close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गिरिडीह, धनबाद, जमशेदपुर और सिंहभूम लोकसभा सीट के लिए थमा प्रचार, 12 मई को वोटिंग

मुख्य निर्वाचन अधिकारी विनय कुमार चौबे ने कहा कि झारखंड में तीसरे चरण के लिए 12 मई को होनेवाले चुनाव को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं और इसके लिए लगभग 40 हजार सुरक्षकर्मियों को तैनात किया गया है.

गिरिडीह, धनबाद, जमशेदपुर और सिंहभूम लोकसभा सीट के लिए थमा प्रचार, 12 मई को वोटिंग
12 मई को डाले जाएंगे वोट. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

रांची : झारखंड में तीसरे चरण में चार लोकसभा सीटों के लिए 12 मई को मतदान होगा जिसके लिए चुनाव प्रचार शुक्रवार शाम संपन्न हो गया. चुनाव के लिए 8300 मतदान केंद्रों बनाए गए हैं जहां 66,85,401 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करके 67 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे.

निर्वाचन अधिकारी एल खियांग्ते ने बताया कि झारखंड में तीसरे चरण (भारत निर्वाचन आयोग के छठा चरण) में गिरिडीह, धनबाद, जमशेदपुर और सिंहभूम (अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित) लोकसभा सीट के लिए 12 मई को होनेवाले मतदान को शांतिपूर्ण, निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से संपन्न कराने के लिए सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं और शुक्रवार शाम चुनाव प्रचार संपन्न हो गया.

एल खियांग्ते ने कहा कि इन चार सीटों के लिए कुल 8300 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. इसमें 2582 मतदान केंद्र शहर और 5718 मतदान केंद्र ग्रामीण इलाके में हैं. इन मतदान केंद्रों पर कुल 66,85,401 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. मतदान सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक होगा.

इनमें 35,05,565 पुरुष, 31,79,720 महिला और थर्ड जेंडर के 104 मतदाता है. इसके अलावा 84,338 नए मतदाता (18-19 साल के) पहली बार अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. उन्होंने बताया कि नए मतदाताओं में 49,727 पुरुष, 34,604 महिला और 7 थर्ड जेंडर के हैं. इन चारों सीट के लिए कुल 67 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं जिनमें 57 पुरुष और 10 महिला प्रत्याशी शामिल हैं.

उन्होंने बताया कि सर्वाधिक 23 प्रत्याशी जमशेदपुर सीट से चुनाव मैदान में हैं. धनबाद के लिए 20, गिरिडीह के लिए 15 और सिंहभूम के लिए नौ प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. जहां नबाद में बीजेपी के सांसद पीएन सिंह का मुकाबला कांग्रेस उम्मीदवार कीर्ति आजाद से है वहीं जमशेदपुर में बीजेपी के सांसद बिद्युत बरण महतो का मुकाबला झारखंड मुक्ति मोर्चा के चंपई सोरेन से है. सिंहभूम से राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और भ्रष्टाचार के आरोपी मधु कोड़़ा की पत्नी गीता कोड़ा कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं जबकि उनके मुकाबले वहां से बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ मैदान में हैं.

इसके अलावा गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी समर्थित आल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन के उम्मीदवार राज्य के जल संसाधन मंत्री चंद्रप्रकाश चैधरी का मुकाबला झारखंड मुक्ति मोर्चा के उम्मीदवार जगन्नाथ महतो से है. इस दौर की चारों सीटों पर कांग्रेस-झामुमो और झाविमो के महागठबंधन का मुकाबला सीधे बीजेपी नीत एनडीए के उम्मीदवारों से है अतः इन सीटों पर मुकाबला बहुत रोचक होने की संभावना है.

इस दौर में भी चाईबासा में स्वयं प्रधानमंत्री सिंहभूम सीट के लिए चुनाव प्रचार करने पहुंचे जबकि दूसरे ही दिन उसी मैदान में गीता कोडा के लिए चुनाव प्रचार करने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी पहुंचे. इसके अलावा बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और नितिन गडकरी भी बीजेपी के लिए चुनाव प्रचार करने पहुंचे जबकि महागठबंधन की ओर से कोई और बड़ा नेता इस दौर में यहां नहीं पहुंचा.

अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी विनय कुमार चौबे ने कहा कि झारखंड में तीसरे चरण के लिए 12 मई को होनेवाले चुनाव को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं और इसके लिए लगभग 40 हजार सुरक्षकर्मियों को तैनात किया गया है. साथ ही सभी मतदान केंद्रों पर सशस्त्र पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे, ताकि मतदाता भयमुक्त होकर मतदान कर सकें. इसके अलावा अति संवेदनशील और संवेदनशील मतदान केंद्रों में शांतिपूर्ण मतदान कराने के लिए केंद्रीय अर्धसैनिक बल के जवानों की तैनाती की गई है.

उन्होंने बताया कि झारखंड में तीसरे चरण में होनेवाले मतदान को लेकर 175 कंपनी केंद्रीय अर्धसैनिक बल, 52 कंपनी राज्य पुलिस, 20375 के लगभग जिला पुलिस, और 5972 के लगभग पुलिस अफसरों को तैनात किया गया है. उन्होंने बताया कि 3426 लाइसेंसी हथियार जमा कराये गये हैं और 229 के लाइसेंस रद्द किये गये हैं.

गिरिडीह जिले में 643, बोकारो में 591, धनबाद में 233, जमशेदपुर में 1077, वेस्ट सिंहभूम में 235 और सरायकेला-खरसावां में 647 लाइसेंसी हथियार जमा कराये गये हैं. उन्होंने बताया कि गिरिडीह में 18, जमशेदपुर में 195, वेस्ट सिंहभूम में 11 और सरायकेला-खरसांवा जिले में 5 हथियारों के लाइसेंस रद्द किए गए हैं.

चौबे ने बताया कि मतदान के दौरान आपात स्थिति से निपटने के लिए एक एयर एंबुलेंस की व्यवस्था की गई है. यह एंबुलेंस मतदान के एक दिन पूर्व से लेकर मतदान के एक दिन बाद तक आपातकालीन सेवा के लिए उपलब्ध होगी. अगर किसी इलाके में किसी तरह की कोई घटना होती है तो तत्काल राहत पहुंचाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा. इसके साथ संवेदनशील मतदान केंद्रों की निगरानी के लिए 3 हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल किया जाएगा.