विधान मंडल तक पहुंची ऑपरेशन पाइरेट्स की गूंज! सदन में उठेगा अवैध बालू खनन का मुद्दा

Bihar News: ऑपेरशन पाइरेट्स ऑफ बिहार से न केवल सरकार और बालु माफियाओं के बीच हड़कंप मच गया है बल्कि सियासी गलियारों में भी इसकी चर्चा जोरों पर है.

विधान मंडल तक पहुंची ऑपरेशन पाइरेट्स की गूंज! सदन में उठेगा अवैध बालू खनन का मुद्दा
बिहार में बालू माफिया की नींद हराम (फाइल फोटो)

Patna: ज़ी बिहार झारखंड के ऑपरेशन पाइरेट्स (operation pirates) के बाद बालू माफियाओं (Sand Mafia) के खिलाफ लगातार प्रशासन कार्रवाई कर रही है. वहीं, बिहार में भी इस मामले में सियासी सरगर्मी तेज है. बालू माफियाओं (illegal sand mining) के खिलाफ चलाए जा रहे इस अभियान की गूंज अब विधान मंडल तक गूंजेगी. 

मॉनसून सत्र के दौरान विपक्ष के विधायक सदन में मुद्दे को उठाने के लिए तैयार हैं. विपक्ष का कहना है कि आज नीतीश कुमार कार्रवाई की बात कह रहे लेकिन बड़ा सवाल ये है कि अब तक कार्रवाई नहीं करने को लेकर नीतीश कुमार का हाथ रोक किसने रखा था. हलांकि, एनडीए ने भी मसले पर सदन में जवाब देने का दावा कर दिया है.

ऑपेरशन पाइरेट्स ऑफ बिहार से न केवल सरकार और बालु माफियाओं के बीच हड़कंप मच गया है बल्कि सियासी गलियारों में भी इसकी चर्चा जोरों पर है. विपक्ष ने जी मीडिया की खबर को सरकार को घेरने के लिए एक बड़ा मुद्दा बना लिया है. विपक्ष ने मामले को मौनसून सत्र में उठाने की घोषणा कर दी है.

कांग्रेस एमएलसी प्रेमचन्द्र मिश्रा ने कहा है कि विपक्ष के पास सरकार को घेरने के लिए कई मुद्दे हैं. उनमें से अवैध बालू खनन का भी मामला प्रमुख है जबकि मुख्य प्रवक्ता राजेश राठौड ने कहा है कि सरकार सिर्फ छोटी मछलियों पर ही कार्रवाई कर रही है. बड़े चेहरों पर कार्रवाई को लेकर कांग्रेस सदन में सरकार से जवाब मांगेगी.

वहीं, कांग्रेस एमएलसी रामबली चन्द्रवंशी ने कहा है कि नीतीश कुमार सिर्फ कार्रवाई की बात कहते हैं लेकिन बड़ा सवाल ये है कि कार्रवाई नहीं करने के लिए उनके पास आवेदन किसने दे रखा है. विपक्ष इस मामले को सवाल के जरिए सदन में उठाएगी और सरकार से जवाब मांगेगी.

दूसरी तरफ रुलिंग पार्टी ने भी विपक्ष का जवाब देने के लिए तैयारियां शुरु कर दी हैं. जेडीयू के मुख्य प्रवक्ता एमएलसी नीरज कुमार कहते हैं कि अवैध बालू खनन पर करवाई हो रही है. यहां तो भ्रस्टाचार मामले में डीजीपी की भी संपत्ति जब्त हुई है. करवाई के लिए जांच जरूरी है. चारा घोटाले में भी जांच के बाद लालू प्रसाद जेल गए और तेजश्वी यादव को भी हमने भ्रटाचार मामले में बैक टू पवेलियन भेजा था, इसलिए सरकार की मंशा पर कोई सवाल नहीं हैं.

बीजेपी प्रवक्ता विनोद शर्मा ने भी कहा है कि सरकार विपक्ष के सवालों का सदन मे जवाब देगी. पार्टी के प्रवक्ता विनोद शर्मा ने कहा है कि अवैध बालू खनन में विपक्ष के विधायकों का हाथ है। सरकार जल्द इस बात का खुलाशा करेगी. 

विधान मंडल का मौनसून सत्र काफी छोटा है. विपक्ष के पास मुद्दे बेसुमार हैं लेकिन अन्य मुद्दों के अलावा ऑपरेशन पाइरेट्स ऑफ बिहार के जरिए विपक्ष सरकार से धंधे में शामिल सफेदपोशों को उजागर करने की कोशिश जरुर करेगा.