close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: सरकारी अनाज से लदी ट्रक थाने से हो गई चोरी, पुलिस को भनक तक नहीं लगी

मामला उजागर होने के बाद पुलिस महकमे के अधिकारियों के होश उड़ गए. हैरानी की बात तो यह है की एमवीआई के द्वारा जिस वाहन को जब्त कर नगर थाने को सुपुर्द किया गया था, उसके गायब होने की सूचना भी अब तक नगर थाने के द्वारा परिवहन विभाग को नहीं दी गई है.

बिहार: सरकारी अनाज से लदी ट्रक थाने से हो गई चोरी, पुलिस को भनक तक नहीं लगी
समस्तीपुर नगर थाने से ट्रक की चोरी.

समस्तीपुर: बिहार के समस्तीपुर (Samastipur) में लगातार हो रहे अपराधिक वारदातों से जहां अब तक आम लोग परेशान थे वहीं, अब पुलिस ने भी इन अपराधियों के आगे पूरी तरह हथियार डाल दिया है. इसका नतीजा है कि पुलिस (Bihar Police) अब अपने सामान की सुरक्षा भी नहीं कर पा रही है. नगर थाने को सुपुर्द की गई सरकारी अनाज से लदी ट्रक थाने से गायब हो गई और पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी.

एमवीआई पदाधिकारी के द्वारा 9 अक्टूबर को जांच के दौरान एसएफसी (SFC) के अनाज से लदे ट्रक को ओवरलोडिंग के आरोप में पकड़ा गया था. जांच के दौरान वाहन चालक के द्वारा समुचित कागजात नहीं दिखाए जाने के बाद एमवीआई ने ट्रक को सीज कर नगर पुलिस के हवाले कर दिया था. देर रात नगर थाना परिसर से वह अनाज लदा ट्रक गायब हो गया.

मामला उजागर होने के बाद पुलिस महकमे के अधिकारियों के होश उड़ गए. हैरानी की बात तो यह है की एमवीआई के द्वारा जिस वाहन को जब्त कर नगर थाने को सुपुर्द किया गया था, उसके गायब होने की सूचना भी अब तक नगर थाने के द्वारा परिवहन विभाग को नहीं दी गई है.

नगर थाने से जब्त की गई गाड़ी के गायब हो जाने के मामले में जिला मोटर व्यवसायी संघ के सचिव संजय कुमार सुमन कहते हैं कि एमवीआई के द्वारा ट्रक को जब्त किए जाने की सूचना कार्यालय से उन्हें भी दी गई थी. ट्रक एसएफसी का अनाज लेकर मोहिउद्दीननगर जा रही थी. जिस गाड़ी का परिचालन एसएफसी से हो रहा था उसका टैक्स 2017 दिसंबर माह से ही फेल था.

इतना ही नही फिटनेस से लेकर इंश्योरेंस और परमिट भी नहीं थी. गाड़ी में किसी भी तरह के वैध कागजात उपलब्ध नहीं थे. गाड़ी का मालिक भी स्थानीय नहीं था बल्कि वह झारखंड के धनबाद का रहने वाला है. इसलिए वाहन को जब्त कर नगर थाने को सुपुर्द कर दिया गया था.

थाना परिसर से सरकारी अनाज लदे ट्रक का गायब होना यह बहुत अहम मुद्दा है. पुलिस के लिए अब उस अनाज और ट्रक की रिकवरी करना एक बड़ी चुनौती है. वहीं, एसएफसी और एफसीआई सरकारी अनाज ढुलाई में जो भी वाहन चलते हैं जिस समय उसका एग्रीमेंट ठेकेदार के द्वारा किया जाता है उस वक्त ही वाहन के वैध कागजात को जमा कराया जाता है. एसएफसी के द्वारा बिना कागजात अनाज की ढुलाई कैसे हो रही थी यह भी जांच का विषय है. ऐसे में एसएफसी के अधिकारी भी संदेह के घेरे में हैं. 

वहीं, इस मामले पर एसएफसी के जिला प्रबंधक का बताना है कि ट्रक एसएफसी गोदाम से अनाज लेकर मोहिउद्दीननगर जा रही थी. रास्ते में एमवीआई के द्वारा वैध कागजात नहीं होने के कारण उसे जब्त कर थाने को सुपुर्द किया था. अब एसएफसी के द्वारा परिवहन अभिकर्ता विक्रम चौधरी के खिलाफ नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. वहीं, नगर थानाध्यक्ष के द्वारा भी एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई है.