छत्तीसगढ़ः धरमलाल कौशिक चुने गए नेता प्रतिपक्ष, रमन सिंह ने प्रस्तावित किया था नाम

इससे पहले नेता प्रतिपक्ष के लिए पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के नाम पर चर्चा चल रही थी, लेकिन विरोध के चलते धरमलाल कौशिक का नाम फाइनल किया गया.

छत्तीसगढ़ः धरमलाल कौशिक चुने गए नेता प्रतिपक्ष, रमन सिंह ने प्रस्तावित किया था नाम
छत्तीसगढ़ बीजेपी के अध्यक्ष और विधायक धरमलाल कौशिक चुने गए नेता प्रतिपक्ष (फोटो साभारः twitter)

रायपुरः छत्तीसगढ़ में नई सरकार बनने के बाद से नेता प्रतिपक्ष को लेकर चल रही खींचतान शुक्रवार को खत्म होने के बाद छत्तीसगढ़ बीजेपी के अध्यक्ष और विधायक धर्मलाल कौशिक को छत्तीसगढ़ विधानसभा का नेता प्रतिपक्ष चुना गया है. बताया जा रहा है कि नेता प्रतिपक्ष के लिए भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष धरमलाल कौशिक का नाम खुद पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने प्रस्तावित किया था. बता दें इससे पहले नेता प्रतिपक्ष के लिए पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के नाम पर चर्चा चल रही थी, लेकिन विरोध के चलते धरमलाल कौशिक का नाम फाइनल किया गया.

छत्तीसगढ़ सरकार ने शराबबंदी को लेकर पूर्व सरकार के अध्ययन दल की रिपोर्ट को किया खारिज

काफी बातचीत के बाद भी जब भाजपा किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी तो शुक्रवार को दिल्ली से आए पर्यवेक्षक थावरचंद गहलोत और प्रदेश प्रभारी अनिल जैन ने भाजपा कार्यालय में विधायकों की बैठक ली. इस बैठक में रमन सिंह, ननकीराम कंवर, शिवरतन शर्मा और अजय चंद्राकर समेत 15 विधायक मौजूद थे. इस मीटिंग में धरमलाल कौशिक के नाम पर सबकी सहमति बन सकी. जिसके बाद थावरचंद गहलोत और प्रदेश प्रभारी अनिल जैन ने नेता प्रतिपक्ष के रूप में धरमलाल कौशिक के नाम की घोषणा की.

वहीं नेता प्रतिपक्ष चुने जाने के बाद धरमलाल कौशिक ने कहा कि 'प्रतिपक्ष की जबावदेही के तहत हम प्रदेश की जनता की समस्याओं को सरकार के सामने रखेंगे.' वहीं विधायक दल की बैठक के बाद पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि 'संगठन नेता प्रतिपक्ष के रूप में एक नाम चाहता था, जिसके बाद सभी की सहमति पर धरमलाल कौशिक जी को नेता प्रतिपक्ष चुना गया.' वहीं केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने कहा कि 'सभी 15 विधायकों से विचार-विमर्श करने पर कौशिक जी के नाम पर सहमति बनी जिसके चलते उन्हें नेता प्रतिपक्ष बनाया गया है. धरमलाल कौशिक का नाम पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने प्रस्तावित किया था.'

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक रामपुकार सिंह बने प्रोटेम स्पीकर

बता दें इससे पहले नेता प्रतिपक्ष के चयन के लिए बैठक गुरुवार को होनी थी, लेकिन केंद्रीय पर्यवेक्षक की नियुक्ति नहीं हो पाने के कारण यह मीटिंग रद्द कर दी गई थी. जिसके बाद काफी सोच-विचार के बाद थावरचंद गहलोत और अनिल जैन को पर्यवेक्षक बनाया गया. जिसके बाद शुक्रवार को यह बैठक हो पाई.

नेता प्रतिपक्ष व बिल्हा विधायक धरमलाल कौशिक छत्तीसगढ़ में भाजपा के अनुभवी राजनीतिज्ञ हैं. वो ओबीसी वर्ग से हैं वो विधानसभा अध्यक्ष भी रह चुके है. हालांकि उसके बाद वो 2013 में चुनाव हार गये थे, जिसके बाद पार्टी ने उन्हें प्रदेश अध्यक्ष बनाया था. इस बार वो फिर से बिल्हा से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे हैं. यह साफ है, वो विधानसभा अध्यक्ष भी रहे, चुनाव हार गए तो प्रदेश अध्यक्ष बना दिए गए और अब उनके नेतृत्व में बीजेपी को बड़ी हार मिली, लेकिन फिर भी वो विधायकों के नेता चुन लिए गए.