इलाज के दौरान मौत हो गई.

जानकारी के मुताबिक, पुलिस लाइन के शस्त्रागार में कार्यरत एएसआई रामलाल यादव को ठंड लग गई. इसके बाद उसे पुलिस जवानों ने सदर अस्पताल में भर्ती कराया. वहीं, दूसरा मरीज खोजा निवासी बिहारी कुमार (18 वर्ष) को ठंड लगने के कारण सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया. यहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. 

मृतक के भाई ने कहा कि मृत बिहारी कुमार शुक्रवार सुबह दूध लेने के लिए जा रहा था तभी वो अचानक सड़क पर गिर गया. इसके बाद उसे सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया.

उन्होंने कहा कि डॉक्टरों ने ऑक्सीजन लगाया लेकिन थोड़ी देर बार ऑक्सीजन हटा दिया और कहा कि इंजेक्शन लगा देते हैं. लेकिन उसके बाद मेरे भाई की तबियत बिगड़ने लगी. फिर हमने डॉक्टरों से ऑक्सीजन लगाने को कहा, लेकिन इमरजेंसी वार्ड में सिलेंडर नहीं थी, इस कारण मेरे भाई की मौत हो गई.

वहीं, प्रभारी डॉक्टर निरंजन कुमार सिंह ने कहा कि मृतक मरीज दोपहर 12 बजे भर्ती हुआ और डॉक्टरों ने उन्हें स्लाइन दवाईयां और ऑक्सीजन दियाथा. उन्होंने कहा कि इमरजेंसी में तीन ऑक्सीजन के सिलेंडर हैं और बारी-बारी से इमरजेंसी में आए मरीज को लगाया जाता है.

डॉक्टर ने कहा कि मृतक मरीज को जो ऑक्सीजन लगाया गया था, उस मरीज के ऑक्सीजन सिलेंडर को खोल कर ठंड से पीड़ित एक पुलिसकर्मी को लगया गया. उन्होंने कहा कि कुछ देर बाद जब मृतक मरीज को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी. तब अस्पताल कर्मी बगल के वृद्धा वार्ड में ऑक्सीजन सिलेंडर लाने के लिए गया तब तक मरीज बिहारी कुमार की मौत हो गई थी.

वहीं, अस्पताल पहुंचे लोगों ने बताया कि मुंगेर सदर अस्पताल की स्थिति बहुत खराब है. यंहा मरीज आते हैं, लेकिन डॉक्टरों और कर्मचारियों की लापरवाही से मरीज की मौत हो जाती है. उन्होंने कहा की अस्पताल में कोई व्यवस्था नहीं है. साथ ही दवाईयां और डॉक्टर भी अस्पताल में उपलब्ध नहीं है. डॉक्टर सिर्फ सैलरी लेकर बाहर निजी क्लिनिक चलाते हैं. उन्होंने कहा की आज जो घटना हुई है, वो डॉक्टरों की लापरवाही से हुई है.