तेजप्रताप यादव बाउंसर्स लेकर पहुंचे बिहार विधानसभा, RJD ने कहा- 'वह बॉडी बिल्डर समर्थक थे'

 विधानमंडल में आरजेडी विधायक तेजप्रताप यादव अपने निजी बाउंसर्स को लेकर पहुंचे थे.

तेजप्रताप यादव बाउंसर्स लेकर पहुंचे बिहार विधानसभा, RJD ने कहा- 'वह बॉडी बिल्डर समर्थक थे'
आरजेडी विधायक तेजप्रताप यादव बाउंसर्स के साथ विधानसभा पहुंचे थे.

पटनाः बिहार विधानमंडल का बजट सत्र जारी है. बजट सत्र में सत्तापक्ष से लेकर विपक्ष तक सभी विधायक सदन की कार्यवाही में भाग लेने आ रहे हैं. लेकिन बुधवार को विधानमंडल में आरजेडी विधायक तेजप्रताप यादव अपने निजी बाउंसर्स को लेकर पहुंचे थे. बाउंसर्स को लेकर विधानसभा में पहुंचने पर जहां सुरक्षा की चूक बताई जा रही है. वहीं, कहा जा रहा है कि प्रोटोकॉल को तोड़ा गया है. वहीं, आरजेडी नेताओं का कहना है कि वह बाउंसर्स नहीं बल्कि बॉडी बिल्डर समर्थक थे. और उनके पास विधानसभा आने का परमिशन था.

दरअसल, बुधवार को तेजप्रताप यादव विधानसभा में अपने निजी बाउंसर्स के साथ पहुंचे थे. इस बारे में जब तेजप्रताप यादव से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि क्या मुख्यमंत्री मेरी सुरक्षा की जिम्मेवारी लेंगे. अगर मुझे कुछ होगा तो इसकी जिम्मेवारी कौन लेगा. अगर कोई जिम्मेवारी लेता है तो मैं बाउंसर्स नहीं लाउंगा.

वहीं, सत्तापक्ष द्वार इस घटना की निंदा कर रहे हैं और तेजप्रताप पर आरोप लगा रहे हैं कि उन्होंने प्रोटोकॉल को तोड़ा है. अगर उन्हें प्रोटोकॉल की जानकारी नहीं तो क्षमा दिया जा सकता है लेकिन अगर जानबूझ कर ऐसा किया गया है तो यह बहुत बड़ा अपराध है.

वहीं, आरजेडी के नेता भाई विरेंद्र ने कहा कि तेजप्रताप ने कोई बाउंसर को लेकर नहीं आए थे. बल्कि वह समर्थक थे. उन्होंने कहा कि अगर समर्थक बॉडी बिल्डर होंगे तो वह बाउंसर्स नहीं हो सकते हैं. और उस सभी के पास परमिशन था इसलिए वह आए थे.

वहीं, लालू यादव के करीबी और आरजेडी विधायक भोला यादव ने इस घटना पर अजीबो-गरीब बयान दिया. उन्होंने कहा कि यह चेक हो रहा था कि सुरक्षा की कैसी व्यवस्था थी. यह अच्छी बात है कि विधानसभा की अच्छी सुरक्षा थी इसलिए सुरक्षाकर्मियों ने बाउंसर्स को पकड़ लिया.

इस घटना पर पुलिस का कहना है कि जांच के आदेश दे दिए गए हैं. अगर किसी तरह की चूक या प्रोटोकॉल के तोड़ने की कोशिश की गई होगी तो इस पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी. लेकिन पहले इसकी जांच होगी तभी कुछ कहा जा सकता है.

आपको बता दें कि विधानसभा परिसर सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशील माना जाता है. परिसर में परमिशन होने के बाद ही लोगों को यहां प्रवेश दिया जाता है. ऐसे में तेजप्रताप यादव अपने बाउंसर्स को लेकर विधानसभा परिसर में दाखिल होते हैं. ऐसे में सुरक्षा व्यवस्था पर बड़े सवाल खड़े होते हैं.