BJP सांसद ने समझाया, झारखंड से क्यों उखड़ गई रघुवर सरकार, गिनाए एक-एक कारण
topStorieshindi

BJP सांसद ने समझाया, झारखंड से क्यों उखड़ गई रघुवर सरकार, गिनाए एक-एक कारण

निशिकांत दुबे ने साफ शब्दों में कहा है कि अपनों से ज्यादा बाहरियों पर भरोसा करने से पार्टी चुनाव हारी है. उन्होंने पार्टी हाईकमान को ईमानदार बताते हुए उम्मीद जाहिर की है कि आगे सब अच्छा होगा.

BJP सांसद ने समझाया, झारखंड से क्यों उखड़ गई रघुवर सरकार, गिनाए एक-एक कारण

नई दिल्ली: झारखंड विधानसभा चुनाव में रघुवर दास और उनकी सरकार की हार के बाद पार्टी के कई नेता निराश हैं. वे पार्टी को अभी से 2024 के चुनाव की तैयारी में जुटने की भी नसीहत दे रहे हैं. राज्य की गोड्डा सीट से BJP सांसद निशिकांत दुबे (Nishikant Dubey) ने चौंकाने वाला बयान दिया है. निशिकांत दुबे (Nishikant Dubey) ने साफ शब्दों में कहा है कि अपनों से ज्यादा बाहरियों पर भरोसा करने से पार्टी चुनाव हारी है. उन्होंने पार्टी हाईकमान को ईमानदार बताते हुए उम्मीद जाहिर की है कि आगे सब अच्छा होगा.

टिकट बंटवारे में हुई चूक
पार्टी सूत्रों का कहना है कि विधानसभा चुनाव में हार के बाद अब रघुवर दास के रवैये, टिकट वितरण में खेल और संगठनात्मक चूकों को लेकर पार्टी के कई नेता शीर्ष नेतृत्व को रिपोर्ट भेज रहे हैं. निशिकांत दुबे (Nishikant Dubey) ने भी अपनी रपट पार्टी नेतृत्व को भेजी है. उन्होंने रिपोर्ट में क्या लिखा है, वह सामने नहीं आया है. लेकिन फेसबुक पोस्ट में उन्होंने जो कुछ लिखा है, उससे अंदाजा लगाया जा सकता है. दुबे ने सोशल मीडिया पर उन छह खास सीटों का हवाला दिया है, जहां BJP को किसी और से नहीं, बल्कि अपने ही बागियों से हार का सामना करना पड़ा है.

बागियों के चलते हम हारे'
फेसबुक पोस्ट में दुबे ने लिखा है, 'जो झारखंड का चुनाव विश्लेषण कर रहे हैं, मुझे लगता है कि वे सभी जल्दबाजी कर रहे हैं. BJP के बागियों के कारण या कार्यकर्ताओं के आकलन के कारण हम हारे हैं. दूसरी पार्टी से आए लोगों पर हमने ज्यादा भरोसा किया. चतरा से सत्यानन्द भोक्ता, लातेहार से बैद्यनाथ राम, बहरागोडा से समीर मोंहती, बरही से उमाशंकर अकेला, बरकट्टा से अमित यादव व जमशेदपुर पूर्वी से सरयू राय आदि की जीत इसका उदाहरण है.'

गौरतलब है कि बरकट्ठा सीट पर BJP के बागी अमित यादव ने 24 हजार से ज्यादा वोटों से BJP प्रत्याशी जानकी यादव को हराया. जानकी यादव झाविमो से BJP में आए थे. इस सीट से जब अमित यादव को टिकट नहीं मिला तो वह निर्दल मैदान में उतर गए.

आजसू से गठबंधन टूटने को भी बताया हार का कारण
इसी तरह बहरागोड़ा सीट पर BJP के बागी समीर मोहंती ने 60,565 वोटों से जीतकर टिकट न देने के फैसले को गलत साबित कर दिखाया. BJP ने समीर मोहंती को नजरअंदाज कर दूसरे दल से आए कुनाल सदांगी पर भरोसा जताया था. पार्टी ने मौजूदा 13 विधायकों का टिकट काटकर दूसरे दलों से आए दो दर्जन से अधिक लोगों पर इस बार भरोसा जताया था. मगर इसमें अधिकांश उम्मीदवार हार गए.

दुबे ने चुनाव से पहले आजसू से गठबंधन टूट जाने पर भी हैरानी जाहिर की है. उन्होंने हार से जुड़ी अपनी रिपोर्ट में कहा है, 'आजसू किन कारणों से बाहर हुआ यह एक पहेली है. सुदेश महतो जी मेरे अच्छे मित्र हैं और सुलझे इंसान हैं. लड़ाई के कारण उन्होंने अपनी सबसे मजबूत सीट रामगढ़ तक गंवा दी. कुछ इंतजार करिए. पार्टी का केन्द्रीय नेतृत्व हमारा सबसे मजबूत व ईमानदार है. हमारा वोट सुरक्षित है. नई सरकार को शुभकामनाएं. 2024 की लड़ाई के लिए आज से तैयारी शुरू.'

विधानसभा चुनाव के दौरान BJP से टिकट न मिलने पर पीपुल्स पार्टी का दामन थाम लेने वाले पार्टी के वरिष्ठ नेता रहे प्रवीण प्रभाकर ने आईएएनस से कहा, 'कई गलत छवि के और अयोग्य लोगों को टिकट मिलने से ही BJP की हार हुई. संगठन की हालत मुझसे देखी नहीं गई, जिसके कारण मैंने शीर्ष नेतृत्व को चुनाव के दौरान ही आगाह कर दिया था. लेकिन कुछ सुधारात्मक पहल न होने पर मैंने पार्टी छोड़ दी. चुनाव के दौरान सर्वे के लिए लगाई गए एजेंसियों की रिपोर्ट को भी टिकट बंटवारे में नजरअंदाज कर दिया गया था.'

इनपुट: IANS

ये भी देखें-:

Trending news