close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मुजफ्फरपुर: नहीं सुलझा है समीर हत्याकांड, बेटे ने कहा- 'असली मुजरिम है पहुंच से दूर'

 पूर्व मेयर के बेटे का दावा है कि पुलिस सिर्फ शूटर को पकड कर अपना काम खत्म कर रही है जबकि असली अपराधी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है.

मुजफ्फरपुर: नहीं सुलझा है समीर हत्याकांड, बेटे ने कहा- 'असली मुजरिम है पहुंच से दूर'
तुषार ने ये भी कहा है कि उनके पिता से किसी का कोई विवाद नहीं था. (फाइल फोटो)

आशुतोष चंद्रा, मुजफ्फरपुर: बिहार के मुजफ्फरपुर के पूर्व मेयर समीर हत्याकांड का रहस्य गहराता जा रहा है. इस चर्चित हत्याकांड के शूटरों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस हत्याकांड के खुलासे का दावा कर रही है. लेकिन समीर कुमार के बेटे तुषार भारद्वाज पुलिस के दावे को सही नहीं बता रहे. पूर्व मेयर के बेटे का दावा है कि पुलिस सिर्फ शूटर को पकड कर अपना काम खत्म कर रही है जबकि असली अपराधी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है.

दरअसल समीर कुमार के बेटे तुषार और पत्नी वर्षा सिंह इंसाफ के लिए पटना में कई लोगों से मुलाकात कर रहे हैं. ये इसलिए शुरु हुआ क्योंकि समीर कुमार को मारने वाले शूटर ने पुलिस को दिए अपने बयान में कहा है कि उसने बस यू हीं समीर कुमार की हत्या कर दी थी. समीर कुमार के बेटे तुषार ने जी मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि ये खुद ही समझा जा सकता है कि आज की तारीख में कोई किसी को यूं ही क्यों मार देगा. कोई किसी को एके 47 से बिना किसी वजह के क्यों मार सकता है. 

तुषार ने कहा है कि उनके पिता से किसी का कोई विवाद नहीं था. हत्याकांड से पहले वो काफी खुश थे. सारी चीजें बेहतर होने और सबके साथ संबंध और बेहतर होने की खुशी उनके चेहरे पर थी. समीर कुमार ने कभी अपने परिवार वालों से किसी से डर या भय की बात नहीं कही थी. समीर कुमार के बेटे ने बताया कि उनके पिता कांग्रेस के टिकट पर चुनाव भी लडना चाहते थे. 

जमीन से संबंधित कारोबार और विवाद को लेकर तुषार ने कहा कि जमीन से जुड़ा कारोबार कौन नही करता है. पिता भी करते थे लेकिन इसके लिए कोई उनकी जान ले लेगा ये समझ नहीं आता.  तुषार भारद्वाज ने कहा है कि उन्होनें मामले को लेकर सीएम नीतीश कुमार और डीजीपी से भी मुलाकात की है. पुलिस को चाहिए कि सिर्फ शूटर को गिरफ्तार कर मामले को खत्म न करे बल्कि मामले के मुख्य अभियुक्त तक पहुंचे.